• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • ETT Teachers Hold Protest Against BJP Led Center Government, Told Won The War With The Punjab Government, Now It Is The Turn Of The Central Government In Delhi

जालंधर में BJP ऑफिस का घेराव:बेरोजगार अध्यापक बोले- पंजाब सरकार से तो जंग जीत ली, अब दिल्ली में केंद्र सरकार की बारी है

जालंधर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर के लाजपत नगर में बीजेपी  ऑफिस के बाहर प्रदर्शन करते ईटीटी टेट पास बेरोजगार अध्यापक। - Dainik Bhaskar
जालंधर के लाजपत नगर में बीजेपी ऑफिस के बाहर प्रदर्शन करते ईटीटी टेट पास बेरोजगार अध्यापक।

ईटीटी टेट पास बेरोजगार अध्यापक यूनियन ने आज जालंधर में केंद्र की भाजपा सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। बेरोजगार अध्यापकों ने बस अड्डे से रोष प्रदर्शन शुरू किया और हाल ही में खुले भारतीय जनता पार्टी के दफ्तर का घेराव करने पहुंच गए। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जिस तरह केंद्र सरकार ने कृषि के लिए काले कानून बनाए थे, ऐसे ही अब ईटीटी टेट पास अध्यापकों के लिए काले कानून बना डाले हैं।

नैशनल काउंसिल ऑफ एजुकेशन एंड ट्रेनिंग ने नया कानून लागू कर दिया है कि बीएड पास अध्यापक भी ईटीटी के लिए पात्र होगा। जब ईटीटी का कैडर ही अलग है तो फिर उनके पदों को खत्म करने के लिए ऐसा कानून क्यों बनाया जा रहा है। जैसे किसानों ने कृषि कानूनों को वापस लेने के लिए केंद्र सरकार को मजबूर किया था, वैसे ही अब ईटीटी अध्यापक भी इन्हें मजबूर करेंगे कि वह काले कानून को रद्द करें। अभी तक अध्यापक पात्रता परीक्षा पास करके बैठे अध्यापकों को नौकरी मिली नहीं, केंद्र सरकार नया कानून पास करके उनके रोजगार पर लात मारने की कोशिश कर रही है।

पंजाब सरकार ने 16 हजार पदों को दिखाई हरी झंडी

भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ रोष प्रदर्शन कर रहे ईटीटी टेट पास अध्यापकों से जब पंजाब सरकार के खिलाफ प्रदर्शन बंद करके केंद्र की भाजपा सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने के बारे में पूछा तो उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार से उन्होंने जंग जीत ली है। पंजाब सरकार ने 16 हजार पदों को हरी झंडी दिखा दी है। लेकिन जब तक उन्हें नौकरी नहीं मिल जाती, तब तक पंजाब सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। वह पंजाब सरकार से जंग जीते हैं तो अब केंद्र सरकार ने उनके आगे अंड़गा डाल दिया है।

केंद्र सरकार ने उनके पदों को खत्म करने की कवायद शुरू कर दी है। बीएड पास छठी जमात से आगे बच्चों को पढ़ाने के लिए है। उनका कैडर टीजीटी (कला या साइंस) से शुरू होता है और पीजीटी तक जाता है। जबकि प्राइमरी की क्लासों को पढ़ाने के लिए ईटीटी अध्यापकों को कैडर है। अब नौकरी उन्हें ही दी जानी चाहिए, जिनका हक बनता है और जिनका कैडर है। लेकिन सरकार काले कानून बनाकर सभी में फूट डालने की राजनीति कर रही है।

भाजपा नेताओं का करेंगे विरोध

बेरोजगार ईटीटी टेट पास अध्यापकों ने कहा कि जब तक केंद्र सरकार काला कानून वापस नहीं लेती और उनका मसला हल नहीं होता, वह पंजाब में भाजपा के नेताओं का विरोध करेंगे। भाजपा के नेता जहां भी किसी रैली या जनसभा में जाएंगे, वहां पर ईटीटी टेट पास अध्यापक उनका विरोध करने के लिए पहुंचेगे। फिरोजपुर में जो प्रधानमंत्री की रैली होने जा रही है, वहां पर भी बेरोजगार ईटीटी अध्यापक रोष और विरोध जताने के लिए जाएंगे।

बेरोजगार अध्यापकों से मिले गजेंद्र शेखावत

भाजपा दफ्तर के बाहर नारेबाजी कर प्रदर्शन कर रहे ईटीटी टेट पास अध्यापकों से मिलने के लिए भाजपा पंजाब के चुनाव प्रभारी एवं केंद्रीय मंत्री गजेंद्र शेखावत पहुंचे। शेखावत ने विरोध प्रदर्शन कर रहे बेरोजगार अध्यापकों की समस्या को सुना। उन्होंने आश्वासन दिया कि यदि केंद्र सरकार से जुड़ा कोई मसला है तो वह उसे हल करवाएंगे। उन्होंने कहा कि जिस मसले की आप बात कर रहे हैं वह सुप्रीम कोर्ट में विचाराधीन रहैं। उन्होंने कहा कि यदि केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान से आप लोगों ने बात करनी है तो आप पांच लोगों की कमेटी बना लें। छह तारीख के बाद जब चाहें चल पड़ें। इस अवसर पर उनके साथ केंद्रीय मंत्री सोम प्रकाश भी थे।