पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दिव्यांग से गुंडागर्दी करने वाले पर एक्शन:जालंधर में पैरों से लाचार कबाड़ी को लात-थप्पड़ से पीटने वाला ASI सस्पेंड, SC कमीशन की CP से जवाबतलबी के बाद जागे अफसर

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
दिव्यांग व्यक्ति को लात व थप्पड़ से पीटता CCTV कैमरे में कैद हुआ आरोपी ASI रघुवीर सिंह। - Dainik Bhaskar
दिव्यांग व्यक्ति को लात व थप्पड़ से पीटता CCTV कैमरे में कैद हुआ आरोपी ASI रघुवीर सिंह।

जालंधर में खाकी की गुंडागर्दी का बड़ा मामला उजागर हुआ है। पैरों से लाचार 90% दिव्यांग व्यक्ति को बस्ती बावा खेल में तैनात ASI रघुवीर सिंह पहले लात मारी। फिर उसके मुंह पर थप्पड़ मारे। इस दौरान दिव्यांग अपने बचाव के लिए खड़ा या वहां से आगे-पीछे भी नहीं हो सका। ASI की यह करतूत वहां लगे CCTV कैमरे में कैद हो गई। जिसके बाद पीड़ित ने इसकी शिकायत कर दी।

इस मामले में DGP, IG व पुलिस कमिश्नर के स्तर पर तो कोई कार्रवाई नहीं हुई लेकिन नेशनल SC कमीशन ने पुलिस कमिश्नर को कार्रवाई कर रिपोर्ट तलब कर ली। जिसके बाद ASI रघुवीर सिंह को सस्पेंड कर दिया गया है। DCP इन्वेस्टिगेशन गुरमीत सिंह ने कहा कि दिव्यांग व्यक्ति ने पुलिस को सहयोग नहीं दिया, लेकिन ASI ने यह गैरपेशेवराना रवैया दिखाया। उसे सीनियर अफसरों को बताना चाहिए था। इसलिए उसे सस्पेंड करने के बाद विभागीय जांच शुरू कर दी गई है।

बचाव के लिए ASI के आगे गिड़गिड़ाता दिव्यांग महिंदर कुमार।
बचाव के लिए ASI के आगे गिड़गिड़ाता दिव्यांग महिंदर कुमार।

पीड़ित का आरोप, आते ही गाली-गलौज कर पीटा, 10 हजार रिश्वत भी मांगी

कबीर विहार के रहने वाले महिंदर कुमार ने कहा कि यह घटना 17 अप्रैल की है। उस दिन सुबह करीब 11 बजे ASI रघुवीर सिंह एक कांस्टेबल व एक और व्यक्ति को लेकर उसकी कबाड़ की दुकान पर आया। आते ही पुलिस वाले ने गाली-गलौज शुरू कर दी। जब महिंदर ने कहा कि उसका भाई सलिंदर दुकान पर नहीं है और जब आएगा तो उसे बता देगा। इस पर ASI ने कहा कि सलिंदर पर केस दर्ज हुआ है। इसके बाद ASI ने कथित रूप से उससे 10 हजार रुपए भी मांगे।

पुलिस थाने में कोरे कागज पर कराए साइन

महिंदर ने कहा कि उसकी शिकायत पर ACP वेस्ट ने उसके भाई सलिंदर को पुलिस थाने बुलाया और कई कोरे कागज पर साइन करा लिए। उसे लेने भी पुलिस पार्टी आई थी लेकिन तब वह दुकान पर नहीं था। उसने आरोप लगाया कि पुलिस उनके साथ कोई भी धक्केशाही कर सकती है।

कमीशन ने पुलिस कमिश्नर को जांच कर कार्रवाई के लिए 15 दिन का वक्त दिया

इस मामले की शिकायत मिलने पर नेशनल SC कमीशन ने पुलिस कमिश्नर को इस मामले की जांच व कार्रवाई कर रिपोर्ट देने के लिए कहा है। इसके लिए 15 दिन का वक्त दिया गया है। तब तक रिपोर्ट न मिली तो फिर कमीशन ने पुलिस कमिश्नर या उनके प्रतिनिधि को व्यक्तिगत तौर पर आगे तलब करने की चेतावनी दी है।