• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Medical Students From Chandigarh Caught Mice In Jamsher Khas, Scrub Typhus Germs Removed From Hair And Ears; RT PCR Test Of Samples Will Be Done

जिले में अब तक 4 मरीज:चंडीगढ़ से आए मेडिकल स्टूडेंट्स ने जमशेर खास में पकड़े चूहे, बालों-कानों से निकाले स्क्रब टाइफस के कीटाणु; सैंपल्स के होंगे आरटी-पीसीआर टेस्ट

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जमशेर खास गांव में पीड़िता के घर सर्वे करते हुए डाॅ. गुंजन और स्टूडेंट्स। - Dainik Bhaskar
जमशेर खास गांव में पीड़िता के घर सर्वे करते हुए डाॅ. गुंजन और स्टूडेंट्स।
  • टीम सैंपल्स लेकर चंडीगढ़ रवाना, मरीज के शरीर से मिलने वाले वायरस से मिलान कर होगी बाकी स्टडी

जिले में स्क्रब टाइफस के मरीजों की संख्या चार पर पहुंच गई है। सेहत विभाग के आईडीएसपी विभाग की तरफ से पीड़ित मरीजों के घर पर सर्वे करवाया जा रहा है, लेकिन पहली बार जिले में स्क्रब टाइफस के बुखार होने के कारण जानने के लिए पीजीआई चंडीगढ़ से एंटामॉलोजिकल सर्विलांस प्रोग्राम के अधीन दो स्टूडेंट्स उन मरीजों के घरों में पहुंचे, जहां से मरीजों को स्क्रब टाइफस बुखार की पुष्टि हुई है।

जिला एपिडिमोलॉजिस्ट डॉ. शोभना बांसल ने बताया कि हम स्क्रब टाइफस की रिपोर्ट्स स्टेट में भी अपडेट कर रहे हैं। इसके बाद स्टेट के अफसर निर्णय लेते हैं कि किस एरिया में कब और कहां से स्क्रब टाइफस का सोर्स ढूंढने का सर्वे करवाना है। डॉ. बांसल ने बताया कि सीनियर डॉक्टर्स स्क्रब टाइफस पर स्टडी कर रहे हैं। इस कारण चंडीगढ़ से आए स्टूडेंट्स ने जमशेर खास के गुज्जरां के डेरे में सर्वे किया। सर्वे के दौरान स्क्रब टाइफस होने की पुष्टि हुई है। सर्वे के बाद स्टूडेंट्स सैंपल लेकर चंडीगढ़ रवाना हो गए। चूहों में से मिले कीटाणु चंडीगढ़ में आरटी-पीसीआर टेस्ट भी होगा। मरीज के शरीर से मिलने वाले वायरस का सैंपल चेक किया जाएगा। इसके बाद स्टडी तैयार की जाएगी।

पांच चूहों को पकड़ा, प्राथमिक जांच में मूल स्क्रब टाइफस का कीड़ा मिला

सेहत विभाग के अधीन सर्वे टीम ने स्क्रब टाइफस के बुखार के मिले मरीजों के घर में जाकर सर्वे किया तो स्टूडेंट्स वहां की मिट्टी के कछ नमूने देखे। इसके बाद जिस घर से मरीज मिला था, वहां चूहे पकड़ने वाले 6 पिंजरे लगाए गए। इनमें से पांच में चूहे कैद कर लिए गए हैं। प्राथमिक जांच में अभी तक स्टूडेंट्स ने चूहे की खाल और कानों में से मूल्स यानी कीटाणु निकाले हैं, जो मुख्य रूप से स्क्रब टाइफस के बुखार होने का कारण बनते हैं। एपिडिमोलॉजिस्ट डॉ. शोभना बांसल का कहना है कि अगर दो से तीन तक बुखार रहता है तो तुरंत डॉक्टर के पास जाएं। वहां डेंगू की पुष्टि नहीं होती और बुखार कुछ दिन तक बना रहता है तो स्क्रब टाइफस का टेस्ट भी जरूरी है। इस बुखार में सही समय पर सही एंटीबायोटिक मरीज को देना लाजिमी है, क्योंकि शरीर में जाने वाला मूल कीड़ा शरीर में प्रवेश करने के बाद कुछ दिन बाद रिएक्टिव होता है।

खबरें और भी हैं...