किसानों ने फगवाड़ा में लुधियाना-जालंधर हाईवे किया जाम:पुलिस प्रशासन ने शुगर मिल से होकर जाने वाला रूट डायवर्ट किया; किसान बोले- लंबा चलेगा आंदोलन

जालंधर/फगवाड़ा6 महीने पहले
फगवाड़ा में शूगर मिल के सामने हाईवे पर धरना देते किसान

यदि आप लुधियाना से जालंधर की तरफ जा रहे हैं आ रहे हैं तो आपको हाईवे पर परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। जालंधर औऱ लुधियाना के मध्य फगवाड़ा में शूगर मिल के सामने हाईवे पर आज सुबह 9 बजे से किसान धरना लगाकर बैठ गए हैं। यह धरना एक दिन या कुछ घंटों का सांकेतिक नहीं बल्कि स्थाई है। किसानों का चीनी मिल की तरफ करोड़ों रुपए बकाया है और वे उसके भुगतान की मांग कर रहे हैं। किसानों फिलहाल हाईवे की एक लेन लुधियाना से जालंधर वाली रोकी है। किसान नेताओं का कहना है कि यदि सरकार ने न मानी तो हाईवे की दूसरी लेन ही नहीं बल्कि पूरे पंजाब में सड़कें जाम कर दी जाएंगी।

धरने को देखते हुए जिला कपूरथला के तहत आते सब डिवीजन फगवाड़ा के पुलिस प्रशासन ने रूट डायवर्ट कर दिए हैं। ट्रैफिक इंचार्ज फगवाड़ा अमन कुमार ने बताया कि किसानों के धरने के मद्दे नजर एसएसपी कपूरथला एसपी तथा फगवाड़ा प्रशासन ने ट्रैफिक डायवर्ट रूट प्लान जारी किया है। जिसके तहत जालंधर से दिल्ली जाने वाले ट्रैफिक को मेहटां बाइपास से भुल्लाराई, रोड से भेजा जाएगा। लाइट व्हीकल को मेहली बाइपास से हरगोबिंद नगर से जीटी रोड पर डायवर्ट किया गया है।

रूट मैप
रूट मैप

हैवी व्हीकल बंगा से डायवर्ट किए गए हैं। इसी तरह जंडियाला से जाने वाला ट्रैफिक वाया हदियाबाद, गंढवा, मेहटां से एलपीयू होते हुए जालंधर डायवर्ट किया गया है। लुधियाना से जालंधर जाने वाला हैवी व्हीकल फिल्लौर- नूरमहल जंडियाला से होते हुए जालंधर, इसी तरह लाइट व्हीकल फगवाड़ा के गांव मौली से हदिया बाद गंढ व मेहटां एलपीयू से होते हुए जालंधर पहुंचेगा।

शूगर मिल के बाहर बैरिकेड लगाकर बंद किया गया हाईवे
शूगर मिल के बाहर बैरिकेड लगाकर बंद किया गया हाईवे

शूगर मिल पर किसानों का 72 करोड़ बकाया

संयुक्त किसान मोर्चा के बैनर तले किसान शूगर मिल से गन्ने का बकाया न मिलने के विरोध में प्रदर्शन करने जा रहे हैं। किसानों का कहना है कि मिल के पास किसानों का 72 करोड़ रुपया बकाया फंसा हुआ है। सरकार से भी कई बार कह कर देख लिया लेकिन कोई हल नहीं निकल पा रहा है। सरकार के मंत्री से लेकर मुख्यमंत्री तक आश्वासन पर आश्वासन देते हैं लेकिन पैसा कोई नहीं दिलवा पा रहा है। किसानों का कहना है कि उनका करोड़ों रुपया मिल के पास फंसा हुआ है लेकिन ना तो सरकार इसे गंभीरता से ले रही है और ना ही शूगर मिल के प्रबंधक पैसे देने का नाम ले रहे हैं।

दोआबा किसान यूनियन के प्रधान मनजीत सिंह ने कहा कि प्रदेश की भगवंत मान सरकार अफसरों के कहने पर चल रही है। प्रदेश में सरकार किसानों के हित रखने में पूरी तरह से असफल साबित हो रही है। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों भगवंत मान के साथ बकाया राशि को लेकर बैठक भी हुई थी। मुख्यमंत्री ने कहा कि मिल के एसेट कुर्क कर किसानों को गन्ने की अदायगी की जाएगी। लेकिन अगले ही दिन उनका फैसला पलट गया।

धरने में किसानों को संबोधित करते यूनियन के नेता
धरने में किसानों को संबोधित करते यूनियन के नेता

किसान नेता ने कहा कि धरने की आज फगवाड़ा में शुरुआत की गई है। हाईवे की सिर्फ लुधियाना-जालंधर वाली लेन रोकी गई है। यदि सरकार ने मानी तो अब हाईवे की दूसरी लेन भी रोकने के साथ-साथ पंजाब की सभी सड़कें और हाईवे जाम करने पर मजबूर होना पड़ेगा। दोआबा किसान यूनियन के प्रधान मनजीत सिंह राय ने कहा कि धरने पर आने वाले किसान पूरी तैयारी के साथ आएं। वह ट्रालियों पर तिरपाल लगाकर रात को सोने के लिए बैड और बिस्तर भी साथ ही लेकर आएं। उन्होंने कहा कि गन्ने की अदायगी को लेकर उनका यह धरना अनिश्चितकाल के लिए है। जब किसानों के खाते में पैसे नहीं आते वह धरने से नहीं उठेंगे।

उन्होंने कहा कि करोड़ों रुपए किसानों के मिल के पास फंसे हैं। किसानों को बैंकों से लिए कर्ज पर ब्याज पड़ रहा है। उनका रोम-रोम कर्ज में डूबा है लेकिन सरकार को इसकी बिल्कुल भी परवाह नहीं है। सरकार चाहे मिल की कुर्की करवा कर पैसे दे, लेकिन इस बार किसान खातों में पैसा आने के बाद ही धरने से उठेंगे।