जालंधर DC ऑफिस में हंगामा:विधायक शीतल अंगुराल ने की दफ्तरों में चैकिंग, अधिकारियों-स्टाफ से बहस, विरोध में एसोसिएशन की हड़ताल

जालंधर2 महीने पहले
डीसी के समक्ष बैठे विधायक शीतल अंगुराल और एडीसी मेजर अमित सरीन।

जालंधर वेस्ट से सत्ताधारी दल आम आदमी पार्टी के विधायक शीतल अंगुराल ने आज डीसी आफिस में अपने आप जाकर चैकिंग की। डीसी आफिस की अलग-अलग शाखाओं में जाकर उन्होंने लोगों से उनकी समस्याएं सुनी और अधिकारियों के पास जाकर शिकायतें भी कीं कि डीसी आफिस में जो एजेंट कल्चर चल रहा है उसे तुरंत प्रभाव से बंद किया जाए।

शीतल अंगुराल ने डीसी आफिस की सुपरिनटैंडैंट परमिंदर कौर के दफ्तर में जाकर कहा कि बाहर एजेंटों का लाइन लगी है। यदि कोई व्यक्ति सीधा काम करवाने के लिए आता है तो उसे पूछा तक नहीं किया जाता है जबकि एजेंट के माध्यम के काम फटाफट हो जाता है।

उन्होंने कहा कि सुबह से आज उन्होंने डीसी आफिस में अपने लोग बिठा रखे थे। जिन्होंने बाकायदा वीडियोग्राफी भी की है। उनके पास सुबूत हैं कि एजेंट लोगों के पांच से दस हजार रुपया लेकर काम करवा रहे हैं। जबकि उन्हें सीधे अधिकारियों के पास जाने पर कोई पूछ नहीं रहा है।

आर्यन एकेडमी के दस्तावेज चेक करते विधायक शीतल अंगुराल
आर्यन एकेडमी के दस्तावेज चेक करते विधायक शीतल अंगुराल

हालांकि सुपरिनटैंडैंट परमिंदर कौर ने सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि उनके पास कोई एजेंट नहीं आता है। वकीलों के मुंशू जरूर उनके पास वकीलों के काम लेकर आते हैं। विधायक ने उन्हें कहा कि वह हवा मे बात नहीं कर रहे हैं । उनके पास पुख्ता सुबूत हैं। हो सकता है कि आप ईमानदार हों लेकिन आपके आफिस के बाहर भ्रष्टाचार हो रहा है।

उन्होंने कहा कि अखबारों में साइटों पर चैनलों पर डीसी आफिस में भ्रष्टाचार की खबरें चल रही हैं। इस पर महिला सुपरिनटैंडैंट ने कहा कि इन्हीं खबरों के लेकर आज उनकी डीसी से भी बात हुई है। उन्होंने कहा कि सभी खबरें बेबुनियाद हैं। उन्होंने यदि किसी से एक रुपया भी रिश्वत का लिया है तो साबित किया जाए।

लोगों से समस्याएं पूछते विधायक
लोगों से समस्याएं पूछते विधायक

Aryan Academy को लेकर पर जमकर बवाल

एडीसी मेजर अमित सरीन ने पिछले दिनों ट्रैवल एजेंटों पर शिकंजा कसा था। Aryan Academy का भी उन्होंने लाइसेंस सस्पेंड किया था। लेकिन बाद में उनका लाइसेंस बहाल कर दिया गया था। लाइसेंस इसलिए निलंबित किया गया था क्योंकि उन्होंने कुछ जानकारी छुपाई थी। जिस जगह के लिए लाइसेंस लिया था वहां से उन्होंने अपना धंधा शिफ्ट कर दूसरी जगह शुरू कर दिया था। एडीसी के आफिस में जाकर पहले शीतल अंगुराल ने वह फाइल देखी जिसमें लाइसेंस को संस्पेंड किया गया था। उसके पास डीसी के पास जाकर इसकी शिकायत कर डाली।

डीसी जसप्रीत सिंह ने एडीसी और सुपरिनटैंडैंट को विधायक के सामने बिठाकर बात की। विधायक ने डीसी के साथ बैठक में आरोप लगा दिए कि एडीसी ने छुट्टी वाले दिन Aryan Academy का लाइसेंस बहाल किया। चार बजकर दो मिनट पर Aryan Academy अपना मेल पर पक्ष रखती है और चार बजकर बारह मिनट पर उन्हें वापस लाइसेंस बहाल होने की मेल चली जाती है।

