पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मारपीट का केस दायर:60 वर्षीय किसान के मेडिकल में नहीं हुई सेक्सुअल इंटरकोर्स की पुष्टि, बरी

जालंधर12 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोर्ट में 60 साल के किसान वरिंदर पाल वासी गांव चीमा खुर्द को दुष्कर्म के आरोप से बरी कर दिया। बचाव पक्ष ने साबित किया कि किसान को पीटा गया था, उसके शरीर पर 11 जख्म थे। एक साजिश के तहत झूठा केस दर्ज करवाया गया, ताकि मारपीट करने वाले पक्ष पर केस दर्ज न हो सके। किसान की मेडिकल रिपोर्ट में भी सेक्सुअल इंटरकोर्स की पुष्टि नहीं हुई थी।

थाना फिल्लौर में 19 मार्च 2016 को एक महिला की शिकायत पर एक नाबालिग लड़की को किडनैप कर साजिश के तहत दुष्कर्म करने और पॉस्को एक्ट के तहत केस दर्ज किया गया था। किसान को पीट-पीट कर पुलिस को सौंपा गया था। जब मेडिकल करवाया गया तो उसके शरीर पर 11 जख्म मिले थे। लड़की की मां ने आरोप लगाया था कि वरिंदर पाल का उनके घर आना-जाना था। वह उनकी बेटी को अपनी बेटी मानता था और उसे धार्मिक स्थल पर ले जाता था। 17 मार्च को वरिंदर उनकी बेटी को धार्मिक स्थल पर लेकर गया था। यहां पर एक होटल में बेटी से दुष्कर्म किया है।

पुलिस ने केस में एक महिला परमजीत कौर को भी आरोप बनाया था। ट्रायल के दौरान परमजीत कौर का देहांत हो गया था। बचाव पक्ष के एडवोकेट दर्शन सिंह दयाल ने कोर्ट में साबित किया कि उनके क्लांइट वरिंदर पाल ने महिला की बेटी को किसी अन्य के साथ देखा था। यह बात उसने लड़की की मां को बताई थी तो दूसरे पक्ष ने वरिंदर को पीट-पीट कर जख्मी कर दिया।

वरिंदर उनके खिलाफ मारपीट का केस दर्ज करवा पाता, उससे पहले ही महिला के साथ मिलकर दुष्कर्म का झूठ केस दर्ज करवा दिया। किसान की मेडिकल रिपोर्ट कोर्ट में पेश की गई, जिससे साबित हुआ कि सेक्सुअल इंटरकोर्स नहीं हुआ था न ही पीड़िता का डीएनए करवाया गया था। बचाव पक्ष ने लड़की की मां से पूछा कि उनके पति का देहांत कब हुआ था तो उसने कहा था कि 1998 में। तब उसकी बेटी एक साल की थी। बचाव पक्ष ने दलील दी कि शिकायतकर्ता की बताई तारीख से यह साबित होता है कि लड़की नाबालिग नहीं बल्कि बालिग है। होटल की रसीद से यह बात साबित हुई है कि कमरा दविंदर पाल के नाम पर बुक था न कि वरिंदर पाल के। होटल के मैनेजर ने भी वरिंदर पाल का लड़की के साथ होटल में आने से इंकार कर दिया था। बवरिंदर पाल मारपीट का केस दर्ज न करवा सके, इसलिए उस पर झूठा केस दर्ज करवाया गया था। किसान ने दूसरे पक्ष पर कोर्ट में मारपीट का केस दायर कर दिया था।

खबरें और भी हैं...