पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोचिंग सेंटर बंद करने का अनोखा विरोध:प्रोफेसर ने बस में लगाई स्टूडेंट्स की क्लास, बोले- पंजाब सरकार कहती है, बसों में कोरोना नहीं फैलता

जालंधर3 महीने पहले
जालंधर बस स्टैंड के पास स्कूल बस में स्टूडेंट्स को पढ़ाते प्रोफेसर एमपी सिंह।

कोरोना संक्रमण रोकने के लिए पंजाब सरकार ने कोचिंग सेंटर भी बंद कर दिए हैं। शुक्रवार का जालंधर बस स्टैंड पर प्रोफेसर एमपी सिंह ने स्कूल बस के भीतर स्टूडेंट्स की क्लास लगाई। इस दौरान 10 बच्चे वहां पहुंचे थे। उन्होंने यह विरोध इसलिए किया ताकि पंजाब सरकार तक अपनी आवाज पहुंचा सकें कि कोचिंग सेंटरों बंद होने से बच्चों की एजुकेशन खराब हो रही है। सरकार काेरोना के सख्त नियम तय कर दे लेकिन उन्हें कोचिंग सेंटर खोलने दे।

इस दौरान वहां आए बारहवीं क्लास के बच्चों ने भी कहा कि ऑनलाइन क्लास से उन्हें फायदा नहीं हो रहा। कभी उनका नेट ढंग से नहीं चलता तो कभी कंप्यूटर या मोबाइल खराब हो जाता है। ऐसे में उनकी पढ़ाई बर्बाद हो रही है। 12वीं के स्टूडेंट पीयूष ने कहा कि ऑनलाइन क्लास की वजह से उसकी आंखें कमजोर हो गई हैं। उसे चश्मा पहनना पड़ रहा है। उन्हें कुछ ढंग से समझ भी नहीं आता। अगर किसी इश्यू को लेकर कोई डाउट हो तो वह क्लियर नहीं हो पाता।

कोचिंग फैडरेशन के जिला प्रधान व कैमिस्ट्री गुरु के संचालक प्रोफेसर एमपी सिंह ने कहा कि जिस यूके स्ट्रेन ने भारत में तबाही मचाई है, उस यूके में भी पढ़ाई बंद नहीं की गई है। सरकार ने बसों में 50% यात्रियों को बैठने की छूट दी है। इसलिए वो 52 सीट की बस में सिर्फ 10 बच्चों को पढ़ा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगर सरकार को एतराज न हो तो वो आगे भी और बच्चों को बुलाकर बस में ही कोचिंग सेंटर चलाने को तैयार हैं।

खबरें और भी हैं...