पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Now 1685 Crore Rupees Will Be Sold In The Accounts Of Farmers Of Jalandhar, The Agro tractor Industry Hopes, Orders Will Increase

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

एग्रीकल्चर सेक्टर:अब जालंधर के किसानों के खातों में आएंगे गेहूं की बिक्री के 1685 करोड़ रुपए, एग्रो-ट्रैक्टर इंडस्ट्री को उम्मीद, बढ़ेंगे आर्डर

जालंधर11 दिन पहलेलेखक: प्रवीण पर्व
  • कॉपी लिंक

कोरोना काल में लंबे लाॅकडाउन और फिर श्रमिकों की भारी कमी से पैदा हुई मंदी को पहले धान की फसल के जालंधर के किसानों के पास आए 1900 करोड़ रुपए ने दूर करने में मदद दी थी। अभी जो 30 फीसदी तक की स्थिरता एग्रो-इंजीनियरिंग सेक्टर की इंडस्ट्री में आई थी, अब गेहूं की फसल के आने के बाद दूर होने की उम्मीद है। जालंधर की फैक्ट्रियां ट्रैक्टर पार्ट्स, खेती मशीनरी और ट्रालियों आदी के टायर बनाती हैं, उन्हें नए आर्डरों की उम्मीद है। नई मशीनरी के लिए अभी से बुकिंग आने लगी है। पंजाब में गेहूं का उत्पादन करीब 22 हजार करोड़ रुपए का होता है।

पिछले साल 188 लाख टन गेहूं पैदा हुआ, ये इस साल 200 लाख टन क्रास करेगा। जालंधर जिले में करीब 1685 करोड़ से ज्यादा की फसल पैदा होगी। जिसका इंतजार अब लोकल इंडस्ट्री को है। जिले में यूं तो 15,500 फैक्ट्रियां हैं। इनमें 5000 का संबंध खेतीबाड़ी सेक्टर के उत्पादों से है। जालंधर के कारखाने ट्रैक्टर इंडस्ट्री के लिए पुर्जे तैयार करते हैं। इसके अलावा तमाम तरह की खेती मशीनरी के पुर्जे तैयार होते हैं।

लंबे लाॅकडाउन के बाद पहले धान की फसल ने दिया था बड़ा सहारा

एग्रो इंडस्ट्री के लिए पुर्जे तैयार करने वाले इंदरजीत सिंह भाटिया कहते हैं कि जब किसान एक ट्रैक्टर खरीदता है तो इससे लगाने को करीब 350 लाख रुपए की ट्राली लगती है। अकसर किसान फसल की बिक्री होने पर ही मशीनरी की खरीद करते हैं। लाकडाउन के बाद बड़ी संख्या में श्रमिक अपने राज्यों को लौट गए थे, जिसके बाद किसानों में मशीनों की खरीदारी में इजाफा देखने को मिला है। अभी गेहूं की फसल बेचकर जालंधर के किसानों के हाथ करीब 1685 करोड़ रुपए आएंगे। जिससे लोकल इंडस्ट्री को काम मिलेगा।

लंबे लाॅकडाउन के बाद पहले धान की फसल ने दिया था बड़ा सहारा

एग्रो इंडस्ट्री के लिए पुर्जे तैयार करने वाले इंदरजीत सिंह भाटिया कहते हैं कि जब किसान एक ट्रैक्टर खरीदता है तो इससे लगाने को करीब 350 लाख रुपए की ट्राली लगती है। अकसर किसान फसल की बिक्री होने पर ही मशीनरी की खरीद करते हैं। लाकडाउन के बाद बड़ी संख्या में श्रमिक अपने राज्यों को लौट गए थे, जिसके बाद किसानों में मशीनों की खरीदारी में इजाफा देखने को मिला है। अभी गेहूं की फसल बेचकर जालंधर के किसानों के हाथ करीब 1685 करोड़ रुपए आएंगे। जिससे लोकल इंडस्ट्री को काम मिलेगा।

दूसरी तरफ इंडस्ट्री के लोग बताते हैं कि लाॅकडाउन के बाद फैक्ट्रियों में काम तो शुरू हुआ, लेकिन अभी भी करीब 30 फीसदी का धीमापन बरकरार है। जिसे अभी गेहूं की फसल की कमाई तेजी देगी। ट्रैक्टर पार्ट्स मेन्युफैक्चरर सूबा सिंह का कहना है कि ट्रैक्टर कंपनियां जालंधर में इंजिन पार्ट्स तैयार करवाती हैं। तमाम लाॅकडाउन के बीच ट्रैक्टर की बिक्री में कमी नहीं आई, इसी से कारखानों को काम मिला। कनफेडरेशन आॅफ इंडियन इंडस्ट्रीज के जालंधर कौंसिल के चेयरमैन तुषार जैन कहते हैं कि पिछले साल के मुकाबले मेन्युफेक्चरिंग यूनिटों के हालात सुधरे हैं, लेकिन पहले जैसी तेजी को लेकर अभी भी जद्दोजहद जारी है। इंजीनियरिंग सेक्टर की डिमांड दूसरे राज्यों में पैदा हो रही है। एग्रोवाल्व तैयार करने वाले राजन गुप्ता ने कहा कि खेतों में वाटर लाइनिंग व ट्यूबवेल इंडस्ट्री का अगले दो महीने गोल्डन पीरियड शुरू हो रहा है।

नई मशीनरी खरीदने के लिए बुकिंग शुरू

धान की बिक्री से पहले नई मशीनरी खरीदने के लिए अभी से बुकिंग शुरु है। जालंधर में अपनी वर्कशाप और लुधियाना जैसे शहरों से मशीनें मंगवाकर जालंधर में बेचने वाले डीलर बुकिंग कर रहे हैं। किसान रोटावेटर, ड्रिलर, लेजर लेवलर, पंप, स्परे मशीनरी की खरीद करते हैं।

एग्रो इंजीनियरिंग पार्ट्स का निर्माण

हर साल जालंधर में 2000 करोड़ से उत्पादन होता है। जिसमें ट्रैक्टर पार्ट्स के पुर्जे, मिट्टी खोदने वाली बड़ी मशीनों के पुर्जे, इंजन, फसल ढोने वाली ट्रालियों के पुर्जे, हुक, कनवेयर बेल्ट, खेती मशीनरी के पुर्जे तैयार किए जाते हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें