पेट्रोल पंप कर्मी को लूटने वाले काबू:पुलिस ने लुटेरों के कब्जे से 96 हजार कैश और एक्टिवा स्कूटी की बरामद

जालंधर10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पकड़े गए लुटेरे पुलिस अधिकारियों के साथ। - Dainik Bhaskar
पकड़े गए लुटेरे पुलिस अधिकारियों के साथ।

जालंधर शहर में बढ़ रही अराजक गतिविधियों पर नकेल डालने के लिए पुलिस भी सक्रिय हो गई है। पुलिस ने भी अराजक तत्वों पर शिकंजा कसना शुरू कर दिया है। जालंधर शहरी पुलिस ने लूटपाट करने वाले गिरोह के दो सदस्यों को काबू किया है। इनके कब्जे से पुलिस ने कैश के साथ-साथ चोरी की एक्टिवा भी बरामद की है। यह वही लुटेरे हैं जिन्होंने दो दिन पहले दिनदहाड़े मकसूदां में पेट्रोल पंप के कर्मचारी से लूट की थी और तीन लाख रुपया छीन कर फरार हो गए थे।

जालंधर कमिश्नरेट के तहत आते पुलिस थाना नंबर एक की पुलिस टीम ने गुप्त सूचना के आधार पर दो लूटपाट करने वाले लोगों को पकड़ा है। पकड़े गए अराजक तत्वों की पहचान रमेश कुमार भोमा निवासी मंडी मोहल्ला करतारपुर और सुरिंदर सिंह निवासी कूका मोहल्ला जिला कपूरथला के रूप में हुई है। एसएचओ थाना डिवीजन नंबर एक के प्रभारी सुरजीत सिंह ने बताया कि वारदात के बाद उन्होंने वारदात स्थल के आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को अपने कब्जे में लिया था। उससे उन्हें पता चला है कि लुटेरे करतारपुर की तरफ भागे हैं। उन्होंने उसी दिशा में लगे अन्य कैमरों को भी खंगाला तो उन्हें लुटेरों को सुराग मिल गया।

पुलिस के हाथ सबसे पहले रमेश भोमा लगा। जब रमेश पर सख्ती दिखाई तो उसने आगे सुरिंदर को भी पकड़वा दिया। एसएचओ सुरजीत सिंह ने बताया लुटेरों के कब्जे से 96000 रुपये कैश बरामद हो गया है। जबकि कुछ पैसे दोनों ने चिट्टा खरीदने के लिए खर्च है कुछ बारे बारे में बताया है कि उन्होंने बैंक में जमा करवा दिया है। दोनों पकड़े गए युवक पच्चीस से तीस साल के हैं और दोनों ही नशे की आदी है।

थाना प्रभारी ने यह भी बताया कि दोनों ने लूट से पहले बाकायदा पेट्रोल पंप कर्मचारी की रैकी थी थी कि वह कितने बजे पंप से निकलता है और कौन से बैंक में पैसे जमा करवाने के लिए जाता है। इसके बाद उन्होंने पूरे योजनाबद्ध तरीके से लूट की घटना को अंजाम दिया। दोनों आरोपी वारदात को अंजाम देने के बाद हिमाचल प्रदेश में भाग गए थे। वहीं पर उन्होंने नशा खरीदा और जमकर जश्न मनाया लेकिन जैसे ही लौटे पुलिस ने पकड़ लिए।