• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Punjab Deputy CM's Pain Again Peeled Off, Punjab Police Does More Work Than BSF; Ended Terrorism; Big Contribution In Indo Pak War

पंजाब के डिप्टी सीएम की नाराजगी फिर उभरी:BSF से ज्यादा पंजाब पुलिस करती है काम; आतकंवाद खत्म किया, भारत-पाक जंग में भी बड़ा योगदान

जालंधरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर के PAP कांप्लेक्स में पुलिस जवानों को संबोधित करते डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा। - Dainik Bhaskar
जालंधर के PAP कांप्लेक्स में पुलिस जवानों को संबोधित करते डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा।

पंजाब में सीमा सुरक्षा बल (BSF) का इंटरनेशनल बॉर्डर से 50 किमी तक दायरा बढ़ाने पर डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा की नाराजगी फिर उभरी है। उन्होंने कहा कि BSF से ज्यादा काम पंजाब पुलिस करती है। पंजाब पुलिस ने आतंकवाद खत्म किया है, इसलिए पंजाब पुलिस पर अंगुली नहीं उठाई जा सकती। रंधावा गुरुवार को जालंधर के पंजाब आर्म्ड पुलिस (PAP) कॉम्पलेक्स में पुलिस यादगारी दिवस परेड कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए थे।

शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि देते डिप्टी सीएम रंधावा
शहीद पुलिसकर्मियों को श्रद्धांजलि देते डिप्टी सीएम रंधावा

रंधावा ने कहा कि पंजाब ने देश की आजादी में बड़ा योगदान दिया है। 1965 और 1971 की भारत-पाक जंग में भी पंजाब पुलिस ने दिन-रात काम किया। आतंकवाद का दौर ऐसा था कि शाम 5 बजे के बाद कोई घर से बाहर नहीं निकल सकता था। ऐसे में पंजाब पुलिस ही लोगों की सुरक्षा करती थी। कुछ दिन पहले वे बॉर्डर पर गए थे, जहां उन्होंने देखा कि BSF के साथ पंजाब पुलिस के जवान कंधे से कंधा मिलाकर ड्यूटी कर रहे हैं, फिर कोई कैसे कह सकता है कि हमारे जवान बॉर्डर से 50 किमी तक पंजाब की सुरक्षा नहीं कर सकते।

पीएपी कांप्लेक्स में पुलिस अफसरों से मिलते डिप्टी सीएम रंधावा
पीएपी कांप्लेक्स में पुलिस अफसरों से मिलते डिप्टी सीएम रंधावा

शहीद परिवार क्लर्कों के आगे हाथ न जोड़ें
डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा ने कहा कि शहीदों की वजह से ही आज हम खुली हवा में सांस ले रहे हैं। उन्होंने DGP इकबालप्रीत सहोता को कहा कि शहीद परिवार पुलिस ऑफिस के चक्कर न काटें। क्लर्कों के आगे हाथ जोड़कर खड़े न रहें। ऐसी व्यवस्था की जाए कि उन्हें अपनी फाइल लेकर अलग-अलग ऑफिस न भागना पड़े। संभव हो तो हर जिले में एक अफसर नियुक्त कर दें, जाे शहीद परिवार के घर जाकर उनकी मुश्किलें सुनें और उसे दूर करें।