जालंधर में खाकी VS खादी:इंस्पेक्टर पर हमले के वक्त मौजूद थी पंजाब खादी बोर्ड डायरेक्टर कांग्रेस नेता की पत्नी, पुलिस के तेवरों पर उठाए सवाल

जालंधर8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
इंस्पेक्टर भगवंत भुल्लर व खादी बोर्ड के डायरेक्टर मेजर सिंह। - Dainik Bhaskar
इंस्पेक्टर भगवंत भुल्लर व खादी बोर्ड के डायरेक्टर मेजर सिंह।
  • भाजपा इंस्पेक्टर के समर्थन में आई, जालंधर वेस्ट में गर्माई राजनीति

माता रानी चौक में जिस वक्त थाना भार्गव कैंप के SHO इंस्पेक्टर भगवंत सिंह पर हमला हुआ, उस वक्त पंजाब खादी बोर्ड डायरेक्टर मेजर सिंह की पत्नी अमनदीप कौर भी वहां मौजूद थी। CCTV फुटेज में दिख रही महिला उनकी पत्नी थी, इस बात की पुष्टि खुद डायरेक्टर मेजर सिंह ने की। हालांकि उन्होंने कर्फ्यू के दौरान हुई घटना को लेकर पुलिस के उग्र रवैये पर भी सवाल खड़े किए। इस मामले को लेकर अब राजनीति भी शुरू हो गई है क्योंकि BJP के नेता इंस्पेक्टर के समर्थन में आ गए हैं। विधानसभा चुनाव से पहले पूरा मामला अब जालंधर वेस्ट हलके में बड़ी राजनीतिक रंगत लेता जा रहा है।

CCTV फुटेज में हमलावर को पकड़कर ले जाती पुलिस के पीछे आती महिला।
CCTV फुटेज में हमलावर को पकड़कर ले जाती पुलिस के पीछे आती महिला।

SHO कह रहे थे- खुद को गोली मार लूंगा या सामने वाले को

खादी बोर्ड डायरेक्टर मेजर सिंह ने कहा कि कारोबारी जसपाल सिंह मेडिकली अनफिट हैं। उन्हें कैंसर की समस्या थी और ऑपरेशन हुआ है। शनिवार रात को अचानक उनकी तबियत बिगड़ गई तो वो पता लेने आए थे। वहां मर्चेंट नेवी का अफसर भी आया था। उन्होंने बैठकर जसपाल सिंह को रिलेक्स किया तो इतनी देर में पता चला कि बाहर झगड़ा हो गया। उन्होंने कहा कि मैंने ऐसा माहौल नहीं देखा, जब पुलिस इतनी हाइपर हो गई थी। उन्होंने पुष्टि करते हुए कहा कि फुटेज वाली उनकी पत्नी है। जब वह झगड़े के दौरान वहां पहुंची तो SHO इंस्पेक्टर भगवंत भुल्लर रिवॉल्वर लेकर शूट करने की बात कर रहे थे। वो कह रहे थे कि मैं खुद को गोली मार दूंगा या सामने वाले को। मेरी पत्नी ने उन्हें रोका कि वो किसी को भी गोली न मारें।

घर में चोरी हुई लेकिन पुलिस सूचना देकर भी नहीं आई

डायरेक्टर मेजर सिंह ने यह भी आरोप लगाया कि जसपाल सिंह का घर पुलिस के कब्जे में था। उसकी चाबियां भी पुलिस के पास थी। ऐसे में वहां चोरी की कोशिश हुई। उन्होंने SHO को फोन किया लेकिन 10-12 बार कॉल करने के बावजूद उन्होंने फोन नहीं उठाया। उन्होंने फिर ACP पलविंदर सिंह को फोन किया। इसके बावजूद कोई नहीं पहुंचा। 4 घंटे बाद PCR की टीम वहां पहुंची। CCTV फुटेज में भी दिख रहा है कि दो लोग वापस आए हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस ने जानबूझकर देरी की। उन्होंने कहा कि यह परिवार क्रिमिनल नहीं है। उन्होंने घर की महिलाओं की हरासमेंट का भी आरोप लगाया। हालांकि पुलिस ने इससे इन्कार करते हुए कहा कि इस मामले में दो लोग गिरफ्तार होने बाकी हैं। पुलिस उसी की कोशिश कर रही है।

डायरेक्टर का पुलिस से पुराना पंगा

खादी बोर्ड डायरेक्टर मेजर सिंह का पुलिस से पुराना पंगा है। एक आरटीआई एक्टिविस्ट से झगड़े के वक्त भी उन्होंने थाना नई बारादरी में धरना लगाया था और पुलिस पर कार्रवाई न करने के आरोप लगाए थे।

खबरें और भी हैं...