• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Jatt Sarpanch 'evicted' Dalit Newly Married Couple Who Returned Home After Court Marriage In Jalandhar; Couple Forced To Live With Relatives, Pleaded By Releasing Video

पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में की थी शादी:जालंधर में घर लौटे नवविवाहित जोड़े को सरपंच ने गांव से किया 'बेदखल'; रिश्तेदारों के यहां रहने को मजबूर दंपती ने जारी किया वीडियो

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
वायरल वीडियो में गुहार लगाता नवविवाहित जोड़ा। - Dainik Bhaskar
वायरल वीडियो में गुहार लगाता नवविवाहित जोड़ा।

कोर्ट मैरिज करने वाले जालंधर के चांदपुर गांव निवासी दलित समुदाय के नवविवाहित जोड़े को जट्ट सरपंच ने गांव से 'बेदखल' कर दिया। वह एक महीने से सिर छुपाने के लिए रिश्तेदारों के यहां भटक रहे हैं। सरपंच पर पहले ही जातिसूचक गालियां देने का केस दर्ज हो चुका है, इसके बावजूद सरपंच अब गांव की पंचायत और लड़की के परिवार वालों को भड़काकर पूरी घटना को अंजाम दे रहा है। नवविवाहित जोड़े ने एक वीडियो सोशल मीडिया पर जारी की है, जिसमें अपनी सारी व्यथा बयान करते हुए जालंधर रूरल पुलिस के एसएसपी के आगे मांग की है कि उन्हें घर जाने के लिए पुलिस कार्रवाई करें।

क्या कहा वायरल वीडियो में

वायरल वीडियो में लड़की अंजलि ने कहा कि उसने पंजाब व हरियाणा हाईकोर्ट में अजय नाम के लड़के से कोर्ट मैरिज की है। अब गांव का सरपंच हरजिंदर सिंह धनोवा, पंचायत व उसकी फैमिली के साथ मिलकर उन्हें गांव में नहीं घुसने दे रहा। इसके अलावा उसके ससुराल वालों को भी बहुत परेशान किया जा रहा है। गांव के सरपंच ने मेरे ससुर के साथ मारपीट भी। हमारी जाति के बारे में भी गलत कहा गया। अंजलि ने कहा कि सरपंच ने उसके परिवार को भड़काकर ससुरालियों घर में जमकर तोड़फोड़ करवा दी।

जब हाईकोर्ट के ऑर्डर आए तो पुलिस ने सरपंच और पंचायत मेंबरों को भी थाने में बुलाया था और हमें गांव में रहने देने के लिए कहा था लेकिन वहां भी सरपंच ने हमें गालियां निकाली। वह हमारी जाति के बारे में गलत बोलता है। सरपंच पुलिस पर दबाव बनाने के लिए थाने के एसएचओ पर ही आरोप लगा रहा है। इस वजह से एस‌एचओ भी कार्रवाई नहीं कर रहे। डीएसपी ने भी हमें एक हफ्ते में कार्रवाई का भरोसा दिया था लेकिन करीब 1 महीना हो गया है, कोई सुनवाई नहीं हुई। हमें जल्द से जल्द इंसाफ दिलाएं ताकि हम अपने परिवार के पास जा सकें।

हम बहुत परेशान हैं। रिश्तेदारियों में कितना समय हम रहेंगे। हमें एक महीना हो गया है कभी हम किसी रिश्तेदार के यहां जाते हैं तो कभी किसी के। हम घर से बेघर हो चुके हैं। हमें जल्द से जल्द अपने माता-पिता के पास जाना है। हमें गांव से क्यों बाहर निकाला जा रहा है ? लड़की ने कहा कि मेरे ससुरालियों को भी गांव से निकालने की धमकी दी जा रही है। उन्हें परेशान किया जा रहा है। लड़के अजय कुमार ने एसएसपी देहाती नवीन सिंगला से हाथ जोड़ते हुए अपील की कि उन्हें गांव में अपने घर जाने व रहने दिया जाए‌।

था

कुछ दिन पहले पुलिस ने इसी मामले में सरपंच राजिंदर सिंह के खिलाफ एससी-एसटी एक्ट और जान से मारने की धमकी की धाराओं के तहत केस दर्ज किया था। जिसमें भीम आजाद फोर्स ऑल इंडिया एक्शन कमेटी के प्रधान राकेश कुमार ने शिकायत दी थी कि जब अजय और अंजलि कोर्ट मैरिज कर लौटे तो उन दोनों और गांव के सरपंच व पंचायत को थाने में बुलाया गया था। वहीं पर सरपंच ने लड़के के परिवार वालों को जातिसूचक शब्द कहे। जब उन्होंने इसकी वीडियो देखी तो पुलिस को शिकायत कर दी। इसके बाद सरपंच ने उनके साथ भी दुर्व्यवहार किया और फोन पर झूठे केस में फंसाने की धमकी देने समेत रास्ते में रोककर भी धमकाया। पुलिस ने इस मामले में केस जरूर दर्ज किया था लेकिन अभी तक सरपंच को गिरफ्तार नहीं किया है।

जोड़े को गांव से निकालने की जांच करेंगे

मामले की जांच कर रहे एएसआई बलजीत सिंह ने कहा कि सरपंच के खिलाफ पुलिस एससी-एसटी एक्ट और दूसरी धाराओं के तहत केस दर्ज कर चुकी है। इस मामले में उन्हें वीडियो भी मिल चुके हैं। जिसके बाद सरपंच को गिरफ्तार करने के लिए पुलिस रेड कर रही है। अभी उसे गिरफ्तार नहीं किया जा सका है। नवविवाहित जोड़े को गांव से निकालने के बारे में पुलिस के पास कोई सूचना नहीं है, इसकी जांच की जाएगी।