गौशाला संचालक सुसाइड में 'रहस्य' बना मृतक का मोबाइल:जालंधर पुलिस बोली- हमें नहीं मिल रहा, परिजन कह रहे...हमारे पास नहीं; कांग्रेस MLA अभी तक केस से बाहर, बेटे ने पोस्टर जारी कर कहा 'वी वांट जस्टिस'

जालंधरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक के बेटे अभिषेक द्वारा जारी किया पोस्टर। - Dainik Bhaskar
मृतक के बेटे अभिषेक द्वारा जारी किया पोस्टर।

फेसबुक पर लाइव होकर सुसाइड करने वाला लांबड़ा की गोविंद गौधाम संचालक धर्मवीर धम्मा का मोबाइल 'रहस्य' बन गया है। पुलिस को धर्मवीर का वो मोबाइल नहीं मिल रहा, जिसके जरिए उसने लाइव जहर पिया। वहीं, परिजन कह रहे हैं कि फोन हमारे पास नहीं है। किसी रिश्तेदार के पास हो सकता है लेकिन किसके पास है?, इसके बारे में वो पता कर रहे हैं। पुलिस मोबाइल की फॉरेंसिक जांच करना चाहती है ताकि उसके दफन दूसरे राज भी बाहर निकाले जा सकें।

वहीं, इस मामले में CIA इंचार्ज पुष्प बाली,संजीव काला, गौतम मोहन व श्रीराम मोहन के खिलाफ पुलिस खुदकुशी के लिए उकसाने का केस दर्ज कर चुकी है। 30 अगस्त को मृतक ने जहर पीते वक्त करतारपुर के कांग्रेसी MLA सुरिंदर चौधरी का भी नाम लिया था लेकिन उनके खिलाफ केस दर्ज नहीं हुआ। पुलिस कहती रही कि बेटे ने बयान में विधायक का नाम नहीं लिया। हालांकि अब बेटे अभिषेक ने पोस्टर जारी कर आरोपियों को गिरफ्तार करने की मांग की है। उसका कहना है कि आरोपी अपनी दुकान खोलकर बैठे हैं लेकिन पुलिस कोई कार्रवाई नहीं कर रही।

बेटे की तरफ से जारी 'वी वांट जस्टिस' के पोस्टर में सबसे पहले विधायक की ही फोटो लगी है। जाहिर तौर पर पंजाब में कांग्रेस की सरकार होने की वजह से जालंधर रुरल पुलिस पर विधायक को बचाने के आरोप लग रहे हैं। वहीं, अफसरों का कहना है कि जांच कर रहे हैं, जिसका भी रोल सामने आएगा, केस में नामजद कर देंगे।

मृतक व आरोपियों के बीच क्या कनेक्शन, कॉल डिटेल्स खोलेगी राज

इस मामले में अब सबसे अहम सुसाइड केस में नामजद चार आरोपियों, MLA सुरिंदर चौधरी और मृतक धर्मवीर बख्शी उर्फ धम्मा के बीच की बातचीत है। इसके लिए पुलिस कॉल डिटेल निकलवा रही है। MLA ने कहा था कि धम्मा ने उन्हें फोन कर मदद मांगी थी। वहीं, मृतक और आरोपियों के बीच क्या कनेक्शन है? इसको लेकर भी कई तरह की चर्चाएं हैं। अब पुलिस इस सबकी जांच के लिए मृतक समेत बाकी आरोपियों के कॉल डिटेल्स खंगालने की तैयारी में है।

चुनाव से पहले MLA की मुश्किलें बढ़ी

पंजाब में अगले साल विधानसभा चुनाव होने हैं। इसके लिए अब 6 महीने से कम वक्त बचा है। ऐसे में पार्टी ने टिकट देनी है जबकि उसके बाद प्रचार भी होगा। ऐसे में करतारपुर से कांग्रेसी MLA सुरिंदर चौधरी की मुश्किलें बढ़ गई हैं। पहले ही उन पर सुसाइड मामले का दबाव बना हुआ है। अगर पुलिस केस में नामजद करेगी तो फिर उनका राजनीतिक भविष्य खतरे में पड़ जाएगा। हालांकि वो कह चुके हैं कि धर्मवीर ने सिर्फ उनसे मदद मांगी थी। बाकी उनका इसमें कोई रोल नहीं है।

पुष्प बाली पर यह लगाए थे आरोप।
पुष्प बाली पर यह लगाए थे आरोप।

पहले CIA इंचार्ज को बचाने की थी कोशिश

इस मामले में पहले पुलिस CIA के इंचार्ज सब इंस्पेक्टर पुष्प बाली को बचाने की कोशिश कर रही थी। जहर पीने से पहले फेसबुक पर आरोप लगाने के बावजूद पुलिस ने शुरुआत में सिर्फ तीन आरोपियों पर ही केस दर्ज किया। हालांकि परिजनों ने मृतक का संस्कार करने से इनकार किया तो फिर बाली के खिलाफ भी केस दर्ज कर लिया। हालांकि MLA के मामले में पुलिस अभी भी कार्रवाई न करने की जिद पर अड़ी हुई है।

फेसबुक लाइव होकर जहर पीता मृतक।
फेसबुक लाइव होकर जहर पीता मृतक।

मृतक ने लगाए थे आरोप : MLA चौधरी लोगों को उठवा लेता है, पुष्प बाली मारता है

धर्मवीर बख्शी ने FB पर लाइव होकर 30 अगस्त को जहर पिया था। इस दौरान उसने कहा था कि वह गोविंद गोधाम गौशाला लांबड़ा का मुख्य सेवादार है। कांग्रेस सरकार के राज में बहुत ज्यादा परेशान हूं। पुष्प बाली नाम का एक गुंडा है पुलिस वाला। जो लोगों को बिना शिकायत के परेशान करता है। मेरी मौत के जिम्मेवार विधायक चौधरी सुरिंदर सिंह, CIA स्टाफ वन इंचार्ज पुष्प बाली, संजीव काला, गौतम मोहन व श्रीराम मोहन हैं। मैं इनसे बहुत परेशान हो चुका हूं।

बिना किसी शिकायत के चौधरी लोगों को उठवा देता है। मैंने अपनी जेब से पैसे लगाकर गौशाला व हनुमान मंदिर बनवाया है, जिसे ये तोड़ना चाहते हैं। इन सबसे परेशान हूं। हम गौशाला चलाते हैं, कोई अफीम नहीं बेचते लेकिन पुष्प बाली जब आता है तो 4 डंडे मारकर चला जाता है। मैं गऊ माता को प्यार करता हूं। मैं उन्हें अपनी आंखों से बेघर होते नहीं देख सकता। इस वजह से मैं आत्महत्या कर रहा हूं। मैंने जहर पी लिया है। इसके बाद उसे तुरंत अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन 31 अगस्त की सुबह उसकी मौत हो गई।

खबरें और भी हैं...