दर्दनाक स्थिति:पंजाब में लगातार बढ़ रही मौतें, 130 मरीजों की जान गई, 6769 नए केस

जालंधर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो। - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो।
  • अप्रैल में ही मिले 1.25 लाख के करीब संक्रमित
  • अप्रैल महीने में मरने वालों का आंकड़ा 1979 हुआ, यह कोरोनाकाल में सबसे ज्यादा

पंजाब मे कोरोना की रफ्तार में कोई कमी नहीं आई है। वीरवार को एक दिन में ही सूबे में 6769 नए केस सामने आए हैं। वहीं 130 मरीजों की संक्रमण से मौत भी हुई है। सूबे में अभी तक कोरोना की चपेट में आने से 8927 लोगों की मौत हो चुकी है। सूबे में अप्रैल महीने के दौरान संक्रमितों का आंकड़ा 1.25 लाख के करीब पहुंच गया है। पहली अप्रैल को कुल संक्रमितों का आंकड़ा 241356 था, जबकि 29 अप्रैल को यह आंकड़ा बढ़कर 364527 हो गया है। इसी अवधि के दौरान कोरोना से मरने वालों की संख्या 1979 तक पहुंच गई। 24 घंटे में 5059 मरीज ठीक हुए हैं। अब तक 301047 मरीज संक्रमण मुक्त घोषित हो चुके हैं।

अब गांवों में पहुंचा कोरोना, शहरों के मुकाबले 2.1 फीसदी ज्यादा मृत्युदर

  • ग्रामीण क्षेत्रों में 58 प्रतिशत मौतें संक्रमण से हुईं

जालंधर पंजाब में शहरों के मुकाबले गांवाें में 2.1 प्रतिशत ज्यादा मृत्यु दर देखने काे मिली है, जबकि शहरों में गांवों के मुकाबले 0.7% मृत्यु दर है। इस वजह से आने वाले दिनाें में शहरों के साथ ही गांवों में भी कई तरह की पाबंदियां लग सकती हैं। राज्य में 1 जनवरी 2021 से अप्रैल 2021 तक ग्रामीण क्षेत्रों में 58 प्रतिशत मौतें संक्रमण से हुई हैं, जबकि यहां पर 27 प्रतिशत पॉजिटिव केस मिले हैं। वहीं शहरों में 73 प्रतिशत पॉजिटिव केस और 42 प्रतिशत कोविड मौतें हुईं। पंजाब स्वास्थ्य विभाग के सर्वे से यह स्पष्ट होता है कि गांवों में शहरों की अपेक्षा कोरोना के केस कम हैं, इसके बावजूद मौतें अधिक हो रही हैं। राज्य के शहरी क्षेत्रों में 0.7% मृत्यु दर के मुकाबले ग्रामीण क्षेत्रों में मृत्यु दर 2.8% है। जबकि इस समय पंजाब में मृत्यु दर 2.5 प्रतिशत है।

गांवाें में बढ़ती मृत्यु दर से चिंता बढ़ी

स्वास्थ्य मंत्री बलबीर सिंह सिद्धू का कहना है कि गांवों में बढ़ती मृत्यु दर चिंता का विषय है। इस पर अंकुश लगाने के लिए स्वास्थ्य विशेषज्ञों के साथ मिलकर कार्ययोजना बनाई जा रही है।

खबरें और भी हैं...