जालंधर के पुलिस थाने में लोगों का हंगामा:सड़क हादसे के मामले को दबाने का आरोप, बोले- समझौते के लिए बना रहे दबाव

जालंधरएक महीने पहले

पंजाब के जालंधर में पुलिस थाना डिवीजन नंबर 8 में देर रात लोगों ने जमकर हंगामा किया। थाने में लोगों ने पुलिस के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। लोगों का आरोप था कि पुलिस एक सड़क हादसे के मामले को दर्ज करने की बजाय उसे दबाने में लगी हुई है। पीड़ित पक्ष पर पैसों का प्रलोभन देकर समझौते का दबाव बनाया जा रहा है।

थाने में हंगामा कर रहे संतोखपुरा से गए लोगों का कहना था कि उनकी मांग है कि जिस ट्रक चालक ने गलत साइड पर ट्रक को मोड़ कर बाइक पर जा रहे पति-पत्नी को कुचला है उसे गिरफ्तार किया जाए। गोल्डन टेंपल ट्रांसपोर्ट का ट्रक लाकर थाने में जब्त कर खड़ा किया जाए, लेकिन पुलिस ऐसी कोई कार्रवाई नहीं कर रही है।

हंगामे के बाद थाने में पहुंचे एसएचओ लोगों की शिकायत सुनते हुए
हंगामे के बाद थाने में पहुंचे एसएचओ लोगों की शिकायत सुनते हुए

उल्टा पीड़ित पक्ष पर दबाब बनाया जा रहा है कि वह समझौता कर लें। उन्होंने मौके पर एक एएसआई को भी लपेटे में लिया। कहा कि उन्होंने घायलों को बयान तक दर्ज नहीं किए। ट्रक के अगले टायर के नीचे आने से व्यक्ति की बाजू औऱ टांग टूट गई, जबकि उसकी पत्नी की बाजू ट्रक के टायर के नीचे आकर बुरी तरह से कुचल गई है। उन्हें एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया है।

देर रात थाने के बाहर बैठी महिलाएं
देर रात थाने के बाहर बैठी महिलाएं

लोगों के हंगामा करने के बाद थाने में मौके पर एसएचओ आए और उन्होंने लोगों को भरोसा दिया कि घायलों के बयान दर्ज करके तुरंत प्रभाव से कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने लोगों से यह भी कहा कि ट्रक को भी जब्त करके थाने में खड़ा किया जाएगा और ट्रक चालक को भी गिरफ्तार करके थाने में लाया जाएगा। एसएचओ के आश्वासन के बाद लो शांत हुए।

लोगों का कहना था कि वह पुलिस के उच्चाधिकारियों ने उस एएसआई की शिकायत करेंगे, जिसने सड़क हादसा होने के घंटों बाद भी न तो पीड़ित पक्ष के बयान लिए और न ही ट्रक चालक के खिलाफ मामला दर्ज किया। अपनी ड्यूटी करने की बजाय ट्रांसपोर्ट कंपनी से मिलकर समझौते का दबाब बनाता रहा।

खबरें और भी हैं...