लुटेरों ने लूट से पहले की थी रेकी:पुलिस ने 2 आरोपियों को किया गिरफ्तार, लाखों के सोने के गहने बरामद

जालंधर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस अधिकारियों के साथ पकड़े गए लुटेरे - Dainik Bhaskar
पुलिस अधिकारियों के साथ पकड़े गए लुटेरे

पंजाब के जालंधर कैंट में दीप नगर के साथ लगती न्यू डिफेंस कॉलोनी में तीन दिन पहले हुई लूट की घटना का मामला पुलिस ने सुलझा लिया है। लुटेरों ने लूट से पहले घर की प्रॉपर रैकी की थी। उन्हें पता था कि महिला घर से सुबह ही पढ़ाने के लिए फगवाड़ा चली जाती हैं। घर पर नानी और अकेला उनका बेटा होता है। इसके बाद लुटेरों ने पूरी प्लानिंग के साथ पहले एयर गन खरीदी और उसके बाद कोई पहचान न सके इसके लिए हेलमेट लगाकर वारदात को अंजाम दिया। वारदात वाले दिन नानी भी माथा टेकने गई और घर पर अकेला बेटा ही था।

लुटेरों ने बेटे जागृत जो कि बाहरवीं का छात्र है को डरा धमका कर सोने के सारे आभूषण लूट लिए थे. लेकिन कहते हैं कि गुनाह का हाथ ज्यादा लंबे नहीं होते और पुलिस के हत्थे चढ़ गए। पुलिस ने दावा किया है कि लुटेरों को उन्होंने सीसीटीवी कैमरों और उनकी मोबाइल लोकेशन के सहारे जालंधर कैंट की जेएनए चौक से पकड़ा है। पकड़े गए आरोपियों में से एक की पहचान दिल्ली के बदरपुर निवासी विक्रम और दूसरे की पहचान रंजीत एनक्लेव निवासी सुमित के रूप में हुई है।

पुलिस ने लुटेरों के कब्जे से लूटे हुए सारे गहने जिनमें तीन सोने की चेनें, तीन अंगुठियां, दो सोने की चूड़ियां, पांच सेट सोने की बालियों और दो लॉकेट बरामद कर लिए हैं। करीब 10-11 लाख का सोना लुटेरे लूट कर ले गए थे। सीपी गुरप्रीत सिंह तूर ने बताया कि इस मामले की जांच खुद एसीपी रविंदर कुमार और एसएचओ राजवंत कौर कर रही रहीं थी। दोनों ने घर में मौजूद लड़के से लुटेरों की एक्टिविटी के बारे पूछा तो युवक ने उन्हें लूट के दौरान ही किसी का फोन आने की बात कही। फिर पुलिस ने उस मकान की लोकेशन पर आए फोन कॉल की बात कही और क्या बातचीत कर रहे थे इसी में से क्लू ढूंढा और सीसीटीटीवी कैमरों की फुटेज को खंगालना शुरू कर दिया। पुलिस 72 घंटों में ही लुटेरों तक जा पहुंची।