पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

स्वच्छता सर्वेक्षण-2021:पब्लिक टॉयलेट की गूगल एप पर लोकेशन और अपग्रेड सुविधाओं से दूसरे साल भी मिला ओडीएफ++ सटिर्फिकेट

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सर्वे से पहले निगम खाते में 500 अंक जुड़ गए
  • पहली मार्च से शुरू हो रहे सर्वे से पहले निगम को मिला हौसला

सिटी में सालों से सफाई व्यवस्था, ओपन डंप और वरियाणा डंप के कूड़े के पहाड़ की प्रोसेसिंग नहीं होने के बावजूद स्वच्छता सर्वेक्षण - 2021 के लिए पहली मार्च से शुरू होने वाले सर्वे से पहले निगम को काफी हौसला मिला है। कारण केंद्रीय आवास एवं शहरी विकास मंत्रालय द्वारा कराए गए सर्वे में जालंधर निगम को लगातार दूसरे साल ओडीएफ++ सर्टिफिकेट (ओपन डेफेकेशन फ्री) मिला है।

यह मान्यता इस बार 3 कैटेगरी में कुल 6000 अंक के लिए होने वाले सर्वेक्षण का ही हिस्सा है, जिसमें ओडीएफ++ के लिए निगम के खाते में 500 अंक जुड़ गए हैं। सिटी में बने 32 पब्लिक टॉयलेट को अपग्रेड कर 25% टॉयलेट में बेहतर सफाई के साथ ही हैंड ड्रायर, पब्लिक फीडबैक मशीनें, इंसीनीरेटर, सेनेटरी वेंडिंग मशीन सहित लिक्विड शॉप व परफ्यूम की सुविधा उपलब्ध होने से निगम बीते साल के रैंक पर कायम रहा है। केंद्रीय मंत्रालय द्वारा शनिवार को रिजल्ट घोषित करने के बाद पीएमआईडीसी ने निगम को इस उपलब्धि के बारे में सूचना दी।

ओडीएफ++ का मानदंड, जिसे निगम ने पूरा किया

  • खुले में शौच मुक्त सिटी के लिए स्लम एरिया में 902 टॉयलेट बनवाने के लिए प्रति घर 6000 रुपये की आर्थिक मदद दी।
  • सिटी में 82 पब्लिक टॉयलेट बनाने की योजना, इसमें 32 इस्तेमाल में हैं।
  • सभी पब्लिक टॉयलेट में हेल्पर।
  • पब्लिक टॉयलेट के गंदे पानी और गंदगी को 100 ट्रीट करने के लिए एसटीपी की सुविधा।
  • सिटी के पब्लिक टॉयलेट की लोकेशन गूगल एप पर मौजूद है।
  • सिटी की आबादी का 5 फीसदी फुट फॉल होता है, जिसमें प्रत्येक 250 व्यक्ति पर एक टॉयलेट सीट की सुविधा मौजूद थे।

सर्व में सर्टिफकेशन कैटेगरी के 1800 में से 500 अंक पक्के
सर्वे में 6000 अंक में से सर्टिफिकेशन कैटेगरी के लिए 1800 नंबर तय हैं, इसमें ओडीएफ++ वाटर कैटेगरी सबसे ऊपर है, जिसके 700 नंबर और गारबेज फ्री सिटी के लिए अलग-अलग रैंक वास्ते 1100 नंबर तय हैं। चूंकि जालंधर को अभी ओडीएफ++ का सर्टिफिकेट है, जिसके लिए 500 अंक अभी से निगम के खाते में जुड़ गया है।

वाटरबोर्न डिसीज का घटेगा आंकड़ा
डॉ. श्री कृष्ण शर्मा ने बताया कि खुले में शौच मुक्त बंद होने और पब्लिक टॉयलेट की बेहतर सुविधा से वाटर बोर्न मसलन पीलिया, टाइफायड, मलेरिया और हैपेटाइटिस-सी के मरीजों की संख्या कम होती रहेगी।

अगले साल पूरे 700 नंबर का टारगेट
निगम के स्वच्छ भारत मिशन के इंचार्ज डॉ. श्री कृष्ण शर्मा का कहना है कि अगले साल निगम इस कैटेगरी के पूरे 700 नंबर का दावा करेगा। इसमें पब्लिक टॉयलेट की संख्या और सुविधाएं बढ़ाने के साथ ही एसटीपी के गंदे पानी को ट्रीट करने के बाद दोबारा से इस्तेमाल की योजना को कारगर करना होगा।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें