दाल व्यापारी के 2.28 लाख लूट का मामला:नौकर ने ही रची थी 2 दोस्तों के साथ साजिश, लूटी रकम समेत तीनों गिरफ्तार

जालंधर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पकड़े गए आरोपियों व उनकी बाइक के साथ पुलिस टीम। - Dainik Bhaskar
पकड़े गए आरोपियों व उनकी बाइक के साथ पुलिस टीम।

जालंधर के दाल व्यापारी अशोक कुमार के 2.28 लाख की लूट के मामले को पुलिस ने सुलझा लिया है। किडनैपिंग व मारपीट कर लूट की कहानी बनाने वाला नौकर ही पूरी साजिश का कर्ताधर्ता निकला। पुलिस ने नौकर व उसके दो दोस्तों को लूटी गई रकम के साथ गिरफ्तार कर लिया है। दैनिक भास्कर ने घटना के वक्त ही हालात के लिहाज से आशंका जताई थी कि दाल व्यापारी का नौकर लूट को लेकर शक के घेरे में है। जिस पर अब कमिश्नरेट पुलिस ने मुहर लगा दी है।

पुलिस ने वारदात के बाद ही शक होने पर नौकर को हिरासत में ले लिया था।
पुलिस ने वारदात के बाद ही शक होने पर नौकर को हिरासत में ले लिया था।

CCTV कैमरे से खुली साजिश की पोल

दाल व्यापारी के 2.28 लाख रुपए बैंक में जमा कराने जा रहे नौकर विशाल से लूट की खबर मिली तो पुलिस ने तुरंत उसके बयान दर्ज किए। इसके बाद उन तमाम जगहों की CCTV फुटेज खंगाली गई, जहां उसने लूट की बात कही थी। हालांकि इसी फुटेज में उसके साथ किसी तरह की जोर-जबरदस्ती या मारपीट नहीं दिखी। जिससे पुलिस को उसी पर शक हुआ। विशाल से सख्ती से पूछताछ की गई तो पता चला कि उसने किशनपुरा में भगवान वाल्मीकि मंदिर वाली गली के रहने वाले शुभम व किशनपुरा में बाबा बालकनाथ मंदिर के पास रहने वाले करन उर्फ मन्नू के साथ मिलकर इस साजिश को अंजाम दिया। पुलिस ने उनसे वारदात में इस्तेमाल बाइक भी बरामद कर ली है।

यह बनाई थी कहानी, फोन कॉल से फंसा पेंच

नौकर विशाल ने कहा था कि दाल व्यापारी ने उसे पैसे जमा कराने के लिए पंजाब नेशनल बैंक भेजा था। रास्ते में दो बाइक सवारों ने उसे किडनैप कर लिया। फिर उसके साथ मारपीट कर रुपए लूट लिए। इस मामले में जो सबसे अहम बात थी, वो ये कि लुटेरों ने उसके फोन से कॉल कर दाल व्यापारी को बताया कि हमने उसके नौकर को लूट लिया। यहीं पुलिस को भी मामला खटका कि लुटेरे लूटकर भाग जाते, इस तरह फोन कर उन्होंने अप्रत्यक्ष तरीके से पुष्टि करनी चाही कि विशाल से लूट ही हुई है ताकि उस पर शक न जाए। हालांकि वो इसी में फंस गया।

खबरें और भी हैं...