• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Navjot Sidhu's Lakhimpur Kheri Fury March, The Convoy Will Leave From Zirakpur In The Afternoon; Violence And Protest Against Priyanka's Detention

सिद्धू की अगुवाई में पंजाब कांग्रेस का रोष मार्च:लखीमपुर खीरी जाते काफिले को पुलिस ने UP बॉर्डर पर रोका, सिद्धू समेत पंजाब के 4 मंत्री और विधायक हिरासत में लिए

जालंधर12 दिन पहले
उत्तर प्रदेश के सहारनपुर के सरसावा थाने में हिरासत में बैठे सिद्धू, कांग्रेसी मंत्री और विधायक।

लखीमपुर खीरी हिंसा के विरोध में नवजोत सिद्धू की अगुवाई में पंजाब कांग्रेस ने गुरूवार को रोष मार्च निकाला। मार्च की शुरूआत में CM चरणजीत चन्नी भी शामिल हुए। हालांकि वो व्यक्तिगत कार्य की वजह से घर वापस लौट गए। मोहाली से निकले रोष मार्च वाले काफिले को UP में नहीं घुसने दिया गया। यूपी पुलिस ने सिद्धू के काफिले को बॉर्डर पर ही रोक दिया। इसके बाद कांग्रेसियों ने बैरिकेड तोड़कर घुसने की कोशिश की। जिसके बाद उनकी पुलिस से भिड़ंत हो गई। जिसके बाद पुलिस ने नवजोत सिद्धू, उनके साथ गए मंत्रियों अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग, परगट सिंह, विजयेंद्र सिंगला, गुरकीरत कोटली और कुछ विधायकों को हिरासत में ले लिया। इन सभी को सहारनपुर के सरसावा थाने में रखा गया है।

यूपी बॉर्डर से सिद्धू को गिरफ्तार कर ले जाती पुलिस।
यूपी बॉर्डर से सिद्धू को गिरफ्तार कर ले जाती पुलिस।

यूपी पुलिस कह रही है कि लखीमपुर खीरी में धारा 144 लगी हुई है। सिर्फ 5 लोग ही वहां जा सकते हैं। हालांकि सिद्धू सभी मंत्रियों और विधायकों के साथ जाने पर अड़े हुए हैं। इस वजह से सभी को पुलिस ने थाने में बिठाकर रखा है।

नवजोत सिद्धू और अन्य नेताओं को हिरासत में लेकर जाती UP पुलिस।
नवजोत सिद्धू और अन्य नेताओं को हिरासत में लेकर जाती UP पुलिस।

इससे पहले सिद्धू काफिला रोके जाने पर यूपी पुलिस को लोकतंत्र का पाठ पढ़ाते दिखे। सिद्धू ने कहा कि जिस आरोपी को गिरफ्तार करना था, वो खुलेआम घूम रहा है। इंसाफ मांगने वालों को उत्तर प्रदेश पुलिस परेशान कर रही है। पुलिस ने सिर्फ 5 लोगों को जाने की बात कही, लेकिन सभी कांग्रेसी जाने पर अड़े हुए हैं।

जीरकपुर से यूपी के लिए रवाना होते सिद्धू।
जीरकपुर से यूपी के लिए रवाना होते सिद्धू।

इससे पहले जीरकपुर से काफिले की शुरूआत के वक्त CM चरणजीत चन्नी भी शामिल हुए। उनके बेटे के शादी समारोह के चलते वो काफिले के साथ आगे नहीं गए। काफिले में करीब 2 हजार गाड़ियां शामिल हैं। सिद्धू कैंप ने 10 हजार गाड़ियों का दावा किया था। इससे पहले मोहाली में सिद्धू जमकर गरजे। सिद्धू ने उत्तर प्रदेश की योगी सरकार को चेतावनी दी कि अगर केंद्रीय मंत्री के बेटे को गिरफ्तार नहीं किया गया तो वो कल से भूख हड़ताल पर बैठ जाएंगे। किसानों के लिए जान भी देनी पड़ी तो वो कुर्बान करने से पीछे नहीं हटेंगे।

लखीमपुर खीरी मार्च में जाने के लिए जुटे कांग्रेसी।
लखीमपुर खीरी मार्च में जाने के लिए जुटे कांग्रेसी।

नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा कि आज तक मैंने पीठ में छुरे घोंपने की बात तो सुनी थी, लेकिन पीछे से गाड़ियां चढ़ाते पहली बार देखा है। अभी तक केंद्रीय मंत्री के बेटे ने न इन्वेस्टिगेशन जॉइन की और न ही उसे गिरफ्तार किया गया। क्या एक केंद्रीय मंत्री और उसका बेटा कानून और संविधान से बड़े हो गए हैं? इसके बाद सिद्धू की अगुवाई में काफिला मोहाली से उत्तर प्रदेश के लिए रवाना हो गया है।

रोष मार्च के लिए रवाना होते वक्त कांग्रेसियों संग सिद्धू खूब जोश में दिखे।
रोष मार्च के लिए रवाना होते वक्त कांग्रेसियों संग सिद्धू खूब जोश में दिखे।

सिद्धू को दिखाए गए काले झंडे
मार्च में शामिल होने के लिए सिद्धू थरेड़ी जट्‌टां टोल प्लाजा पर पहुंचे तो वहां बैठे किसानों ने उन्हें काले झंडे दिखाकर रोष प्रदर्शन कर दिया। भड़के किसानों ने कांग्रेस की गाड़ियों से किसानों के स्टीकर भी उतार दिए। किसानों का कहना था कि सिद्धू उत्तर प्रदेश जा रहे हैं, लेकिन पंजाब में टोल प्लाजा पर बैठे किसानों की सुध नहीं ली। अब लखीमपुर खीरी मामले में वो राजनीति कर रहे हैं।

काफिले में हिस्सा लेने के लिए रवाना होते कांग्रेसी।
काफिले में हिस्सा लेने के लिए रवाना होते कांग्रेसी।

सिद्धू ने ट्वीट कर जताया था विरोध
नवजोत सिद्धू लगातार ट्विटर के जरिए सक्रिय हैं। लखीमपुर खीरी हिंसा मामले में भी उन्होंने ट्वीट कर कार्रवाई की मांग की थी। इसके बाद सिद्धू ने प्रियंका गांधी को हिरासत में रखने का विरोध किया। सिद्धू ने तभी चेतावनी दी थी कि अगर प्रियंका गांधी को न छोड़ा गया तो वो रोष मार्च करेंगे। प्रियंका गांधी को बुधवार को रिहा कर दिया गया। हालांकि तब तक सिद्धू रोष मार्च की तैयारी कर चुके थे।

सिद्धू ने प्रियंका और राहुल के समर्थन में ट्वीट किया।
सिद्धू ने प्रियंका और राहुल के समर्थन में ट्वीट किया।

पंजाब प्रधान पद से इस्तीफा दे चुके
सिद्धू पंजाब में कांग्रेस के प्रधान पद से इस्तीफा दे चुके हैं। हालांकि 10 दिन पहले इस्तीफा देने के बावजूद उस पर कोई फैसला नहीं हुआ। कांग्रेस हाईकमान ने न इस्तीफा स्वीकार किया और न ही उसे ठुकराया। हालांकि सिद्धू के अब लिए फैसले से साफ है कि वो कांग्रेस में ही बने रहेंगे। बुधवार को भी उन्होंने पंजाब कांग्रेस प्रधान के तौर पर ही मीटिंग बुलाई थी।

काफिले में हिस्सा लेने के लिए रवाना होती गाड़ियां।
काफिले में हिस्सा लेने के लिए रवाना होती गाड़ियां।

CM चन्नी पंजाब लौटे
CM चरणजीत चन्नी पहले ही लखीमपुर खीरी जा चुके हैं। UP सरकार ने उनके हेलिकॉप्टर को उतरने की इजाजत नहीं दी, जिसके बाद वह बुधवार को राहुल गांधी के साथ लखीमपुर खीरी गए। वहां पीड़ितों से मिलने से पहले उन्होंने मृतकों के परिवार को 50-50 लाख रुपए की मदद की घोषणा की। इसके बाद चन्नी बुधवार रात को ही पंजाब वापस लौट आए।

खबरें और भी हैं...