• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Not More Than 2 Thousand Buses Will Run; Contract Employees Will Gherao CM At Siswan Farm House, Private Buses Will Continue To Run From Bus Stand

हड़ताली बस कर्मियों को सरकार ने बातचीत के लिए बुलाया:सिसवां फार्म हाउस घेराव टाला; कल चंडीगढ़ में CM से होगी बैठक, पंजाब में सरकारी बसों का दूसरे दिन भी चक्का जाम जारी, प्राइवेट चलती रहेंगी

जालंधरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर बस स्टैंड के भीतर से सवारियों को लेकर निकलती प्राइवेट बसें। - Dainik Bhaskar
जालंधर बस स्टैंड के भीतर से सवारियों को लेकर निकलती प्राइवेट बसें।

पंजाब में सरकारी बसों का चक्का जाम दूसरे दिन भी जारी रहेगा। 2 हजार से ज्यादा बसें पंजाब रोडवेज के 18 व पीआरटीसी के 9 डिपो में खड़ी रहेंगी। जालंधर में सभी सरकारी बसें वर्कशॉप के भीतर लगा दी गई हैं। कोई बस बाहर न निकल सके, इसके लिए मेन गेट को बस खड़ी करके बंद कर दिया गया है। इसी बीच हड़ताल पर चल रहे कांट्रेक्ट बस कर्मियों को पंजाब सरकार ने बातचीत का न्यौता दे दिया है। बुधवार को चंडीगढ़ में सीएम हाउस में उनकी CM कैप्टन अमरिंदर सिंह से बैठक होगी। बातचीत के लिए बुलाए जाने के बाद हड़ताली कर्मचारियों ने सिसवां फार्म हाउस जाकर CM कैप्टन अमरिंदर सिंह के घेराव का कार्यक्रम टाल दिया है।

पंजाब में इस वक्त पीआरटीसी, पंजाब रोडवेज व पनबस के कांट्रेक्ट वाले करीब 8 हजार कर्मचारी हड़ताल पर चल रहे हैं। जिसकी वजह से सरकारी बसों की आवाजाही ठप हो चुकी है। कांट्रेक्ट वर्करों के जालंधर के प्रधान गुरप्रीत सिंह ने इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि चक्काजाम फिलहाल जारी है। कल मुख्यमंत्री से बैठक के बाद कोई हल निकलेगा तो ही प्रदर्शन खत्म होगा अन्यथा संघर्ष की रणनीति तैयार की जाएगी। तब तक सरकारी बसों का चक्काजाम जारी रहेगा।

हालांकि बस से यात्रा करने वाली सवारियों के लिए राहत की खबर यह है कि प्राइवेट बसों की आवाजाही जारी रहेगी। यह बसें बस स्टैंड के भीतर से ही चलेंगी। हड़ताली कर्मचारियों ने बस स्टैंड को बंद नहीं किया है। जो लोग बस से जाना चाहते हैं, वे बस स्टैंड के भीतर से ही प्राइवेट बस में बैठ सकते हैं। सरकारी ड्राइवर व कंडक्टर के जरिए चुनिंदा सरकारी बसों को भी चलाया जा रहा है।

बस स्टैंड जालंधर में सरकारी बस की तलाश में भटकती सवारियां।
बस स्टैंड जालंधर में सरकारी बस की तलाश में भटकती सवारियां।

कर्मचारी पक्के करके 10 हजार बसों का नया फ्लीट लाए सरकार

कॉन्ट्रैक्ट कर्मचारियों का कहना है कि वह कई वर्षों से कॉन्ट्रैक्ट पर काम कर रहे हैं। हर बार उन्हें पक्का करने का वादा करके नई सरकार आती है। फिर 5 साल इसी तरह गुजर जाते हैं। इसलिए सरकार सभी कर्मचारियों को पक्का करे। सरकार ने महिलाओं के लिए मुफ्त बस सफर की सुविधा शुरु कर दी, लेकिन बसें ही पर्याप्त नहीं हैं। तुरंत 10 हजार बसों का नया फ्लीट लाया जाए। सरकारी बसें कम होने की वजह से ही प्राइवेट ट्रांसपोर्ट माफिया बढ़ रहा है। छिटपुट आरोपों के बाद बर्खास्त किए कर्मचारियों को नौकरी पर बहाल किया जाए।

यूनियन प्रधान गुरप्रीत सिंह।
यूनियन प्रधान गुरप्रीत सिंह।

यूनियन प्रधान बोले : हमारे साथ धोखा हुआ, लोगों की असुविधा के लिए सरकार जिम्मेदार

जालंधर में कॉन्ट्रैक्ट वर्कर यूनियन के प्रधान गुरप्रीत सिंह ने कहा कि सरकार ने हमारे साथ धोखा किया। अफसरों से लेकर ट्रांसपोर्ट मंत्री रजिया सुल्ताना से मिल चुके, लेकिन मांगें नहीं मानी जा रहीं। मजबूर होकर हमें चक्का जाम करना पड़ा। इससे लोगों को हो रही परेशानी के लिए हम माफी मांगते हैं, लेकिन इसकी जिम्मेदार सरकार है। पंजाब सरकार किसी भी वक्त हमारी मांगें मानकर लोगों को राहत दे सकती है। अब उन्हें कल मुख्यमंत्री से होने वाली बैठक में कोई हल निकलने की उम्मीद है।

खबरें और भी हैं...