पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मीटिंग में निर्णय हाेगा, कार्यालय खुलेंगे या नहीं:मुलाजिम के अवकाश से सरकार को हो चुका है 14 करोड़ के नुकसान

जालंधर23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मुलाजिमों के अवकाश के चलते खाली पड़े दफ्तर। - Dainik Bhaskar
मुलाजिमों के अवकाश के चलते खाली पड़े दफ्तर।
  • यूनियन की मीटिंग में निर्णय हाेगा कि साेमवार काे कार्यालय खुलेंगे या नहीं

डीसी इंप्लाइज यूनियन और राजस्व डिपार्टमेंट में तैनात कर्मचारी बीते साेमवार से सामूहिक अवकाश पर हैं। अवकाश को बढ़ाने संबं‌धी रविवार को यूनियन के पदाधिकारियाें की मीटिंग है। यूनियन के आंकड़े बताते हैं कि स्टांप ड्यूटी, आय, जाति, इंतकाल, जमीनों की पैमाइश आदि से सरकार को रोज 2.95 करोड़ के राजस्व का नुकसान हो रहा है। अब तक प्रशासन काे करीब 14 कराेड़ के राजस्व का नुकसान हाे चुका है। अगर सामूहिक अवकाश बढ़ा तो इंतकाल, आय, जाति, रेंट, मैरिज सहित प्राॅपर्टी की रजिस्ट्री नहीं हाेने से आम लाेगाें की दिक्कतें बढ़ जाएंगी।

डीसी ऑफिस वर्कर्स यूनियन पंजाब के मुलाजिमों की मांगंगें मानने काे सरकार तैयार नहीं है, इस वजह से मुलाजिम अनिश्चितकाल हड़ताल पर चले गए हैं। बकाया पेंशन, नए मुलाजिमाें की भर्ती सहित विभिन्न मांगाें काे लेकर इंप्लाइज यूनियन के मुलाजिम पीछे हटना नहीं चाहते हैं, ताे वहीं काेराेना के बढ़ते संक्रमण काे देखते हुए सरकार फिलहाल उनकी मांगाें पर विचार नहीं कर रही है। मांगें मंगवाने के लिए यूनियन के मुलाजिमों ने 24 और 25 मई काे सामूहिक अवकाश की घोषणा की थी, इसके बाद मंगलवार काे मुलाजिमों ने सामूहिक अवकाश एक दिन और बढ़ा दिया था।इस संदर्भ में जालंधर डीसी ऑफिस वर्कर्स यूनियन के प्रधान तेजिंदर सिंह ने बताया कि राज्यभर के डीसी इंप्लाइज यूनियन के मुलाजिम ने एक मत होकर सामूहिक अवकाश बढ़ाने का निर्णय लिया है। मुलाजिम अवकाश पर कब तक रहेंगे, इसकाे लेकर रविवार को मीटिंग है। इसके बाद ही तय हाे पाएगा कि साेमवार काे ही सरकारी दफ्तर खुलेंगे या नहीं। तेजिंदर सिंह का कहना है कि सरकार अपनी जिद पर अड़ी है, इसलिए मुलाजिमों काे विवश हाेकर अवकाश पर जाने का निर्णय लेना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं...