पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Refined Oil Reached 80 To 150 Rupees In 6 Months, Mustard Oil Became Expensive By 40 Rupees; Prices Of Sugar, Tea Leaves And Pulses Also Increase

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

कोरोना से महंगाई का तड़का:6 माह में रिफाइंड आयल 80 से 150 रुपए तक पहुंचा, सरसों का तेल 40 रुपए महंगा हुआ; चीनी, चायपत्ती और दालों के दामों में भी इजाफा

जालंधर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • फसलों के उत्पादन में कोई कमी नहीं आई, फिर भी दाम लगातार बढ़ते जा रहे, रसोई का बजट बिगड़ने से महिलाएं भी हो रहीं परेशान

कोरोनाकाल में बाजार जल्द बंद होने लगे हैं और शिक्षा सेक्टर, होटलिंग और सर्विस सेक्टर में अभी भी कर्मचारियों को कटकर सैलरी मिल रही है। इस तरह आमदनी घट रही है लेकिन कोरोनाकाल में महंगाई परेशान कर रही है। सिटी की होलसेल मंडी में मार्च की तुलना में अप्रैल के पहले हफ्ते में ओवरआल 4 से 7 फीसदी तक राशन के रेट बढ़े हैं। अगर पिछले साल नवंबर के साथ इजाफा देखा जाएगा तो आम आदमी को सबसे ज्यादा तेल, दाल, चीनी और चायपत्ती परेशान कर रहे हैं। रसोई तेल का कच्चा माल विदेशों से इंपोर्ट होता है। कोरोना काल के कारण इसकी सप्लाई धीमी होने की दलील देकर नवंबर, 2017 में कीमतें तेज कर दी गई थीं।

फिर सारा व्यापार रेगुलर होने लगा है लेकिन कीमतों में भी फिर भी लगातार इजाफा हो रहा है। रसोई तेलों में कमाई की खातिर सरसों का रिफाइंड आयल भी मार्केट में उतारा गया है। नवंबर में काॅटन सीड आॅयल 80 रुपए लीटर था, जो अब 151 रुपए लीटर पर पहुंच गया है। सरसों का तेल 100 रुपए था, जो अब 140 रुपए प्रति लीटर बिक रहा है।

पब्लिक स्पीक : दालें छोड़ सब्जियां बना रहे

घरेलू महिलाओं की बात करें तो दालें, तेल महंगे हो गए हैं तो कुछ सस्ती सब्जियों ने राहत प्रदान की है। आलू और प्याज के रेट फिलहाल चार महीने पहले के मुकाबले कम हुए हैं लेकिन इन्हें बनाने में तेल आदि का इस्तेमाल तो होता ही है। हाउस वाइफ सुनीता का कहना है कि तेल, दाल और राशन की रोजमर्रा की चीजें कम हो जाएं तो लोगों की चिंता काफी कम हो जाती है। स्कूल टीचर विनय कहती हैं कि कोरोना काल में उनकी तनख्वाह आधी हो गई लेकिन चीजों के बढ़े दामों के कारण उनकी जेब पर काफी असर पड़ा है।

दुकानदारों की दलील : डीजल के दामों का असर

होलसेल मंडी में व्यापारी अनिल सोनी कहते हैं कि राशन मंडी में आटे के दाम स्थिर 21 रुपए किलो की औसत पर हैं लेकिन सबसे ज्यादा इजाफा तेल, दाल, चीनी, पत्ती आदि में देखने को मिला है। जितने दाम बढ़ते हैं, उतनी की सेल भी प्रभावित होती है। पंजाब में दूसरे राज्यों से आने वाले राशन की ढुलाई के खर्च में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई क्योंकि पेट्रो पदार्थ 100 रुपए लीटर पहुंच गए। इसी का नतीजा है कि महंगाई का ग्राफ भी बढ़ा है। व्यापारी मोहिंदर पाल कहते हैं कि परिवारों की आमदनी स्थिर है और राशन के बढ़ते दाम बढ़ते जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- कुछ रचनात्मक तथा सामाजिक कार्यों में आपका अधिकतर समय व्यतीत होगा। मीडिया तथा संपर्क सूत्रों संबंधी गतिविधियों में अपना विशेष ध्यान केंद्रित रखें, आपको कोई महत्वपूर्ण सूचना मिल सकती हैं। अनुभव...

    और पढ़ें