पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

किसानों के फायदे की दो स्कीमें:पानी बचाओ, पैसे कमाओ; बिजली बचाने पर प्रति यूनिट मिलेंगे 4 रुपए, भूजल, बिजली बचाने और पराली न जलाने पर आर्थिक लाभ के अवसर

जालंधर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पावरकॉम द्वारा किसानों के लिए पानी बचाओ और पैसे कमाओ स्कीम लांच की गई है। किसान बिजली की खपत कम करके पैसे कमा सकते हैं। उसके लिए किसानों को संबंधित डिवीजन के दफ्तरों में अपना नाम रजिस्टर करवाना होगा। बिजली बचाने पर हर किसान को 4 रुपए यूनिट के हिसाब से सब्सिडी दी जाएगी और सीधे किसान के खाते में डाली दी जाएगी।

चीफ इंजीनियर जैनिंदर दानिया ने बताया कि किसान पावरकॉम के एप में जाकर खुद लॉगइन करके स्कीम का हिस्सा बन सकते हैं। जिन किसानों ने स्कीम में रजिस्ट्रेशन करवाई है, उनकी मोटरों पर मीटर इंस्टाल किए जाएंगे। लोड के हिसाब से सब्सिडी तय की जाएगी। इस से बिजली और पानी की खपत कम होगी, दूसरा उपभोक्ताओं को लाभ मिलेगा।

एक्सईएन सन्नी भागरा ने बताया कि 15 सितंबर से पावरकॉम के एप पंजाब पावर सप्लाई में डायरेक्ट बेनीफिट ट्रांसफर की ऑप्शन जुड़ जाएगी। इसके बाद किसान घर बैठे रजिस्ट्रेशन करवा सकते हैं। एक बात का जरूर ख्याल रखें कि बैंक अकाउंट नंबर सही डालें।

वहीं जितनी लिमिट यूनिट खपत के लिए दी जाएगी, अगर किसान उससे ज्यादा की खपत करता है तो भी उसे नुकसान नहीं होगा और न ही अधिक बिल आएगा। बस ये है कि उसे सब्सिडी नहीं मिलेगी। अगर एक किसान को 800 यूनिट दिए जाते हैं और वे 600 यूनिट की खपत करता है तो किसान को 200 यूनिट गुणा 4 रुपए के हिसाब से 800 रुपए मिलेगें।

पैडी चॉपर, मल्चर, जीरो टिल ड्रिल और हैप्पी सीडर की खरीद पर 50% तक सब्सिडी

सूबा सरकार द्वारा इन-सीटू प्रबंधन के अंतर्गत फसलों के अवशेष के निपटारे के लिए आधुनिक खेती मशीनों पर 10 करोड़ रुपए से ज्यादा की सब्सिडी उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके लिए 888 किसानों ने कृषि व किसान भलाई विभाग में आवेदन किया और किसान ग्रुपों ने 909 आवेदन किए हैं। यानी 1797 किसानों ने आवेदन किया था। इसमें से 904 को इस स्कीम के लिए चुना गया है।

पिछले साल किसानों द्वारा 287 और किसान ग्रुपों द्वारा 232 आवेदन किए गए थे। डीसी घनश्याम थोरी ने बताया कि कृषि विभाग द्वारा ड्रॉ के द्वारा किसानों के 444 और किसान ग्रुपों व सहकारी सभाओं के 460 आवेदकों का चुनाव किया गया है। इस योजना के अधीन एक किसान हैप्पी सीडर, पैडी चॉपर, मल्चर, हाइड्रोलिक लीवरसीबल एमबी प्लांट, शून्य टिल ड्रिल, सुपर एसएमएस रोटरी स्लेशर की खरीद पर 50 प्रतिशत सब्सिडी ले सकता है।

इस योजना के तहत कस्टम हायरिंग सेंटर खोलने के लिए पंजीकृत किसान समूहों या सहकारी समितियों के लिए 80 प्रतिशत सब्सिडी दी जा रही है ताकि किसान किराये पर मशीनरी लेकर इसका उपयोग कर सके। डीसी ने कहा कि ये मशीनरी देने का उद्देश्य इन अवशेषों को डिकं‌पोज करना है जिससे वातावरण को बचाया जा सके और मिट्टी की गुणवत्ता में सुधार हो।

पराली जलाने से मिट्टी के पोषक तत्व होते हैं खत्म, पैदा होती हैं जहरीली गैसें

कृषि अधिकारी डॉ. सुरिंदर सिंह ने कहा कि पराली को जलाने से मिट्टी के कई प्रमुख पोषक तत्व और अन्य सूक्ष्म पोषक तत्व खत्म हो जाते है और कई जहरीली गैसें पैदा होती हैं, जो मानव स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाती हैं। विभाग पहले से किसानों को पर्यावरण और मानव स्वास्थ्य पर पराली जलाने के हानिकारक प्रभावों को लेकर जागरूक अभियान चला रहा है। डीसी ने किसानों से अपील की कि वो नवीनतम तकनीकों के माध्यम से इसके प्रबंधन के लिए आगे आएं और प्रभावी तरीके अपनाएं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन पारिवारिक व आर्थिक दोनों दृष्टि से शुभ फलदाई है। व्यक्तिगत कार्यों में सफलता मिलने से मानसिक शांति अनुभव करेंगे। कठिन से कठिन कार्य को आप अपने दृढ़ विश्वास से पूरा करने की क्षमता रखे...

और पढ़ें