• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Political Uproar Over The Appointment Of AG In Punjab, The Opponents Said If You Have Fought The Case Of The Accused, How Will You Get Justice For The Sacrilege; Advocate Deol Said: Was Advocated In The Shooting Itself

पंजाब में AG की नियुक्ति पर सियासी घमासान:विरोधी बोले - आरोपी का केस लड़ चुके तो बेअदबी का इंसाफ कैसे मिलेगा; एडवोकेट देयोल ने कहा : गोलीकांड में ही पैरवी की थी

जालंधर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब में नए एडवोकेट जनरल (AG) एपीएस देयोल की नियुक्ति को लेकर सियासी घमासान छिड़ गया है। देयोल पूर्व DGP सुमेध सैनी व IG परमजीत उमरानंगल के वकील रह चुके हैं। इन अफसरों पर बेअदबी के बाद हुए गोलीकांड में भूमिका का आरोप है। दोनों को जमानत भी एडवोकेट देयोल ने ही दिलाई थी। इसको लेकर अब आम आदमी पार्टी (AAP) और भाजपा (BJP) ने नई सरकार पर निशाना साधा है। हालांकि सरकार की तरफ से इसके बारे में अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई है।

आम आदमी पार्टी के विधायक कुलतार संधवा ने कहा कि CM चन्नी ने नया शिगूफा निकाल दिया है। यह कानूनी तौर पर ठीक नहीं है। सुमेध सैनी को जिसने जमानत दिलाई हो, उसे एडवोकेट जनरल लगा दिया। क्या हम उम्मीद कर सकते हैं कि जिसके ऊपर गोली चलाने के हुक्म देने का शक हो, उनके वकील ही हमें इंसाफ दिलाएंगे?।

भाजपा के राज्य महासचिव ने निशाना साधा कि एक तरफ देयोल कोटकपूरा गोलीकांड में आरोपियों के वकील हैं। अब उनके वकील को ही एडवोकेट जनरल लगा दिया। कांग्रेस ने साफ कर दिया है कि बेअदबी व गोलीकांड का मुद्दा कांग्रेस के लिए सिर्फ सियासी रोटियां सेंकने तक सीमित है। इंसाफ दिलाने की उनकी कोई मंशा नहीं है।

बेअदबी नहीं, गोलीकांड के केस में दिलाई थी जमानत, अब कोई वास्ता नहीं

नए AG एडवोकेट एसपीएस देयोल ने कहा कि बेअदबी के मामले में दो तरह के मामले हैं। बेअदबी को लेकर 3 केस दर्ज हुए थे। जिनमें मैं एक में भी पेश नहीं हुआ। लॉ एंड ऑर्डर से जुड़े 2 केस दर्ज हुए थे, जिनमें से एक में मैं पेश हुआ था। उनको जमानत दिलाई थी। अब इसकी जांच पूरी हो चुकी है। मेरी इसमें कोई भूमिका नहीं है। एक केस की जांच अब दोबारा खुली है, लेकिन उसे कोई दूसरे वकील लड़ रहे हैं। मेरा अब उन लोगों से वास्ता नहीं है। मैं राज्य के खिलाफ केस नहीं लड़ूंगा। उन लोगों को भी कह दिया है कि वे दूसरा वकील कर लें। उन्होंने कहा कि अब पंजाब के केस लड़ने के लिए वकील नहीं आएंगे। हम यहीं पर अपनी टीम बनाएंगे।

अतुल नंदा कभी पेश नहीं हुए

इस मामले में नए AG एसपीएस देयोल ने कहा कि मैंने कैप्टन सरकार के वक्त एडवोकेट जनरल रहे अतुल नंदा को कोई केस नहीं हराया है। वह कभी पेश ही नहीं हुए। एडवोकेट देयोल ने कहा कि वह कैप्टन अमरिंदर सिंह के भी वकील रह चुके हैं। हालांकि उन्होंने सरकार बनने पर किसी दूसरे को नियुक्त किया। उन्हें वे अच्छे लगे होंगे।

असमंजस के बाद हुई देयोल की नियुक्ति

पंजाब में चरणजीत चन्नी के CM बनते ही नए AG के लिए सीनियर एडवोकेट डीएस पटवालिया का नाम चला था। उनकी फाइल भी राजभवन भेज दी गई थी। हालांकि अंदरुनी विरोध होने के बाद फाइल वापस मंगवाकर एडवोकेट अनमोल रतन सिद्धू को AG बनाने की बात चल पड़ी। फिर अंत में एडवोकेट एपीएस देयोल की फाइल चली और उनकी नियुक्ति को राज्यपाल की मंजूरी मिल गई। उन्होंने पंजाब के नए एडवोकेट जनरल की कुर्सी भी संभाल ली है।

खबरें और भी हैं...