फोरम का फैसला:IPHONE के नेटवर्क में आई दिक्कत, APPLE INDIA, सर्विस सेंटर व मोबाइल विक्रेता को नया सैट व 8 हजार हर्जाना देने के आदेश

जालंधर10 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोबाइल सैट रिपेयर या रिप्लेस न होने पर खरीदार ने जिला कंज्यूमर फोरम को शिकायत की थी। - प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
मोबाइल सैट रिपेयर या रिप्लेस न होने पर खरीदार ने जिला कंज्यूमर फोरम को शिकायत की थी। - प्रतीकात्मक फोटो
  • कंपनी के बाहर से छेड़छाड़ के दावों से सहमत नहीं हुआ फोरम

34 हजार में खरीदे IPHONE में नेटवर्क की दिक्कत आने पर न तो उसकी रिपेयर की गई और न ही उसे रिप्लेस किया गया। परेशान ग्राहक ने जिला कंज्यूमर फोरम को इसकी शिकायत कर दी। जिसकी सुनवाई के बाद फाेरम ने APPLE INDIA, सर्विस सेंटर व मोबाइल विक्रेता को उन्हें नया सैट देने को कहा। इसके साथ ही कंपनी व सर्विस सेंटर को 8 हजार रुपए का हर्जाना चुकाने के भी आदेश दिए।

सर्विस सेंटर गए तो सिम में प्रॉब्लम बता भेजा

APPLE IDEA है।

सिम कंपनी ने नकारा तो सर्विस सेंटर ने खोलकर चैक करने के बाद बैंगलोर भेजा

वह फिर मोबाइल के सर्विस सेंटर गया। उन्हें कहा गया कि मोबाइल सैट को अंदर से चैक करना हाेगा। उसे रिपेयर या रिप्लेस करने के लिए बैंगलोर भेजना होगा। मोबाइल लेने से पहले उसने अंदर से खोलकर देखा कि उसमें कोई छेड़छाड़ न हो। इसके बाद उन्होंने मोबाइल अपने पास रखते हुए कहा कि 11 दिन बाद उन्हें सैट मिल जाएगा। इसके बाद उन्हें सर्विस सेंटर से कॉल आई कि उनका मोबाइल बैंगलोर से वापस आ गया है। उसे रिपेयर या रिप्लेस नहीं किया जा सकता क्योंकि उसे कहीं बाहर से चैक या खुलवाया गया है। गगनदीप ने कहा कि उनका मोबाइल वारंटी पीरियड में था तो वो बाहर किसी को क्यों दिखाते। उसे सिर्फ सर्विस सेंटर के इंजीनियर ने ही ठीक करने के लिए लेने से पहले खोला था।

कंपनी बोली-बाहर से खुलवाया गया है सैट को

कंज्यूमर फोरम ने नोटिस निकाला तो APPLE INDIA ने कहा कि मोबाइल सैट को नॉन अॉथोराइज्ड सर्विस सेंटर से छेड़छाड़ हुई। इसके अलावा उसके भीतर इस तरह का डैमेज नहीं हो सकता था। सर्विस सेंटर ने कहा कि उन्होंने मोबाइल सैट लेकर बैंगलोर भेज दिया था। वहीं से पता चला कि वो रिपेयर नहीं हो सकता। मोबाइल विक्रेता ने कहा कि सैट उनके यहां से खरीदा गया, बाकी उनका कोई संबंध इससे नहीं है।

जॉब शीट से पता चला, सर्विस सेंटर ने ही खोला था मोबाइल

फोरम ने दोनों पक्षों को सुनने के बाद कहा कि इस मामले में एक जॉब शीट से पता चलता है कि मोबाइल सैट कहीं दूसरी जगह नहीं खुलवाया गया बल्कि सर्विस सेंटर में ही इसकी जांच हुई और यह वारंटी पीरियड के दौरान हुआ। उन्होंने APPLE INDIA, सर्विस सेंटर व मोबाइल विक्रेता को शिकायतकर्ता को नया मोबाइल देने को कहा। इसके अलावा कंपनी व सर्विस सेंटर को 5 हजार का हर्जाना और 3 हजार रुपए लीगल एड फंड में जमा कराने के लिए कहा।

खबरें और भी हैं...