सुपरिनटैंडैंट परमिंदर कौर से एजेंटों की शिकायत करते विधायक
सुपरिनटैंडैंट परमिंदर कौर से एजेंटों की शिकायत करते विधायक

इस पर एडीसी मेजर अमित सरीन अपनी कुर्सी से उठ गए, तैश में आ गए । उन्होंने कहा कि ठीक है जानकारी छुपाने पर उनका लाइसेंस सस्पेंड किया था। लेकिन उन्होंने कहा कि जिस स्थान पर लाइसेंस लिया था उससे कुछ दूरी पर ही उन्होंने अपना बिजनेस रैनोवेशन के लिए शिफ्ट किया है। इसकी बाकायदा जांच भी करवाई गई थी। जांच में सभी तथ्य सही पाए गए हैं तो उनका लाइसेंस बहाल कर दिया गया। उन्होंने कहा कि यदि कहीं पर भी भ्रष्टाचार पाया जाएगा तो वह पहले शख्स होंगे जो लाइन में आगे खड़े होंगे। बेशक उन्हें गोली मार देना। उन्होंने पत्रकारों को भी नसीहत दी कि वह सही तरीके से पत्रकारिता करें। उन्होंने कहा कि जालंधर में 1100 से ज्यादा लाइसेंस हैं जिनमें से हम चार को रद कर चुके हैं। इसके बाद वह जय हिंद, वंदे मातरम् का उद्घोष कर बैठ गए।

इस पर विधायक शीतल अंगुराल ने कहा कि मीडिया को ऊंची आवाज में बोलकर डराया नहीं जा सकता। यह सच की आवाज हैं। ट्रैवल एजैंट लोगों को लूट रहे हैं। इस पर डीसी जसप्रीत सिंह ने कहा है कि इसकी वे अपने स्तर पर जांच करेंगे। इस पर शीतल अंगुराल ने कहा कि जांच को टाइम बाउंड किया जाए। आर्यन एकेडमी के खिलाफ एक्शन लिया जाएगा।

शीतल की कार्रवाई से डीसी आफिस स्टाफ में रोष

इसी बीच शीतल अंगुराल की आज डीसी दफ्तर में अलग-अलग ब्राचों में दी गई दस्तक के बाद डीसी आफिस स्टाफ ने विधायक के खिलाफ मोर्चा खोल दिय़ा है। डीसी आफिस स्टाफ एसोसिएशन ने कहा कि विधायक का रवैया ठीक नहीं था। उन्होंने सुपरिनटैंडैंट औऱ एडीसी के साथ गलत व्यवहार किया है।स्टाफ के साथ भी बहस की। एसोसिएशन का कहना है कि अथॉरिटी के अलावा किसी को भी दफ्तर में आकर रिकार्ड चेक करने का अधिकार नहीं है। यह सरासर नियमों की उल्लंघना है।

यदि किसी ने चैक करना भी है को वह डीसी या एडीसी से परमिशन लेकर चैक कर सकता है। एसोसिएशन ने कहा कि अधिकारियों पर बिना किसी पुख्ता सुबूत के ऐसे संगीन आरोप लगाना निंदनीय है। एक चुने हुए प्रतिनिधि को यह शोभा नहीं देता। डीसी आफिस एसोसिएशन ने फैसला लिया गया है कि सोमवार से सभी मुलाजिम सामूहिक अवकाश पर चले जाएंगे। डीसी दफ्तर का सभी कामकाज अनिश्चितकाल के लिए ठप कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि ऐसे माहौल में वह काम नहीं कर सकते।

पहले भी मीटिंग में हो चुकी है बहस

एडीसी मेजर अमित सरीन के साथ आज विधायक शीतल अंगुराल के साथ पहली बार बहस नहीं हुई है। इससे पहले भी उनकी एक मीटिंग में बहस हुई है। डीसी आफिस में एक मीटिंग के दौरान विधायक ने आरोप लगाए थे कि एडीसी फोन नहीं उठाते हैं। इस पर मेजर अमित सरीन ने पलटकर जवाब दिया था कि वह सुबह से लेकर एक डेढ़ बजे तक दफ्तर में होते हैं उसके बाद वह कोर्ट में होते हैं। कोर्ट की कार्रवाई के दौरान वह फोन नहीं उठा सकते।

उन्होंने यहां तक कह दिया था कि उनके पास काम के लिए फोन नहीं आते। बल्कि गलत तरीके से आर्म लाइसेंस बनाने को लेकर फोन आते हैं। उन्होंने कहा कि आर्म लाइसेंस वह ऐसे किसी को जारी नहीं कर सकते। वह कोई गलत काम नहीं करेंगे।