पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जंगलात विभाग:2 दिन से डीएवी कॉलेज के पास घूम रहा सांभर नहीं आ रहा पकड़ में, उधर,कबूलपुर में टीम ने पिंजरा लगाकर बंदर को किया काबू

जालंधर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बंदर को पिंजरे में काबू करने के बारे में जानकारी देते हुए प्रदीप शर्मा।- भास्कर - Dainik Bhaskar
बंदर को पिंजरे में काबू करने के बारे में जानकारी देते हुए प्रदीप शर्मा।- भास्कर

दो दिन से सांभर को पकड़ने के लिए जंगलात विभाग की टीम मकसूदां इलाके में घूम रही है, लेकिन सांभर काबू में नहीं आ रहा है। वहीं कबूलपुर गांव में बंदर के आंतक से गांववासी काफी परेशान हुए तो उन्होंने जंगलात विभाग के उच्च अधिकारियों को फोन कर जानकारी दी, जिन्होंने जालंधर में टीम को सूचित किया और पिंजरा लगाया गया और रविवार देर शाम को बंदर पिंजरे में आ गया, जिसे बाद में जंगल में छोड़ दिया गया।
जानवरों को पकड़ने में विभाग के छूट रहे पसीने, अधिकारियों के पास हर रोज आ रहे 10 से 15 फोन

डीएवी कॉलेज के पास दो दिन से सांभर घूम रहा है, जिसे पकड़ने के लिए टीम जब मौके पर जाती है तो सांभर नागरा गांव की तरफ भाग जाता है। उच्च अधिकारियों को हर रोज 10 से 15 फोन केवल ये ही आ रहे हैं कि जांलधर में सांभर व बंदर आ रहे हैं, जिससे लोग डरे हुए हैं। जंगलता विभाग के कर्मचारी प्रदीप ने बताया कि सांभर को पकड़ने के लिए दो बार वे मकसूदां इलाके में गए, लेकिन लोगों के शोर व डर के कारण वे

एक जगह पर टिक नहीं पा रहा है। जबकि लोगों से बार-बार अपील की जा रही है कि जब सांभर आए तो उससे दूर रहें और न ही उसे पत्थर मारें। क्योंकि डर के मारे वे इधर-उधर भागता है और इस दौरान अगर वे किसी वाहन से टकरा गया तो मौत हो सकती है, लेकिन लोग इस बात को बिल्कुल नहीं समझ रहे। कबूलपुर गांव में बंदर आने की सूचना उन्हें मिली तो उन्होंने गांव में पिंजरा लगवा दिया। देर शाम को बंदर आखिर काबू में आ गया और लोगों ने राहत की सांस ली।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- ग्रह स्थिति अनुकूल है। मित्रों का साथ और सहयोग आपकी हिम्मत और हौसले को और अधिक बढ़ाएगा। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी काबू पाने में सक्षम रहेंगे। बातचीत के माध्यम से आप अपना काम भी निकलवा लेंगे। ...

    और पढ़ें