पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना का कहर:जालंधर में 450 मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट और 223 वेंटीलेटर पर, DC बोले- वैक्सीन जरूर लगवाएं, इससे मेरे शरीर में एंटीबॉडी बनी

जालंधरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
DC घनश्याम थोरी। - Dainik Bhaskar
DC घनश्याम थोरी।
  • एक अप्रैल से 45 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों को लगाई जाएगी कोविड वैक्सीन

जिले में कोराेना का खतरा बहुत बढ़ चुका है। हालात यह हैं कि इस वक्त 450 मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं जबकि 223 मरीज वेंटीलेटर पर हैं। इसे देखते हुए DC घनश्याम थोरी ने अपील की कि जिसका नंबर आ रहा है, वो तुरंत वैक्सीन लगवाए क्योंकि वैक्सीन लगवाने से उनके शरीर में एंटीबॉडी बनी है। उन्होंने कहा कि जिले के पास रोजाना 30 हजार वैक्सीन लगाने की क्षमता है लेकिन अभी सिर्फ 4 हजार लोग की वैक्सीन लगवा रहे हैं। एक अप्रैल के बाद अब 45 साल से ज्यादा उम्र के सभी लोगों को वैक्सीन लगनी शुरू हो जाएगी तो सभी इसका लाभ उठाएं।

दिसंबर में नहीं थी एंटीबॉडी, फरवरी में वैक्सीन लगाई तो लेवल 10 तक पहुंची

DC घनश्याम थोरी ने कहा कि वह लगातार एंटीबॉडी चैक करा रहे हैं। पहले उन्होंने अगस्त और फिर दिसंबर में लैब से इसकी जांच कराई थी। इस दौरान उनके शरीर में एंटीबॉडी नहीं थी। उन्होंने 3 फरवरी को कोवीशील्ड वैक्सीन पहला और 3 मार्च को दूसरा शॉट लिया था। इसके बाद उन्होंने टेस्ट कराया तो एंटीबॉडी लेवल 10 से ज्यादा बढ़ गया है। यह वैक्सीनेशन से ही हुआ है।

सितंबर 2020 के मुकाबले डरा रहा मार्च 2021, आंकड़े बढ़े तो लॉकडाउन ही हल

पिछले साल सितंबर में अधिकतम 367 मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट व 170 ICU में थे। ये वो दौर था, जब कोरोना की महामारी पीक पर थी। अब आंकड़े इस तरह बढ़ रहे हैं कि मार्च 2021 डराने लगा है। DC घनश्याम थोरी का कहना है कि अगर अस्पतालों में बैड कम पड़े तो फिर सरकार के पास लॉकडाउन करना ही हल होगा, अन्यथा हालात बिगड़ सकते हैं। उन्होंने लोगों को अपील की कि अप्रैल का महीना बहुत क्रिटिकल है और खासकर अगले 15 दिन बहुत सावधान रहने की जरूरत है।

देरी से अस्पताल आ रहे मरीज, ऑक्सीजन नहीं वेंटीलेटर पर डालना पड़ रहा

कोराेना से अचानक बढ़ी मौतों की बड़ी वजह सामने आ रही है कि मरीज अस्पताल में देरी से आ रहे हैं। तब तक कोरोना से उनकी हालत इतनी बिगड़ जाती है कि उन्हें ऑक्सीजन सपोर्ट नहीं बल्कि सीधे वेंटीलेटर पर डालना पड़ रहा है। अस्पताल आने तक उनके शरीर में ऑक्सीजन सेचुरेशन 50 से 60 फीसद हो जाता है। बचाव यही है कि सांस लेने में हलकी दिक्कत हो तो तुरंत अस्पताल पहुंचकर जांच कराएं।

दोआबा हॉटस्पॉट, फिर माझा-मालवा में फैल रहा

कोरोना के लिहाज दोआबा हॉटस्पॉट बन चुका है। इसमें जालंधर, होशियारपुर, नवांशहर व कपूरथला जिलों में कोरोना ज्यादा फैल रहा है। पिछले साल भी सितंबर में यही हालात थे। इसके बाद कोरोना अमृतसर वाले माझा इलाके और फिर बठिंडा वाले मालवा इलाके में फैलता है। यह हालात कोरोना महामारी शुरू होने वाले पहले जैसे ही हैं। इसकी बड़ी वजह यहां NRI बैल्ट होना है।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आध्यात्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत होगा। जिससे आपकी विचार शैली में नयापन आएगा। दूसरों की मदद करने से आत्मिक खुशी महसूस होगी। तथा व्यक्तिगत कार्य भी शांतिपूर्ण तरीके से सुलझते जाएंगे। नेगेट...

और पढ़ें