पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कांग्रेस में सब ठीक नही:मीटिंग में नहीं आए मेयर तो सांसद पहुंचे निगम कांप्लेक्स, बोले- पावरां तुहाडे कोल, कम्म करो

जालंधरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

हलका कैंट के 3 नाराज पार्षदों की मीटिंग मेयर-कमिश्नर के साथ सांसद चौधरी संतोख सिंह ने वीरवार सुबह अपने घर बुलाई थी। मसला पार्षदों के वार्डों में काम न होने से नाराजगी का था, जिसमें इसमें कैंट के एमएलए परगट सिंह और सेंट्रल हलके के एमएलए राजिंदर बेरी को भी बुलाया गया था लेकिन सुबह 10:30 बजे के तय समय पर न विधायक पहुंचे और न ही मेयर।

बाद में दोपहर को सांसद खुद निगम दफ्तर पहुंचे तो नाराज वार्ड-31 की पार्षद हरशरण कौर हैप्पी के पति सुरिंदर भापा, वार्ड-29 की पार्षद परमजीत कौर बागड़ी के पति अमरीक बागड़ी और वार्ड-24 के पार्षद राजिंदर कुमार जुनेजा ऊर्फ मिंटू जुनेजा के साथ मीटिंग कराई। लेकिन दोनों एमएलए निगम भी नहीं पहुंचे। सांसद ने कहा कि निगम की सभी पॉवर मेयर और कमिश्नर के पास है, तो काम करने कोई और नहीं आएगा। दो टूक कहा- ‘मेयर साब, तुहाडे कोल सारियां पावरां हन, तगड़े हो के कम्म करो। निगम से संबंधित जो समस्या है, उसे लिखकर दें वो जल्द ही निकाय मंत्री के साथ उनकी मीटिंग करवाएंगे।

पार्षदों ने ढाई साल बाद भी सफाई सेवक की कमी का रोना रोया, तो सांसद ने मौजूदा सफाई सेवकों में से ही एरिया के हिसाब से सभी वार्डों में बंटवारा करने को कहा। एस्टीमेट और टेंडर का मसला आया तो बी एंड आर और ओ एंड एम के एसई से पूछा गया, जवाब मिला जो टेंडर खाली गए वो दोबारा कराए जा रहे हैं। जिस वार्ड के टेंडर हो गए हैं उसका काम शुरू कराया जाएगा। 

इसके अलावा गंदे पानी की सप्लाई, कूड़े की लिफ्टिंग सहित मौके पर मौजूद नॉर्थ हलका के पार्षद अवतार सिंह और पार्षद पति माइक खोसला ने भी अपने वार्ड में काम फंसे होने के बारे सांसद को बताया। उधर, मेयर ने कहा कि उनके स्तर पर किसी के काम में कोई रोक नहीं है, लेकिन इसके लिए पार्षदों को भी मेहनत करनी होगी। कम से कम अपने वार्ड के काम का एस्टीमेट तो जेई और एसडीओ से तैयार कराएं, उसके बाद ही वो टेंडर लगवा सकते हैं। दूसरी ओर मेयर का कहना है कि सांसद के घर मीटिंग की उन्हें कोई सूचना नहीं थी, मौके पर फोन आया तो जाना संभव नहीं था।

खबरें और भी हैं...