रेल लाइन प्रोजेक्ट:जालंधर-लुधियाना सेक्शन में इलेक्ट्रॉनिक लाइन का काम शुरू, 2024 से नहीं चलेंगी डीजल से ट्रेनें

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • 25 हजार केवी की लाइन बिछाई जा रही, जल्द ओएचई वायर से दाैड़ेगी ट्रेन

जालंधर और लुधियाना सेक्शन में इलेक्ट्रॉनिक रेल लाइन प्रोजेक्ट का काम शुरू हा़े चुका है। यह प्रोजेक्ट 500 करोड़ का है। पंजाब में इस पर काम 2024 तक पूरा हाेगा। लाइन बिछने के बाद सूबे में डीजल की ट्रेनाें काे बंद कर दिया जाएगा। ओएचई वायर के साथ पटरी पर इलेक्ट्रॉनिक ट्रेन दाैड़ेगी। इलेक्ट्रॉनिक रेल लाइन का प्रोजेक्ट गुजरात की कलपतरू पावर ट्रांसमिशन लिमिटेड कंपनी काे दिया है।

बता दें कि डीजल से चलने वाली डीएमयू ट्रेन की एवरेज 4-5 किलाेमीटर है। जबकि एक्सप्रेस ट्रेनाें की एवरेज 6 से 7 किलाेमीटर हाेती है। इलेक्ट्रॉनिक रेल लाइन चालू हाेने के बाद डीजल का खर्च बच सकेगा। कंपनी के इंजीनियर अमित शर्मा का कहना है कि 2024 तक इलेक्ट्रॉनिक ट्रेनाें का संचालन शुरू हो जाएगा।

11 हजार केवी पर नहीं दाैड़ सकती हाई पावर इंजन वाली रेल

पहले कम पावर इंजन की ट्रेनाें का संचालन हाेता था जिसके लिए 11 हजार केवी की लाइन बिछाई गई। समय में बदलाव के साथ रेलवे द्वारा नए हाई पावर के रेल इंजन तैयार किए गए जाे 11 हजार की केवी लाइन पर चलने में सक्षम नहीं है। इसके लिए 11 हजार की लाइनाें काे बदलकर 25 हजार केवी की लाइन बिछाई जा रही है।

इन रूटों पर होना है काम

जालंधर से नकोदर रूट पर काम शुरू है। यहां काम खत्म होने के बाद जालंधर-कपूरथला, सुल्तानपुर लोधी, गिद्दरपिंडी, जोगीवाला, महालम रूट का काम होगा। इसके अलावा लायलपुर खालसा काॅलेज, जमशेर खास, फिरोजपुर, लुधियाना लाइन पर काम चलेगा। फिरोजपुर से लोहिया खास, नकोदर से होते हुए फिल्लौर तक ओएचई वायर बिछाई जाएगी। फिरोजपुर सिटी से लुधियाना और अबोहर, चूडीवाल, जंडियाला, फाजिल्का से होते फिरोजपुर सिटी तक काम हाेगा। फाजिल्का से कोटकपुरा तक ओएचई वायर लाइन हाेगी।

खबरें और भी हैं...