पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

बिजली चोरों पर शिकंजा कसा:इंद्रापुरम फ्लैट्स पर पावरकॉम का एक्शन, इसी हफ्ते मेन लाइन का कटेगा कनेक्शन, 200 घरों में होगा ब्लैक आउट

जालंधर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
36 करोड़ की लागत से मास्टर गुरबंता सिंह एनक्लेव में बने इंद्रापुरम फ्लैट्स। - Dainik Bhaskar
36 करोड़ की लागत से मास्टर गुरबंता सिंह एनक्लेव में बने इंद्रापुरम फ्लैट्स।

जालंधर इंप्रूवमेंट ट्रस्ट (जेआईटी) ने 2009 में लोअर इनकम ग्रुप के लिए 36 करोड़ से सलेमपुर मुसलमाना में 13.97 एकड़ पर इंद्रापुरम काॅलोनी (मास्टर गुरबंता सिंह एंक्लेव) में 888 फ्लैट्स बनाए थे। यहां 200 से अधिक फ्लैट्स में अवैध रूप से रह रहे लोग पावरकाॅम को सरेआम मेन तारों को कुंडी डालकर चूना लगा रहे हैं।

इसके चलते इनकी बिजली सप्लाई बंद होने जा रही है क्योंकि पावरकाॅम की इंफोर्समेंट विंग ने एलटी लाइन बंद करने के लिए केबल डालने का काम शुरू कर दिया है। इसी हफ्ते में मेन लाइन का कनेक्शन काट दिया जाएगा और 200 से अधिक घरों की बिजली बंद हो जाएगी। अगर किसी उपभोक्ता को कनेक्शन की जरूरत होगी तो उसे पूरे दस्तावेज जमा करवाने होंगे। वेरीफिकेशन के बाद ही बिजली का कनेक्शन अलाॅट किया जाएगा। वहीं डिप्टी चीफ इंजीनियर इंफोर्समेंट विंग रजित शर्मा ने बताया कि एलटी लाइन को बंद करने से पहले केबल डालने का काम शुरू कर दिया है। हर हालत में कनेक्शन बंद हो जाएंगे। बिजली चोरी रुकेगी।

कार्रवाई के बाद भी बिजली चोरी करने से बाज नहीं आ रहे लोग

इंद्रापुरम फ्लैट्स में अवैध रूप से रहने वाले लोग बिजली चोरी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। पावरकॉम की ओर से बार बार कार्रवाई की जाती है। इसके बावजूद लोग दिनदहाड़े मेन तारों के साथ कुंडी डालकर लगातार बिजली चोरी की वारदात को अंजाम दे रहे है। बिजली चोरी रोकने के लिए ही पावरकाॅम ने एलटी लाइन का कनेक्शन बंद करने का फैसला लिया है। इंफोर्समेंट विंग और डिस्ट्रीब्यूशन की टीमों ने कई बार बिजली चोरों को रंगे हाथों पकड़ा और लाखों रुपए जुर्माना भी लगाया। लेकिन न तो किसी ने जुर्माना जमा करवाया और न ही बिजली चोरी करने से बाज आए।

काॅलोनी में फ्लैट्स मालिक के कहने पर ही मिलेगा बिजली का कनेक्शन
इंद्रापुरम काॅलोनी में बिना फ्लैट्स मालिक के किसी को कनेक्शन नहीं दिया जाएगा। इसके लिए पावरकाॅम के उच्च अधिकारियों ने अधिकारियों को आदेश जारी किए हैं। इससे पहले जो कनेक्शन किसी दूसरे के नाम पर अलाॅट हुए थे उनमें से ज्यादातर फ्लैट्स पर कब्जा करके रह रहे लोगों ने आधार कार्ड पर लिए हुए थे। लेकिन अब ऐसा नहीं होगा।

कॉलोनी में 200 में से ज्यादातर वे लोग हैं, जिन्होंने फ्लैट्स के ताले तोड़ कर कब्जा किया हुआ है। इस तरफ जेआईटी भी ध्यान नहीं दे रहा है। ज्यादातर अलॉटी एनआरआई हैं या फिर दूसरे जिलों से हैं। इस कारण वे अपने फ्लैट्स की देखभाल नहीं कर पा रहे हैं और शरारती तत्व कब्जे कर रहे हैं और मेन लाइन के साथ कुंडी डालकर बिजली चोरी करते है।

रोड छोटी होने के कारण नहीं आ रहे लोग
उपभोक्ता फोरम में फ्लैट्स मालिकों को हक दिलाने के लिए केस लड़ रहे दर्शन सिंह ने बताया कि जब जेआईटी ने फ्लैट्स अलाॅट किए थे तब कहा था कि 40 फीट की अप्रोच रोड फ्लैट्स की तरफ दी जाएगी। लेकिन 11 फीट चौड़ी रोड मिली। यहां पर सीवरेज सिस्टम भी नहीं है और न ही लोगों को मूलभूत सुविधाएं दी जा रही हैं। इसके अलावा करोड़ों रुपए के फ्लैट्स कंडम होते जा रहे हैं और यहां पर बाहरी लोग आकर कब्जा कर रहे हैं और बिना किसी डर के रह रहे है। अप्रोच रोड छोटी होने के कारण मालिक नहीं अा रहे।

खबरें और भी हैं...