फगवाड़ा में हाईवे जाम नहीं करेंगे किसान:वित्त मंत्री चीमा से जालंधर सर्किट हाउस में आज मीटिंग, मांगों पर होगी चर्चा

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
किसान धरने की प्रतीकात्मक फोटो - Dainik Bhaskar
किसान धरने की प्रतीकात्मक फोटो

किसानों ने आज फगवाड़ा में शूगर मिल के सामने जो हाईवे जाम करने का फैसला लिया था, उसे स्थगित कर दिया गया है। फैसला वित्त मंत्री के साथ बैठक को लेकर फिलहाल स्थगित किया गया है। वित्त मंत्री के साथ बैठक के बाद ही किसान अपना अगला निर्णय लेंगे कि धरना प्रदर्शन के साथ-साथ जाम लगाना है या नहीं।

दोआबा किसान यूनियन के आह्वान पर पंजाब की सोलह जत्थेबंदियों ने गन्ने के पैसे न मिलने और अन्य मांगों को लेकर विरोध के प्रथम चरण में चार घंटे के लिए हाईवे जाम करने का निर्णय लिया था। सरकार को जब इस बाबत पता चला तो खुद वित्त मंत्री हरपाल सिंह चीमा ने किसानों के साथ बैठक तय की। उन्होंने किसानों को पत्र लिखकर संदेश भेजा कि वह कल जाम का निर्णय वापस ले लें। उनकी मांगों पर विचार करने के लिए वह खुद जालंधर आ रहे हैं। इसके बाद फिलहाल किसानों ने जाम लगाने का निर्णय फिलहाल टाल दिया है।

भारतीय किसान यूनियन दोआबा के सूबा प्रधान मनजीत सिंह राय ने कहा कि किसानों का गन्ने का 900 करोड़ रुपए बकाया है। इन अदायगियों के न होने के कारण किसानों में रोष है। किसानों को गन्ने की अदायगी न होने के कारण बैंकों से लिए गए कर्ज पर ब्याज चढ़ रहा है। गन्ने के बढ़े हुए भाव मिलने तो दूर अभी पिछला बकाया भी नहीं मिला है। कई बार किसान अधिकारियों के माध्यम से सरकार को ज्ञापन भेज चुके हैं, लेकिन कोई सुनवाई ही नही कर रहा है। गन्ने के यदि सालों बाद ही पैसे मिलेंगे तो फिर उनका घाटा कैसे पूरा होगा।