जालंधर में जानलेवा हुआ कोरोना:महामारी से 5 की मौत, 779 नए पॉजिटिव मामले आए सामने, लोगों में दहशत

जालंधर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो

पंजाब के जालंधर जिले में कोरोना जानलेवा साबित होने लगा है। महामारी ने जिले में पांच लोगों की जान ले ली है। कोरोना के कारण हो रही लगातार मौतों से लोगों में दहशत का माहौल पनपना शुरू हो गया है। मंगलवार की अपेक्षा बुधवार को कोरोना का प्रकोप भी बढ़ा है। जिले में कोरोना के मामले बढ़ने के साथ ही एक्टिव केसों का ग्राफ भी बढ़ता जा रहा है। आज कोरोना के जिले में एक्टिव केस 4340 रिपोर्ट हुए हैं।

जालंधर में मंगलवार को कोरोना के 548 मामले सामने आए थे, लेकिन बुधवार को आंकड़ा 779 पर जा पहुंचा है। जबकि सोमवार को तो 1259 कोरोना पॉजिटिव केसों के साथ पिछले सारे रिकार्ड ही टूट गए थे। इसी महीने में अभी तक अधिकतम कोरोना का सर्ज पच्चीस प्रतिशत को छूकर पीछे लौटा है।

मंगलवार को यह सर्ज चौदह प्रतिशत से अधिक था, लेकिन आज इसमें फिर से इजाफा हुआ है और उन्नीस और बीस प्रतिशत के बीच है। पिछले कल यह पंद्रह प्रतिशत की दर 3884 टेस्टों के आधार पर थी, जबकि आज उन्नीस प्रतिशत से ज्यादा दर 4004 सैंपलों की टेस्ट पर ही आ गई है।

स्वास्थ्य विभाग ने 2229 लोगों के सैंपल लेकर आरटीपीसीआर टेस्टिंग के लिए लैब को भेज थे। इनमें से 777 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। मौके पर कोरोना जांच के लिए रैपिड एंटीजन टेस्ट 1757 लोगों के किए गए। इनमें से 130 की रिपोर्ट पॉजिटिव मिली। जबकि ट्रूनेट टेस्ट 18 की किया गया, जिसमें से नौ पॉजिटिव पाए गए। वैसे आज कुल 916 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है लेकिन इनमें से 137 लोग जिनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आई वह बाहरी स्थानों के हैं।

जिला जालंधर में अभी तक 1955006 के सैंपल लैब में टेस्टिंग के लिए भेजे गए, जिनमें से 34478 किन्ही कारणों से खराब पाए और इनका कोई रिजल्ट नहीं आ पाया। लेकिन कुल लिए गए सैंपलों में से 71124 की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। यदि ठीक होने वालों की बात करें तो अभी तक 65366 लोग कोरोना से ठीक होकर घर जा चुके हैं। अभी तक जिले में 1518 लोग कोरोना की वजह से अपनी जान गवां चुके हैं, जबकि 1967 लिए गए सैंपल ऐसे हैं जिनकी अभी तक कोई रिपोर्ट नहीं आई। यह सैंपल वेटिंग सूची में हैं।

अब रोज कोरोना से मरने वालों की बुरी खबर

यहां पर पर सबसे ज्यादा डराने वाली बात यह है पिछले करीब चार दिनों से कोई दिन ऐसा नहीं बीत रहा है जिस दिन कोरोना महामारी के कारण एक दो या तीन मरीज मरे न हो। लगातार मरीजों के मरने का क्रम शुरू हो गया है। यह क्रम जनवरी महीने में पांच तारीख से शुरू हुआ है। नए साल में पहली मौत जनवरी महीने में जालंधर के लक्ष्मीपुरा निवासी बाडी बिल्डर की हुई थी। इसके बाद एक 68 साल की महिला जिसने वैक्सीनेशन भी नहीं करवा रखी थी की मौत हुई। इसके बाद कोरोना से मरने वालों का सिलसिला लगातार जारी है। अब तक जिले में 1518 लोगों की कोरोना महामारी के कारण मौत हो चुकी है।

खबरें और भी हैं...