• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Hearing On Gurdas Mann's Anticipatory Bail In The High Court Today, The Jalandhar Sessions Court Had Dismissed The Petition; Case Of Hurting Religious Sentiments In Nakodar Fair

गुरदास मान को हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत मिली:एक हफ्ते में इन्वेस्टिगेशन जॉइन करने के आदेश; 15 दिन बाद फिर सुनवाई, नकोदर में धार्मिक भावनाएं आहत करने का केस

जालंधरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हाईकोर्ट के फैसले से गुरदास मान को बड़ी राहत मिली है क्योंकि उन पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी। - Dainik Bhaskar
हाईकोर्ट के फैसले से गुरदास मान को बड़ी राहत मिली है क्योंकि उन पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी।

मशहूर पंजाबी सिंगर गुरदास मान पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट से अग्रिम जमानत मिल गई है। बुधवार को सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने उन्हें एक हफ्ते के भीतर पुलिस इन्वेस्टिगेशन जॉइन करने के लिए कहा है। इस मामले की 15 दिन बाद फिर सुनवाई होगी। हाईकोर्ट में मान के वकीलों ने तर्क रखा कि गुरदास मान का कोई क्रिमिनल रिकॉर्ड नहीं है। इसके अलावा पुलिस को उनसे कोई रिकवरी भी नहीं करनी है। ऐसे में वह अग्रिम जमानत के हकदार हैं। जिसके बाद हाईकोर्ट ने पंजाब सरकार को नोटिस देते हुए मान को अग्रिम जमानत दे दी। इसके बाद गुरदास मान को बड़ी राहत मिली है क्योंकि उन पर संगीन केस में गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी।

मान के खिलाफ थाना नकोदर में धार्मिक भावनाएं आहत करने का केस दर्ज है। उन्होंने नकोदर के डेरा बाबा मुराद शाह में मेले के दौरान डेरे के गद्दीनशीन साईं लाडी शाह को गुरु अमरदास जी का वंश बता दिया था। इसके बाद सिख संगठनों ने उनके खिलाफ IPC की धारा 295A के तहत केस दर्ज करवा दिया।

माहौल खराब हो सकता है, यह कह सेशन कोर्ट ने खारिज की थी याचिका
गुरदास मान ने जालंधर की सेशन कोर्ट में पहले अग्रिम जमानत याचिका लगाई थी। इसे खारिज करते हुए सेशन कोर्ट ने कहा था कि मान को जमानत देने से पंजाब का माहौल खराब हो सकता है। उनकी टिप्पणी से सिख कम्यूनिटी में नाराजगी और बढ़ सकती है। मान ने साईं लाडी शाह को गुरु अमरदास जी का वंश बताने के लिए भल्ला गोत्र का तर्क दिया था, लेकिन कोर्ट ने कहा कि किसी की जाति एक समान तो उसे वारिस नहीं कह सकते। उन्होंने यह भी कहा था कि अगर गुरदास मान ने माफी मांगी तो इसका मतलब उन्होंने मान लिया कि उन्होंने ऐसी टिप्पणी की है। कोर्ट ने यह भी कहा था कि मान ने यह बात अज्ञानता वश कही, इस स्टेज पर कोर्ट इसके बारे में कुछ नहीं कह सकती।

जमानत खारिज करते हुए सेशन कोर्ट ने यह बातें कहीं थी।
जमानत खारिज करते हुए सेशन कोर्ट ने यह बातें कहीं थी।

मेले में परफॉर्मेंस के दौरान की थी मान ने विवादित टिप्पणी

गुरदास मान ने नकोदर में डेरा बाबा मुराद शाह मेले में स्टेज से कहा था कि साईं लाडी शाह सिखों के तीसरे गुरु श्री गुरु अमरदास जी के वंश हैं। इसका वीडियो वायरल हुआ तो सिख संगठन भड़क उठे। उन्होंने 3 दिन तक नकोदर पुलिस थाना और जालंधर रूरल पुलिस के एसएसपी ऑफिस में धरना दिया। केस दर्ज न हुआ तो सिख संगठनों ने हाईवे जाम कर दिया। जिसके बाद पुलिस ने मान पर केस दर्ज कर लिया। हालांकि विवाद होने पर मान ने वीडियो जारी करके माफी भी मांग ली थी। इसके बावजूद सिख संगठनों का गुस्सा शांत नहीं हुआ।

डेरे के ट्रस्ट के चेयरमैन भी हैं गुरदास मान, गिरफ्तारी की मांग हो रही थी तेज

गुरदास मान नकोदर के इस बाबा मुराद शाह डेरा ट्रस्ट के चेयरमैन भी हैं। धार्मिक भावनाएं आहत करने के मामले में उन पर अग्रिम जमानत न मिलने की वजह से गिरफ्तारी की तलवार लटक रही थी। सिख संगठन भी पुलिस पर मान को गिरफ्तार करने का दबाव बना रहे थे। इससे पहले डेरे के समर्थकों ने भी नकोदर रोड जाम करके मान पर केस दर्ज कराने वाले सिख नेता परमजीत अकाली के खिलाफ केस दर्ज करने की मांग की थी। उनका कहना था कि परमजीत अकाली ने उनके गुरु साईं लाडी शाह के बारे में आपत्तिजनक शब्द कहे। हालांकि पुलिस ने जांच का भरोसा दिया लेकिन केस दर्ज नहीं किया।

खबरें और भी हैं...