BJP के 54 कैंडिडेटों की जमानत जब्त:पंजाब में पार्टी सिंबल पर लड़े 72 कैंडिडेटों में से 8 को दूसरा नंबर; दो को NOTA से कम वोट

पंजाब/लुधियाना/जालंधर7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब में 2022 के चुनावी रण में भारतीय जनता पार्टी के 54 कैंडिडेटों की जमानत जब्त हुई है। चुनावों में पार्टी के 8 उम्मीदवार ऐसे रहे जो अपने हलके में दूसरी पॉजिशन पर रहे। वहीं पार्टी सिर्फ दो सीटों पठानकोट और मुकेरियां पर ही चुनाव जीत पाई।

दो उम्मीदवारों को नोटा से भी कम वोट मिले हैं। इनमें श्रीहरगोबिंदपुर से बलजिंदर सिंह को 1318 वोट मिले हैं और 1401 लोगों ने नोटा का बटन दबाया। वहीं लंबी हलके से राकेश धींगड़ा को 1116 वोट मिले और नोटा के हिस्से 1226 वोट आए।

सबसे कम वोट लंबी में मिले

पंजाब विधानसभा चुनावों में भाजपा के उम्मीदवारों में सबसे कम 1116 वोट लंबी सीट से उम्मीदवार राकेश धींगड़ा को मिले। वहीं सबसे अधिक 43132 वोट पठानकोट सीट पर चुनाव जीते अश्विनी कुमार शर्मा के हिस्से आए। प्रदेश में कुल 11 भाजपा प्रत्याशी ऐसे रहे जिन्हें अपने हलके में 2500 से कम वोट मिले। सिर्फ 20 उम्मीदवार ही 20 हजार से ज्यादा वोट पाने में कामयाब रहे। वहीं 18 प्रत्याशियों ने 10 हजार से ज्यादा और 20 हजार से कम वोट हासिल किए।

कुल 6.60% वोट हासिल किए पार्टी ने

पंजाब में 72 सीटों पर चुनाव लड़ने वाली भाजपा को कुल 6.60% वोट हासिल हुए। 10,27,143 कुल वोट पार्टी को मिले। पार्टी के 2 प्रत्याशी अपने हलके के 1 फीसदी से भी कम मत प्राप्त कर सके। 20 फीसदी से ऊपर वोट पाने वाले कुल 14 प्रत्याशी रहे। 15 उम्मीदवारों को 10 फीसदी से ज्यादा और 20 फीसदी से कम वोट ही मिले। वहीं 1 फीसदी से ज्यादा और 2 फीसदी से कम मत प्रतिशत वाले 12 कैंडिडेट रहे।

2 कैंडिडेटों को मिला 7वां नंबर

पंजाब चुनावों में भाजपा के सबसे ज्यादा 31 कैंडिडेट अपने हलके में चौथी पॉजिशन पर रहे। पार्टी के दो ही कैंडिडेट चुनाव जीत पाए। वहीं 8 प्रत्याशी दूसरे स्थान पर रहे। वहीं 2 कैंडिडेटों को उनके हलके में 7वां और 3 को 6वां स्थान मिला। तीसरे स्थान पर 16 और पांचवें स्थान पर 10 उम्मीदवार रहे।

ये हुआ था चुनाव के लिए समझौता

भारतीय जनता पार्टी का कैप्टन की पंजाब लोक कांग्रेस और सुखदेव सिंह ढींडसा की शिरोमणि अकाली दल (संयुक्त) से समझौता हुआ था। इसके तहत भाजपा को 65, कैप्टन को 37 और शिअद (सं) को 15 सीटें पर सहमति बनी। बाद में कैप्टन की पार्टी के आत्म नगर, बठिंडा शहरी, खरड़, लुधियाना ईस्ट और लुधियाना साउथ सीट के उम्मीदवारों ने भाजपा का चुनाव चिह्न मांगा। वहीं बाद में तीन और सीटें कैप्टन ने अपने हिस्से की भाजपा को लौटा दी थीं। ऐसे में भाजपा के पास 72 और कैप्टन के पास 28 सीटें आईं और दो सीटों पर गठबंधन का कोई उम्मीदवार नहीं था।

कुल 166 की जमानत हुई जब्त

पंजाब में विधानसभा चुनाव लड़ने वाले 166 सियासी दिग्गजों की जमानत 16.7 प्रतिशत से कम वोट मिलने के कारण आयोग ने जब्त कर ली। इनमें सबसे ज्यादा 54 प्रत्याशी भाजपा के हैं। वहीं आम आदमी पार्टी के सिर्फ एक कैंडिडेट भुलत्थ से राणा रणजीत सिंह, जिन्हें सिर्फ 13612 वोट मिले, इस सूची में शामिल हैं।

चुनाव लड़ रहा कोई भी उम्मीदवार जो कुल वैध मतों के 16.7 प्रतिशत से अधिक प्राप्त नहीं कर पाता उसकी जमानत राशि जब्त कर ली जाती है। विधानसभा चुनाव के लिए सुरक्षा राशि सामान्य वर्ग के उम्मीदवारों के लिए 10,000 रुपये और SC/ST के लिए 5000 रुपये है।

खबरें और भी हैं...