पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

पुलिस ने चार लोगों के खिलाफ केस किया दर्ज:लोन दिलाने के बहाने महिला के नाम पर 3 एक्टिवा फाइनेंस कराई

नकोदर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

चार लोगों ने 10 हजार का सरकारी लोन दिलाने के बहाने महिला के नाम पर 3 एक्टिवा फाइनेंस करवा ली। इसकी पोल तब खुली, जब कोरियर से महिला के घर तीनों वाहनों की आरसी पहुंची। महिला ने तुरंत पुलिस को शिकायत कर दी। आरोपियों में एजेंसी मैनेजर भी शामिल है। नकोदर सिटी पुलिस ने जांच के बाद सभी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।सुंदर नगर मोहल्ले की मंजू देवी ने बताया कि मोहल्ला गुरुनानकपुरा की रणजीत कौर ने 5 साल पहले उसका लोन कराया था। लॉकडाउन की वजह से बेटे का काम ठप हुआ तो रणजीत कौर ने उसे किसी सरकारी स्कीम के बारे में बताते हुए कहा कि वह 10 हजार का लोन करवा देगी। इसके लिए आधार कार्ड से जनधन बैंक खाता खुलवाना होगा। बैंक खाता खोलने के बाद चेक बुक मिली तो रणजीत कौर ने चेक पर उसका अंगूठा लगवा लिया।

उसी दिन रणजीत उसे लांबड़ा में एजेंसी में ले गई। वहां पहले ही एजेंसी का मैनेजर बलविंदर सिंह, एलएनटी फाइनेंस कर्मी राहुल गुगलानी व सन्नी मौजूद थे। इसके बाद उसे नई स्कूटी के आगे खड़ा कर फोटो खींचने लगे। उसे साढ़े 4 हजार रुपए दे दिए। इसके बाद रणजीत कौर व सन्नी उसे जालंधर बस स्टैंड ले गए। वहां एक और एक्टिवा के साथ उसकी फोटो खींची और 5 हजार रुपए देकर लौटा दिया।

रणजीत कौर ने उसके मोबाइल से सिम कार्ड निकाल लिया जो उसने एक हफ्ते बाद लौटाया। अप्रैल के अंत में कोरियर से एक्टिवा की तीन रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट (आरसी) आए। तब उसे पता चला कि उसके नाम पर तीन स्कूटी फाइनेंस कराई गई हैं। उसके घर बैंक के कर्मचारी किश्तें लेने के लिए आने लगे। बेटे पंकज को घर के बाहर बुलाकर आरसी देने को कहा और इनकार करने पर आरोपियों ने उसके साथ मारपीट की। पुलिस ने मामले की जांच करने के चार आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

खबरें और भी हैं...