बाढ़ आने वाली है / बांध की मरम्मत को खेतों से निकाली जा रही मिट्टी, डीसी के सामने लाठी-डंडे लेकर किसानों ने जताया विरोध

Farmers protest against the repair of the dam with soil being removed from the fields, sticks in front of DC
X
Farmers protest against the repair of the dam with soil being removed from the fields, sticks in front of DC

  • बांध की मरम्मत के लिए मांगे थे 1.07 करोड़, मिले सिर्फ 1.60 लाख
  • किसानों ने कहा- जमीन छीनने की बजाय हमें गोली मार दें पर दरिया के बीच आबाद की गई जमीन खाली नहीं करेंगे

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 04:00 AM IST

जालंधर. धुस्सी बांध के फिल्लौर एरिया में आने वाले 4 पॉइंट बेहद कमजोर हैं। इन्हीं जगहों पर पिछले साल पानी के प्रवाह ने आस पास के गांवों में तबाही मचाई थी, इस बार पहले से ही संबंधित विभाग के द्वारा 1.07 करोड़ रुपए की डिमांड भेजी गई थी, जिसमें सरकार की ओर से कोविड-19 के चलते केवल 13 लाख रुपए मंजूर किए गए हैं। मानसून आ चुका है, अब तक विभाग को 1.60 लाख मिल पाए हैं। प्रशासन गांव गिद्दड़पिंडी के निकट रेलवे पुल के नीचे से मिट्टी निकलवा कर बांध को मजबूत करने में जुटा है। 

इसको लेकर किसानों के दो पक्ष आमने सामने आ गए हैं। एक पक्ष में वो किसान हैं, जिनकी मिट्टी उठाने से फसलें खराब हो जाती हैं, दूसरा पक्ष वह हैं जो बाबा सीचेवाल के साथ बांध को मजबूत करने में लगा है। दोनों पक्ष मंगलवार को डीसी घनश्याम थोरी के सामने ही लाठी-डंडे लेकर आ गए।

उग्र होते किसानों को देख जिला प्रशासन की ओर से दोनों पक्षों को समझा बुझाकर शांत करा दिया गया, लेकिन डीसी के वहां से जाते ही एक किसान बलजिंदर सिंह को पुलिस ने उठा लिया। इस दौरान पुलिस की किसानों से भिड़ंत हो गई। इस संबंध में डीसी ने दोनों पक्षों को 1 जुलाई  बुधवार को जालंधर बुलाया है।
किसानों का कहना है कि 15 साल पहले स्थानीय प्रशासन और किसानों के साथ एक समझाैता हुआ था। किसानों का आरोप है कि इसके बाद भी प्रशासन की ओर से खेतों से मिट्टी निकालने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि जमीन छीनने की बजाय हमें गोली मार दें, पर दरिया के बीच आबाद की गई जमीन को खाली नहीं किया जाएगा।

ऐसी स्थित में भले ही जिला प्रशासन बांध को मजबूत बनाने के बड़े-बड़े दावे किए जा रहे हैं, लेकिन आने वाले दिनों में हकीकत कुछ और ही देखने को मिल सकती है। एक्सईएन ड्रेनेज विजय गर्ग का कहना है कि उन्होंने अपने एरिया का काम लगभग पूरा करा दिया है। इस बार पहले जैसी स्थिति नहीं होगी। डीसी घनश्याम थोरी ने मंगलवार को गांव इस्मायलपुर, जानिया चाहल और गिद्दड़पिंडी में काम का जायज़ा लिया। यहां एसडीएम संजीव कुमार शर्मा, डीआरओ जसनजीत सिंह, इकबालजीत सिंह, कार्यकारी इंजीनियर अजीत सिंह राय मौजूद रहे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना