महंगा पड़ गया “मित्तरां नूं शौंक हथियारां दा”:जूता व्यापारी ने सोचा फायरिंग करते वीडियो वायरल करने से नंबर बनेंगे, उलटा फंसा

जालंधर3 महीने पहले
हवाई फायरिंग करता जूता व्यापारी अमित ग्रोवर।

जालंधर का एक जूता व्यापारी फायरिंग करते वीडियो वायरल करना के चक्कर में कानूनी शिकंजे में फंस गया। नंबर बनाने के लिए व्यापारी की यह कोशिश महंगी पड़ गई। पुलिस ने वीडियो वायरल होने पर व्यापारी को उठा लिया। सत्ताधारी दल के नेताओं ने बीच में पड़कर मामला शांत कराया और जूता व्यापारी को थाने से छुड़ाया। हालांकि मामला अभी शांत नहीं हुआ है। पुलिस अब भी व्यापारी के पीछे से हटी नहीं है बल्कि जांच में जुटी है कि उसने फायरिंग कहां पर की है।

दरअसल, जालंधर में शेखां बाज़ार में शू मॉल के नाम से जूतों की दुकान चलाने वाले दुकानदार अमित ग्रोवर ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर एक वीडियो पोस्ट की। वीडियो में वह गन कल्चर को प्रोमोट करते हुए पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला के गीतों पर एक ग्राउंड में पिस्तौल से फायर कर रहा है। उसने जो वीडियो बनाई है, उसमें वह अपने तीन हथियारों, जिनमें से एक बंदूक और दो पिस्तौल शामिल हैं, दिखा रहा है।

सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल हो गई और पुलिस के पास जा पहुंची। पुलिस तो पहले ही जालंधर में चल रही गोलियों और हथियारों के दम पर हो रही लूट को लेकर सकते में हैं। उन्होंने तुरंत जूता व्यापारी अमित ग्रोवर को तलब कर लिया। तलब करते ही अमित ग्रोवर की हवाइयां उड़ गईं। मरता क्या न करता, थाने में जाने से पहले तुरंत अपने कुछ खास सत्ताधारी पार्टी के नेताओं को फोन कर सारे मामले की जानकारी दे दी। थाने में ग्रोवर के पहुंचने के साथ ही सत्ताधारी पार्टी के नेता भी वहां पहुंच गए।

आम आदमी पार्टी के नेताओं ने पुलिस वालों से रिक्वेस्ट कर किसी तरह अमित ग्रोवर को छुड़ाकर घर भेजा। हालांकि ग्रोवर के छूटने के बाद भी पुलिस ने अभी अपनी जांच बंद नहीं की है। पुलिस अब भी उस स्थान को तलाश रही है जहां पर अमित ग्रोवर ने फायरिंग की थी। उसने जिस पिस्टल से फायरिंग की थी उसका तो लाइसेंस दिखा दिया, लेकिन अन्य हथियारों का वीडियो दिखाया है, पुलिस उनके बारे में भी पूछताछ करेगी।