पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जालंधर में पेट्रोल पंप मालकिन को धमकी:हेराफेरी पकड़ी तो चाचा-भतीजे की बदमाशी, चेक चोरी कर झूठी पार्टनरशिप डीड भी बना डाली

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पेट्रोल पंप मालकिन ने पहले उनकी शिकायत नहीं की थी लेकिन वो धमकाने लगे तो पुलिस के पास पहुंची। - Dainik Bhaskar
पेट्रोल पंप मालकिन ने पहले उनकी शिकायत नहीं की थी लेकिन वो धमकाने लगे तो पुलिस के पास पहुंची।

हेराफेरी पकड़ी गई तो वहां काम करने वाले चाचा-भतीजा ने बदमाशी दिखाते हुए अमृतसर हाइवे स्थित बोपाराय पेट्रोल पंप मालकिन को धमकाना शुरू कर दिया। यही नहीं, उनके पेट्रोल पंप से चेक चोरी कर झूठी पार्टनरशिप डीड भी तैयार कर डाली। इसका पता चला तो अब पेट्रोल पंप मालकिन ने पुलिस को शिकायत की, जिसके बाद पुलिस ने केस दर्ज कार्रवाई शुरू कर दी है।

चाचा ने ही सिफारिश कर भतीजे को पंप पर रखवाया

गुरदासपुर के डेरा बाबा नानक स्थित वार्ड 10 में रहने वाली अनुराधा ने बताया कि अमृतसर रोड जालंधर में चौगिट्‌टी के पास बोपाराय फिलिंग स्टेशन के नाम से उनका इंडियन ऑयल का पेट्रोल पंप है। इस पेट्रोल पंप की देखभाल के लिए उन्होंने अपने पति जुगल किशोर के दोस्त व कर्मचारी नरिंदर सिंह के कहने पर अमृतसर की अजनाला तहसील के गांव बोपाराय बाज सिंह कंवलप्रीत सिंह को रखा था। अनुराधा ने कहा कि उनके कर्मचारी नरिंदर सिंह ने उनके व पति के ऊपर जोर डाला कि उसके भतीजे कंवलप्रीत सिंह के पास कोई काम नहीं है। वह उनके पेट्रोल पंप की देखभाल करेगा और उसके खर्चे व मुनाफे का हिसाब-किताब समय-समय पर देता रहेगा।

पहले हिसाब दिया, फिर भरोसे का फायदा उठा करने लगा हेराफेरी

उन्होंने कहा कि वक्त बीतने पर कंवलप्रीत सिंह ने उनके भरोसे का फायदा उठाना शुरू कर दिया। उसने पंप के हिसाब-किताब में हेराफेरी करनी शुरू कर दी। जब भी वो इसका हिसाब मांगते तो वो टालमटोल कर जाता। उन्हें फिर शक हुआ कि नरिंदर सिंह व उसका भतीजा कंवलप्रीत सिंह पेट्रोल पंप की कमाई में घपलेबाजी कर रहे हैं। उन्होंने पेट्रोल पंप के कागजातों का दुरुपयोग कर गलत काम करने शुरू कर दिए हैं।

हेराफेरी का पता चला तो नौकरी से हटाया लेकिन पुलिस शिकायत न करने से धमकाने लगे

इन दोनों ने उनको बताए बगैर उनके सेविंग बैक खाते की चेकबुक चोरी कर ली, जिसमें 20 चेक थे। पंप से जरूरी दस्तावेजों की चोरी करने के बाद वह वापस नहीं किए। उन्होंने कहा कि जब पूरी घपलेबाजी का पता चला तो उन्होंने कंवलप्रीत सिंह को पंप के केयर टेकर पद से हटा दिया लेकिन औरत होने के नाते उस वक्त शिकायत नहीं की।हालांकि इसके बाद आरोपी चाचा नरिंदर सिंह व उसके भतीजे कंवलप्रीत सिंह उन्हें व परिवार को डराना-धमकाना शुरू कर दिया।

अजनाला के 3 और साथियों के साथ मिलकर बनाई पार्टनरशिप डीड

अनुराधा के मुताबिक इन दोनों ने अजनाला के गांव अबू सैद के पलविंदर सिंह, संगरूर भवानीगढ़ के खेड़ी चंदवा के विक्रमजीत सिंह व अजनाला की मंदिर वाली गली के कुलवंत कुमार के साथ मिलकर उनके यहां से चोरी किए चैक के आधार पर झूठी पार्टनरशिप डीड बना ली है।

खबरें और भी हैं...