पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कैंसर का खतरा:16 गांवों के पानी में एल्यूमीनियम, सिक्का, निकल, लोहा मिला

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
काला संघिया ड्रेन, जिससे हैवी मेटल जमीन में जा रहे। - Dainik Bhaskar
काला संघिया ड्रेन, जिससे हैवी मेटल जमीन में जा रहे।

भूजल स्तर गिरने से जालंधर में नई समस्या पैदा हो गई है। पब्लिक हेल्थ एंड सैनिटेशन डिपार्टमेंट की ताजा सैंपलिंग में जिले में 16 गांव के पानी में खतरनाक हद तक हैवी मैटल पाए गए हैं। जिले में पेयजल धरती से करीब 600 फीट नीचे से खींचा जा रहा है। इसमें अब लोहा, एल्यूमीनियम, सिक्का जैसे तत्व तय मात्रा से कहीं अधिक आने लगे हैं। ये आर्सेनिक कैंसर का कारण बनते हैं। ये इंसान और जानवरों के शरीर की कोशिकाओं को खराब करते हैं। वर्तमान में जिस तरह पानी साफ करने के लिए प्यूरीफायर या आरओ लगाए जा रहे हैं, वैसे ही यंत्र हैवी मैटल अलग करने के लिए लगाए जाएंगे, जिसका खर्च हमारे बजट को बढ़ाएगा। जिले में अलग-अलग स्थानों पर हैवी मैटल के अंदेशे से अलग-अलग सरकारी संस्थान 2018 से ही सैंपलिंग कर रहे हैं।

हालात यह हैं कि गांवों में ही नहीं, बल्कि धरती की परत में लगातार बहते रहने वाले हैवी मैटल धीरे-धीरे पूरे जिले में फैल रहे हैं। ये विभाग अब लोगों को केवल साफ किया पानी ही पानी की सलाह दे रहा है, जिसमें से हैवी मैटल अलग किए हों। परेशान करने वाली बात यह है कि अगर हैवी मैटल वाला पानी पीते रहे तो कैंसर का खतरा है।

फिलहाल उपलब्ध टेक्नोलाॅजी के अनुसार बिजली, प्यूरीफायर की मेंटीनेंस आदि का खर्च प्रति लीटर 10 से 20 पैसे आ रहा है। किसी भी जिले के पानी में खनिज पदार्थ के लिहाज से हैवी मैटल (आर्सेनिक) की मात्रा प्रति पीपीबी 11.4 से अधिक नहीं होनी चाहिए लेकिन 2018 में ही जालंधर के पानी में ये 3.5 से लेकर 688 तक पाई गई थी। पीएयू की टीम ने विधीपुर फाटक के आसपास सैंपलिंग की थी लेकिन अब गांवों में पानी की व्यस्था करने से पहले करवाई गई पानी की क्वालिटी के संदर्भ में सैंपलिंग में पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट को पानी में आर्सेनिक मिले हैं। सोमवार को टीम गांवों का दौरा करेगी।

इन गांवों के पानी में आर्सेनिक...दौलीके, सुंदरपुर, खानके, फतेहगढ़, चक्की, बच्चोवाल, भैणी, बुर्ज पुख्तां, चीमा खुर्द, चोहला कलां, बड़ा पिंड, अमरजीतपुर, फिल्लौर कलां, चाचोकी, बिरक, ढेसियां।

सरकार ने 1.47 करोड़ रुपए से प्यूरीफायर लगाने की योजना तैयार की, 13 हजार से ज्यादा लोगों को मिलेगा फायदा-

ऐसे हो रहा भूजल खराब
1. ऊपरी लेवल का पानी साफ था। अब ट्यूबवेल 600-700 फीट नीचे तक पानी खींच रहे हैं। इस कारण धरती की अंतिम लेयर तक इंसान पहुंच चुका है।
2. इंडस्ट्री व शहरी पाॅल्यूशन बरसाती नाले से केमिकल धरती में रिसते रहे। काला संघिया ड्रेन जालंधर के लिए सबसे बड़ा श्राप है। इससे केमिकल जमीन में जा रहे हैं।
3. घरों में जो पानी बगैर काम के बहाया जाता है, उससे रोजाना 300 लाख लीटर सीवरेज पैदा होता है, जो आगे चलकर नदियां आदि खराब करता है।

ऐसे हो रहा भूजल खराब
1. ऊपरी लेवल का पानी साफ था। अब ट्यूबवेल 600-700 फीट नीचे तक पानी खींच रहे हैं। इस कारण धरती की अंतिम लेयर तक इंसान पहुंच चुका है।
2. इंडस्ट्री व शहरी पाॅल्यूशन बरसाती नाले से केमिकल धरती में रिसते रहे। काला संघिया ड्रेन जालंधर के लिए सबसे बड़ा श्राप है। इससे केमिकल जमीन में जा रहे हैं।
3. घरों में जो पानी बगैर काम के बहाया जाता है, उससे रोजाना 300 लाख लीटर सीवरेज पैदा होता है, जो आगे चलकर नदियां आदि खराब करता है।

अर्सेनिक क्या है?
अर्सेनिक एक गंधहीन और स्वादहीन उपधातु है, जो जमीन की सतह के नीचे प्रचुर मात्रा में उपलब्ध है। यह मानव शरीर के लिये जहरीला असर पैदा करता है, आर्सेनिक-पॉइजनिंग को चिकित्सकीय भाषा में आर्सेनिकोसिस कहते हैं। यह शरीर में उपलब्ध आवश्यक एंजाइम्स पर नकारात्मक प्रभाव छोड़ता है। जिसकी वजह से शरीर के बहुत से अंग काम करना बंद कर सकते हैं। यह कैंसर का कारण भी बन सकता है। इसकी वजह से रोगी की मौत भी हो सकती है।

कम्यूनिटी प्यूरीफायर लगाने की योजना- पब्लिक हेल्थ डिपार्टमेंट के चीफ इंजीनियर केएस सैनी की टीम ने 1.47 करोड़ की योजना तैयार की है। इसके तहत आर्सेनिक यानी हैवी मैटल वाले पानी से पीड़ित गांवों में प्यूरीफायर लगाए जा रहे हैं। कम्यूनिटी प्यूरीफायर रियायती दर पर साफ पानी उपलब्ध करवाएंगे। इनमें पानी में से हैवी मैटल अलग कर दिए जाते हैं। केवल कुदरती टीडीएस लेवल सही रखा जाता है। इनकी कैपेसिटी 500 से 100 लीटर होती है और 15-20 पैसे प्रति लीटर कीमत चुकाकर लोग यहां से पानी ले सकते हैं। जालंधर के 16 गांवों में प्यूरीफायर लगेंगे। इनकी 12,766 जनसंख्या को फायदा होगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आप अपने काम को नया रूप देने के लिए ज्यादा रचनात्मक तरीके अपनाएंगे। इस समय शारीरिक रूप से भी स्वयं को बिल्कुल तंदुरुस्त महसूस करेंगे। अपने प्रियजनों की मुश्किल समय में उनकी मदद करना आपको सुखकर...

    और पढ़ें