पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दुआ करें सब जल्दी ठीक हो:काेराेना काल में 4 गुना बढ़ा अंतिम संस्कार के सामान का काराेबार दुकानदार बाेले-भगवान भला करे, ऐसे न बढ़े हमारी दुकानदारी

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सिटी के श्मशानघाट में जल रही चिताएं। - Dainik Bhaskar
सिटी के श्मशानघाट में जल रही चिताएं।
  • सामान्य दिनों में 3 से 4 अंत्येष्टि का सामान बिकता था, 22 दिनों से रोजाना बिक रहीं 10 से 12 किटें

काेराेना की दूसरी लहर ने आमजन काे परेशान कर दिया है। संक्रमण के मामले बढ़ने के साथ ही मौतों के आंकड़ों में भी बढ़ोतरी हुई है। इन सबके बीच शवों के अंतिम संस्कार के सामान की बिक्री अाैसतन 4 गुना तक बढ़ गई है।

आम दिनों में प्रतिदिन एक दुकान से 3 से 4 अंत्येष्टि का सामान बिकता था, मगर बीते दाे माह में संख्या 10 से 11 तक पहुंच चुकी है। काेराेना से हाे रही मौतों से दुकानदार भी आहत हैं, उनका कहना है कि सुख-जीवन का हिस्सा हैं लेकिन ऐसे उनकी दुकानदारी न बढ़े। वे कामना करते है कि जल्द कोरोना खत्म हो जाए। वहीं, पिछले दाे महीनों में अंतिम चादरें भी कई बिक चुकी हैं।

कोविड के चलते एक जैसी तैयार की जा रहीं किटें

हरनामदासपुरा इलाके में 60 वर्षीय पंडित शाम लाल बताते हैं कि उनकी दुकान करीब 16 साल पुरानी हैं। उन्होंने पहले कभी ऐसा नहीं देखा कि किसी बीमारी से इतनी ज्यादा लाेगाें की जानें गई हैं। उन्होंने कहा कि पिछले 20-22 दिनाें में रोजाना 10 से 12 लोग अंत्येष्टि का सामान लेने आ रहे हैं। शाम लाल कहते हैं कि ऐसा किसी के साथ न हाे, भगवान सभी का भला करें। मॉडल टाउन एरिया के सचिन कुमार बताते हैं कि मिनी लॉकडाउन के कारण ज्यादातर दुकानें बंद हैं। इस वजह से वे भी अपनी दुकान बंद रखते है। मांग के अनुसार लोगों को अंत्येष्टि का सामान मुहैया करवा देते हैं।

वे ईश्वर से प्रार्थना करते हैं कि जल्द से जल्द इस बीमारी का खात्मा हो। जिक्रयोग है कि अप्रैल 2020 से अब तक यानी करीब एक साल के दरम्यान मार्च 2021 में अंतिम संस्कार के सामान की बिक्री करीब 6 गुना बढ़ गई है। दुकानदारों का कहना है कि पहले जहां लाेग शव के लिए अलग-अलग सामान बंधवाते थे, वहीं अब दाह संस्कार करने के लिए कोविड-19 की गाइडलाइन काे ध्यान में रखकर एक जैसी ही किट तैयार की जाती है।

खबरें और भी हैं...