पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

स्कूलों में शुरू होगी पढ़ाई:पहले दिन सरकारी स्कूल में पेरेंट्स के साथ पहुंचे छात्र, प्राइवेट स्कूल अभी नहीं खुले

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर के सरकारी स्कूल में पेरेंट्स के साथ स्कूल पहुंचे बच्चों के हाथ सैनिटाइज करवाते अध्यापक। - Dainik Bhaskar
जालंधर के सरकारी स्कूल में पेरेंट्स के साथ स्कूल पहुंचे बच्चों के हाथ सैनिटाइज करवाते अध्यापक।
  • अभिभावकों की सहमति की वजह से लटका स्कूल खोलने का काम

राज्य सरकार के 5वीं से 12वीं तक क्लासें शुरू करने के अचानक किए फैसले को जालंधर में पहले दिन ठंडा रिस्पांस रहा। कोरोना के चलते यह क्लासें मार्च महीने से बंद थी। हालांकि, वीरवार को पहले दिन यहां सरकारी स्कूलों में बच्चे अभिभावकों के साथ पहुंचे तो प्राइवेट स्कूल अभी नहीं खुले हैं। सरकार की तरफ से स्कूल खोलने के लिए स्पष्ट गाइडलाइंस जारी नहीं किए जाने की वजह से स्कूल प्रबंधकों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है।

PTM के चलते पहुंचे अभिभावक
लॉकडाउन के बाद रूटीन कामकाज के लिए स्कूल पहले खोले जा चुके थे। टीचर्स भी स्कूल आ रहे थे। इसे देखते हुए सरकारी स्कूलों में पहले ही 7-8 जनवरी को पेरेंट्स टीचर्स मीटिंग (PTM) रखी गई है। सरकार ने बुधवार को फैसला दिया तो सरकारी स्कूलों में वीरवार को पहुंचे अभिभावकों से स्कूल प्रबंधन बच्चे को स्कूल भेजने के लिए सहमति लेने में लगा रहा। कल भी ऐसे ही दौर चलेगा। हालांकि सरकार के फैसले का पता चलने के बाद कुछ अभिभावक अपने बच्चों को लेकर पहुंचे थे। लेकिन, फिलहाल सरकारी स्कूलों में अभी कोरोना से बचाव को लेकर भी कोई इंतजाम नहीं हैं।

सरकारी स्कूल में बच्चों और अभिभावकों का इंतजार करते शिक्षक।
सरकारी स्कूल में बच्चों और अभिभावकों का इंतजार करते शिक्षक।

प्राइवेट स्कूल प्रबंधक बोले- पर्याप्त समय नहीं दिया, गाइडलाइंस बनानी होंगी
प्राइवेट स्कूल सरकार के अचानक लिए फैसले से नाखुश हैं। उन्होंने कहा कि सरकार ने इसके लिए पर्याप्त समय नहीं दिया। कितने बच्चे आएंगे, पहले यह पता करना होगा। इसके बाद उनके लिए कोरोना की सावधानियों के साथ पढ़ाने का इंतजाम करना होगा। यह भी देखना होगा कि कितनी क्लासें लगेंगी, कितने पीरियड पढ़ाने होंगे। खासकर, ट्रांसपोर्टेशन का भी इंतजाम अलग से देखना होगा क्योंकि अगर बच्चे कम होंगे तो रूट से ट्रांसपोर्ट का पर्याप्त खर्चा नहीं निकलेगा। ऐसे में बच्चों से ज्यादा चार्ज लेने होंगे या फिर पेरेंट्स को खुद इसका इंतजाम करना होगा। बच्चे कम आएंगे तो फिर स्कूल खोलना संभव नहीं होगा।

सरकार ने पुरानी गाइडलाइंस का लिया सहारा
स्कूल खोलने के मामले में सरकार ने पुरानी गाइडलाइंस का ही सहारा लिया है। जिसमें बच्चों के बीच क्लास में 6 फुट का सोशल डिस्टेंस रखना जरूरी है। अगर बच्चे ज्यादा हों तो क्लासेज बांटनी होंगी या फिर टाइम स्लाट बनाने होंगे। सभी बच्चों को मास्क पहनना अनिवार्य है जबकि सैनिटाइजेशन के लिए पैरों से चलने वाली मशीन होनी चाहिए। इसके अलावा मेडिकल स्क्रीनिंग यानि शरीर के तापमान की भी जांच करने को कहा गया है। ऐसे में इतने इंतजाम के लिए समय न दिए जाने का असर सरकारी स्कूलों में दिखा, जहां ऐसी व्यवस्था नहीं दिखाई दी।

बच्चे बोले, स्कूल को मिस कर रहेे थे, अच्छा लग रहा
सरकारी स्कूल की स्टूडेंट अनामिका, कशिश व इशप्रीत ने कहा कि वह खुश हैं क्योंकि स्कूलों में ज्यादा अच्छी पढ़ाई हो सकेगी क्योंकि ऑनलाइन के मुकाबले टीचर्स ज्यादा अच्छे से समझाएंगे। ऑनलाइन में इंटरनेट की भी समस्या होती थी, ऐसे में परेशानी होती थी। अब स्कूल को मिस कर रहे थे। टीचर्स का कहना है कि दो दिन PTM के बाद सोमवार से स्कूल खुलेंगे, तब तक पढ़ाई के इंतजाम कर लिए जाएंगे। प्राइवेट स्कूल भी 15 के बाद खुलने की उम्मीद है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज आप बहुत ही शांतिपूर्ण तरीके से अपने काम संपन्न करने में सक्षम रहेंगे। सभी का सहयोग रहेगा। सरकारी कार्यों में सफलता मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए सुकून दायक रहेगा। न...

और पढ़ें