पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

प्रीत नगर का टिंकू हत्याकांड:रिटायर्ड सब इंस्पेक्टर के सौतेले बेटे साबी ने चलाई थी शूटर हैप्पी भुल्लर की कार

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सरबजीत सिंह साबी। - Dainik Bhaskar
सरबजीत सिंह साबी।
  • एसआईटी ने रेड की, पर साबी हो चुका था फरार
  • पुलिस ने साजिशकर्ता के तौर पर किया नामजद

प्रीत नगर में 6 मार्च को गोलियां मारकर कत्ल दिए कारोबारी गुरमीत सिंह टिंकू के कत्ल के समय आई कार रिटायर्ड सब इंस्पेक्टर के सौतेले बेटे सरबजीत सिंह साबी ने चलाई थी। अमृत विहार के रहने वाले साबी की तलाश में एसआईटी रेड कर रही है, मगर वह फोन बंद कर गायब हो चुका है।

साबी को केस में साजिशकर्ता के तौर पर नामजद किया गया है। साबी की जेल जा चुके सुरिंदर कुमार मुत्ती से दोस्ती थी, मगर उस पर क्रिमिनल केस दर्ज हो जाने के बाद वह पुनीत शर्मा के संपर्क में आ गया था। टिंकू कत्ल केस में अब आठ आरोपी सामने आ चुके हैं।

एसआईटी की जांच में यह बात साफ हो चुकी है कि 3 मार्च को पुुनीत, लल्ली, मुत्ती और साबी की टावर लोकेशन एक साथ आई थी। यह टावर लोकेशन नरिंदर लल्ली के घर के पास ही थी। इसके बाद जब शाम को शूटर हरप्रीत सिंह हैप्पी, जीती और सुरिंदर सिंह गुल्ली लम्मा पिंड में कार में आए तो आए थे तो यह लोग उन्हें रिसीव कर थ्री-स्टार कॉलोनी में लेकर गए थे।

साबी लगातार तीन दिन तक इनके साथ ही रहा था। अब तक की जांच में यह बात आई है कि मुत्ती लगातार टिंकू पर नजर रख रहा था। 6 मार्च की दोपहर साजिश के तहत गुल्ली और जीती बाइक पर तो कार में पुनीत, लल्ली और हैप्पी भुल्लर निकले थे। कार साबी चला रहा था, क्योंकि साबी एरिया के हर रास्ते को जानता था।

सरेआम टिंकू को गोलियां मारने के बाद आरोपी कार में बैठकर तेजी से निकल गए थे। सभी ट्रांसपोर्ट नगर चौक में मिले थे। यहां से साबी कार से उतर गया और गुल्ली ने कार चलानी शुरू कर दी थी। बाइक पर आया मुत्ती अपने दोस्त साबी को बैठकर सीधे अमृत विहार घर ले गया था। यहां से पहले से साबी ने बैग तैयार किया हुआ था।

वे अपनी कार में मुत्ती को लेकर लुधियाना की ओर निकल गए थे। यह बात इनकी टावर लोकेशन से सामने आई। मुत्ती ने इस बात को क्लियर कर चुका है कि कत्ल की साजिश में साबी लिप्त थे। वह दोनों लुधियाना गए थे, मगर उनकी दोबारा मुलाकात न तो पुनीत व लल्ली से हुई न ही हैप्पी भुल्लर से।

यहां से उसे साबी ने बस में बैठाकर जालंधर भेज दिया था और खुद लुधियाना में रुक गया था। साबी के रिटायर्ड सब इंस्पेक्टर पिता ने कहा कि बेटा मेरे कहने में नहीं है। वह उसकी दूसरी पत्नी का बेटा है। पत्नी अमेरिका में है। साबी बुरी संगत में फंस कर ऐसा बना है।

कौंसलर दीपक शारदा की भूमिका पर गहराई से जांच कर रही है एसआईटी

उधर, कांग्रेसी कौंसलर दीपक शारदा की भूमिका की एसआईटी लगातार गहराई से जांच कर रही है। फोरेंसिक जांच के दौरान मिले मोबाइल नंबर की कॉल डिटेल निकलवा कर जांच की जा रही है। एसआईटी जल्द ही अपनी फोरेंसिक जांच पूरी कर जांच के लिए दीपक शारदा को बुलाएगी। बता दें कि 6 मार्च को कैलाश नगर के रहने वाले गुरमीत सिंह टिंकू की हत्या कर दी थी।

पुलिस ने प्राथमिक जांच में अमन नगर के पुनीत शर्मा और न्यू गोबिंद नगर (गुज्जा पीर रोड) को आरोपी बनाया था। पुलिस ने मामला ट्रेस कर साजिश में पटियाला जेल में बंद हैप्पी मल्ल और सुरिंदर गुल्ली को पकड़ लिया था। गुल्ली से कत्ल में प्रयुक्त एक पिस्टल बरामद किया गया था। जांच में बात आई थी कि हत्यारोपी लल्ली के मोबाइल से कौंसलर दीपक शारदा को कॉल की गई थी।​​​​​​​

खबरें और भी हैं...