अब 42 महीने का होगा कोर्स:3 साल की आर्टिकलशिप को घटाकर 2 वर्ष किया, फार्मेट बदलने का बना प्रस्ताव

जालंधर6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बढ़ती इकाॅनमी में तेजी से नए सीए बनाने को परीक्षा का फार्मेट बदलने का प्रस्ताव। - Dainik Bhaskar
बढ़ती इकाॅनमी में तेजी से नए सीए बनाने को परीक्षा का फार्मेट बदलने का प्रस्ताव।

दी इंस्टीट्यूट ऑफ चार्टेड अकाउंटेट्स ऑफ इंडिया की सेंट्रल कौंसिल के मेंबर धीरज खंडेलवाल और डाॅ. राज चावला ने बताया कि भारत की बढ़ती इकाॅनमी में चार्टेड अकाउंटेंट्स की मांग भी बढ़ी है। देश में 2 लाख नए सीए की मांग पैदा हुई है। इंस्टीट्यूट के कैंपस प्लेसमेंट में जो सामान्य प्लेसमेंट पैकेज 6 लाख था वो अब औसतन साढ़े बारह लाख तक पहुंचा है।

कैंपस प्लेसमेंट में 30 लाख तक के पैकेज पर भी युवाओं की सिलेक्शन हुई है। ऐसे में नए सीए बनाने की रफ्तार तेज करने के लिए परीक्षा का फार्मेट बदलने का प्रस्ताव बना है। आईसीएआई ने सीए पाठ्यक्रम की अवधि 6 महीने घटा दी है। अब 48 की जगह 42 महीने में नए सीए बन सकेंगे। तीन साल की आर्टिकलशिप को घटाकर 2 साल किया गया है।

यदि विद्यार्थी सीए नहीं कर पाता है तो सीए इंटर क्वालीफाइड को बिजनेस अकाउंटिंग एसोसिएट (बीएए) डिग्री मिलेगी, जो बैचलर डिग्री के बराबर होगी। वर्तमान में ऐसे विद्यार्थियों को अकाउंटिंग टेक्नीशियन कोर्स का सर्टिफिकेट मिलता है। प्रस्तावों में शामिल किया गया है कि नए पाठ्यक्रम के अनुसार दसवीं के बाद विद्यार्थी फाउंडेशन के लिए पंजीकरण करा सकेगा। सीए फाइनल एग्जाम ढाई साल बाद होगा। इस दौरान पूरे 6 महीने परीक्षा की तैयारी के लिए मिलेंगे।

प्रश्न पत्र की संख्या घटाई, 8 की जगह 6 होंगे

नए पाठ्यक्रम के तहत फाइनल और इंटरमीडिएट परीक्षा में प्रश्न पत्र की संख्या 8 से घटाकर छह करने का प्रस्ताव है। इंटर और फाइनल के सभी 6 प्रश्न पत्र में 30 फीसदी प्रश्न वस्तुनिष्ठ प्रकार के होंगे। 25 फीसदी नेगेटिव मार्किंग रखी गई है। सेल्फ पेस लर्निंग के जरिये सीए छात्र को फाइनल परीक्षा से पहले चार अन्य पेपर ऑनलाइन पास करने होंगे। स्टाईपैंड डबल होगा। इस प्रस्ताव को सरकार की मंजूरी के बाद लागू किया जाएगा।

ट्रेनिंग पर फोकस बढ़ाने के लिए नया नियम बनाया गया है। आईसीएआई के बोर्ड ऑफ स्टडीज ने सीए पाठ्यक्रम में बदलाव का ड्राफ्ट तैयार किया है। वर्तमान में 3 साल की आर्टिकलशिप के दौरान 156 छुट्टियां होती है। इसे घटाकर केवल 24 छुट्टियां रखी गई है। दो साल की आर्टिकलशिप खत्म करने के 6 माह बाद विद्यार्थी सीए की परीक्षा दे सकेगा।

नया प्रस्ताव लागू होने से करियर का स्कोप

सीए धीरज खंडेलवाल ने कहा कि सीए मेहनती लोगों का प्रोफेशन है। यहां आर्थिक संसाधन नहीं बल्कि मेहनत काम करती है। यही कारण है कि साधारण परिवारों के युवा हर साल ये परीक्षा पास करते हैं। ये करियर का बढ़िया स्कोप है। देश की आर्थिक तरक्की में अहम योगदान देता है।

खबरें और भी हैं...