जालंधर में वैक्सीन न लगवाने पर स्कूलों में 'नो एंट्री':DC थोरी के कड़े निर्देश- 31 अगस्त तक का समय है, टीचर्स व स्टाफ इंजेक्शन लगवाकर ही आएं, नहीं तो कानूनी कार्रवाई होगी

जालंधरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
अफसरों से बैठक करते DC घनश्याम थोरी। - Dainik Bhaskar
अफसरों से बैठक करते DC घनश्याम थोरी।

31 अगस्त के बाद स्कूलों में उन टीचर्स व स्टाफ के लिए 'नो एंट्री' रहेगी, जिन्होंने कोविड वैक्सीन नहीं लगवाई है। पंजाब में लुधियाना, होशियारपुर, नाभा व बठिंडा में स्कूली बच्चे कोरोना संक्रमित हो चुके हैं, जिसे देखकर सहमे जालंधर प्रशासन ने यह सख्त आदेश दिए हैं। DC घनश्याम थोरी ने शिक्षा विभाग से उन सभी स्कूल टीचर्स व स्टाफ की लिस्ट भी तलब की है, जिन्होंने कोविड वैक्सीन नहीं लगाई है।

सरकारी व प्राइवेट स्कूलों पर लागू होंगे आदेश

इस महीने के अंत तक जिले के सभी सरकारी व प्राइवेट स्कूलों में 100% वैक्सीनेशन करवानी होगी। DC घनश्याम थोरी ने कहा कि जिला शिक्षा अधिकारी को दोनों तरह के स्कूलों के उन टीचर्स व स्टाफ की लिस्ट बनाने को कहा है, जो वैक्सीन से वंचित हैं। इसमें कितने पहली व कितने दूसरी डोज ले चुके हैं, इसके बारे में भी ब्यौरा मांगा गया है। किसी को भी बिना वैक्सीन लगे स्कूल आने की परमिशन नहीं दी जाएगी। अगर किसी ने लापरवाही बरती और संक्रमण फैला तो उसके खिलाफ सख्त कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

2 दिन में सूची के बाद लगेंगे स्पेशल कैंप

कोरोना की तीसरी लहर बच्चों के लिए खतरनाक बताई जा रही है। इसे देखते हुए जिला शिक्षा अधिकारी को 2 दिन में वैक्सीन न लगवाने वाले टीचर्स व स्टाफ की लिस्ट देनी होगी। उसे जिला टीकाकरण अधिकारी को भेजा जाएगा, जो इन स्कूलों में स्पेशल कैंप लगाएंगे। इसके अलावा सेहत विभाग को स्कूलों में कोरोना की जांच के लिए RT-PCR टेस्ट करने के लिए भी कहा गया है।