जालंधर में चर्च की खिड़की का शीशा टूटा:नंदनपुर गांव में तनाव; SHO पुलिस बल के साथ पहुंचे; तरनतारन में भी हुई थी बेअदबी

जालंधर4 महीने पहले

पंजाब के तरनतारन में चर्च का विवाद थमा नहीं था कि जालंधर जिले में चर्च की खिड़की के शीशे तोड़ने की घटना सामने आ गई है। जालंधर के मकसूदां के तहत आने वाले गांव नंदनपुर (मकसूदां) में अराजक तत्वों ने कैथोलिक चर्च में तोड़ फोड़ की है। इस घटना के बाद गांव में तनाव का माहौल बना हुआ है। हालांकि पुलिस शीशे टूटने की घटना को अपने आप गिरकर टूटने का रूप दे रही है।

चर्च में तोड़ा गया खिड़की का शीशा
चर्च में तोड़ा गया खिड़की का शीशा

वहीं चर्च में तोड़फोड़ की घटना की सूचना मिलते ही ईसाई समुदाय के लोग जमा हो गए। उनमें खासा रोष है। चर्च के प्रबंधकों ने तोड़ फोड़ होने की पुष्टि की है। उन्होंने कहा कि इस घटना से ईसाई भाईचारे की भावनाओं को गहरी ठेस पहुंची है। तोड़फोड़ की सूचना मिलते ही एसएचओ मकसूदां मनजीत सिंह रंधावा भी पुलिस दलबल के साथ मौके पर पहुंच गए थे। लेकिन पुलिस इसे सोची समझी चाल के तहत तोड़फोड़ का मामला नहीं मान रही है। पुलिस दो ऐंगल से देख रही है।

एक पुलिस इसे चोरी के ऐंगल से देख रही दूसरा चर्च में रिपेयर का काम चल रहा था उस ऐंगल से देख रही है। पुलिस का मानना है कि या तो रिपेयर के दौरान खिड़की पर जो शीशा फिट किया था वह ढंग से ना चिपकने के कारण गिर गया था। या फिर दूसरा ऐंगल यह है कि खिड़की के पास बाहर घोड़ी (सीढ़ी) पड़ी थी जिससे शंका है कि शायद चोरों ने खिड़की को तोड़कर अंदर घुसने की कोशिश की थी।

चर्च में जांच करने पहुंचे थाना मकसूदां के एसएचओ मनजीत सिंह
चर्च में जांच करने पहुंचे थाना मकसूदां के एसएचओ मनजीत सिंह

लेकिन ईसाई समुदाय के लोगों का कहना है कि चर्चों पर हमले सोची समझी चाल औऱ षड्यंत्र के तहत करवाए जा रहे हैं। अगर चर्च पर हमलों की घटनाओं पर नकेल नहीं डाली गई तो बड़े स्तर पर प्रदर्शन किए जाएंगे। प्रबंधकों का कहना है कि इस तरह की घटनाओं से पंजाब का माहौल भी खराब हो सकता है। प्रबंधकों ने SSP जालंधर देहाती स्वर्णदीप सिंह से मामले की जांच की मांग की है।