पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सरकार से लेनी होगी अनुमति:मेंबरशिप ले 14 हथियार तक रख सकते हैं लोग, मेंबरशिप कार्ड के लिए होगा वेरिफिकेशन

जालंधर19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • हथियारों का शौक पूरा करने को लोग पंजीकृत शूटिंग एसोसिएशन के बन रहे मेंबर

राज्य में अब रजिस्टर्ड निशानेबाजी या शूटिंग खेल एकेडमीज या फिर एसोसिएशन से मेंबरशिप लेने के लिए सरकार से अनुमति लेनी होगी। अभी तक विभिन्न एसोसिएशन के द्वारा शूटिंग खेल का प्रशिक्षण लेने वाले लोगों और खिलाड़ियों को मेंबरशिप कार्ड बनाकर देती रही है। इस पर धांधली होने की शिकायत पर सरकार की ओर से एक्शन लिया गया है। नए नियम के तहत मेंबरशिप कार्ड देने से पहले एसो. को आवेदक के सभी प्रशिक्षण संबंधी दस्तावेज और आवेदन को चंडीगढ़ भेजना होगा, इसके बाद सरकार को आवेदन सही मिला तो कार्ड बनाने की अनुमति देगी। गड़बड़ी मिली तो आवेदन निरस्त हो जाएगा।

गौर हो कि एक मेंबरशिप कार्ड पर 14 हथियार रखे जा सकते हैं। सरकार को जानकारी मिली थी कि निशानेबाजी से संबंधित सूबे की कई पंजीकृत एसोसिएशन गलत तरीके से लोगों को प्रशिक्षण देने के नाम पर उन्हें मेंबरशिप कार्ड बांट रही हैं। इसके एवज में लोगों से मोटी रकम ली जा रही है। इसकी वजह राज्य में लोगों को हथियार रखने का शौक है, सरकार के फरमान से एक लाइसेंस पर दो से ज्यादा हथियार नहीं रो जा सकते। इस कारण लोग हथियार रखने के लिए मेंबरशिप कार्ड बनवाने लगे हैं। अचानक अधिक संख्या में खेल मेंबरशिप के कार्ड बनने में आई तेजी के बाद सरकार ने आवेदन पत्रों और आवेदकों की जांच कराने का निर्णय लिया है।

एक से अधिक असलहा रखा तो मिलेगा नोटिस

सरकार ने साल 2019 में एक लाइसेंस पर दो से अधिक हथियार नहीं रखने का आदेश जारी किया था। इस आदेश के तहत दो से अधिक हथियार रखने वाले लोगों को अपने हथियार वापस करने होंगे। इसके लिए 13 दिसंबर तक लोगों को समय दिया गया था। जिले में 16900 से अधिक हथियारों के लाइसेंस आम लोगों के पास हैं। इस बाबत एडीसी जसबीर सिंह का कहना है कि जिन लोगाें ने निर्धारित डेट तक असलहा नहीं जमा कराया है, उन्हें कानूनी प्रक्रिया के तहत नोटिस भेजा जाएगा। इसके बाद लाइसेंस जब्त करने की कार्रवाई की जाएगी।

अचानक बढ़ गए लाइसेंस के आवेदन

राज्य में औसतन हर 18वें परिवार के पास लाइसेंसी बंदूक है। इनमें 40% निजी सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी के लिए हथियार लेना चाहते हैं। प्राइवेट सिक्योरिटी एजेंसियों में काम करने वालों को अधिक सैलरी मिलती है, क्योंकि उनके पास हथियार होता है। वहीं आदेश आने के बाद लोगों ने अतिरिक्त लाइसेंस पत्नी, बेटे, भाई या फिर अपने चहेतों के नाम पर ट्रांसफर करने का फार्मूला खोज निकाला था। लॉकडाउन के पहले जिले के सभी सेवा केंद्रों पर प्रतिमाह 50 से 60 आवेदन आते रहे हैं। आदेश के बाद 180 से लेकर 200 तक नए लाइसेंस के लिए आवेदन आ रहे थे। इनमें 25% लोगों के पास एक लाइसेंस पर दो से अधिक असलहा हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज आपकी प्रतिभा और व्यक्तित्व खुलकर लोगों के सामने आएंगे और आप अपने कार्यों को बेहतरीन तरीके से संपन्न करेंगे। आपके विरोधी आपके समक्ष टिक नहीं पाएंगे। समाज में भी मान-सम्मान बना रहेगा। नेग...

    और पढ़ें