पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लाजपत नगर का ट्रिपल मर्डर केस:4 साल में 14 एसएचओ बदले, नहीं पकड़े गए शूटर,फरवरी 2017 में बुजुर्ग महिला, उनकी बहू और उसकी सहेली की गोलियां मारकर की थी हत्या

जालंधर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शूटर विपन - Dainik Bhaskar
शूटर विपन

लाजपत नगर में ट्रिपल मर्डर हुए 4 साल बीत गए लेकिन आज तक शूटर विपन और उसका साथी अमृतपाल पकड़े नहीं जा सके। इस दौरान थाने में 14 एसएचओ बदल चुके हैं, लेकिन कातिल पकड़े नहीं जा सके। इतना ही नहीं, क्राइम सीन वाले थाने के बॉस माने जाते 4 एडीसीपी और 4 ही एसीपी रैंक के अधिकारी बदले जा चुके हैं। इस बीच 2 सीपी तक बदल गए। क्राइम ट्रेस करने को लेकर अकसर चर्चा में रहे सीपी गुरप्रीत सिंह भुल्लर से भी अभी तक दोनों हत्यारे बचे हुए हैं। वे भी दो साल से सिटी में बतौर कमिश्नर हैं लेकिन मामला अनट्रेस है।

‘कातिल पकड़ने की कोशिश कर रहे’ - पुलिस अगर हत्यारे पकड़ लेती तो साजिशकर्ता अमरिंदर सिंह उर्फ शंटू और उसकी कथित गर्लफ्रेंड रूबी बेल पर न आते। दोनों को हाईकोर्ट से अक्टूबर, 2020 में बेल मिल गई थी। वर्तमान में थाने में तैनात एसएचओ सुखदेव सिंह ने कहा कि मामला उनके नोटिस में है और कोशिश की जा रही है हत्यारे जल्द पकड़ लिए जाएं।

पुलिस से इंसाफ की उम्मीद खत्म : बरजिंदर पाल सिंह - लिंक कॉलोनी के रहने वाले फैक्ट्री मालिक बरजिंदर पाल सिंह ने कहा कि मेरी पत्नी खुशविंदर कौर उर्फ नीतू उस दिन अपनी सहेली परमजीत को मिलने गई थी, वहां गोलियां मारकर उसका कत्ल कर दिया गया। मेरी पत्नी के हत्यारे घूम रहे हैं जबकि साजिशकर्ता जमानत पर आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि आरोपी पक्ष फंडिंग कर रहा है। यही कारण है कि हत्यारे पकड़े नहीं गए। बरजिंदर ने कहा कि पुलिस से अब इंसाफ की उम्मीद खत्म होती नजर आ रही है क्योंकि साजिशकर्ता जमानत पर आ चुके हैं और वह सबूतों से छेड़खानी कर सकते हैं। उनकी जान को भी खतरा है।

शंटू ने माना था कि नौकर विपन से करवाई थी हत्या- लाजपत नगर में 23 फरवरी, 2017 की शाम उस समय सनसनी फैल गई थी, जब एकसाथ तीन कत्ल की सूचना आई थी। हत्यारे घर की मालकिन दलजीत कौर, उनकी बहू परमजीत कौर पम्मी और फैमिली फ्रेंड खुशविंदर कौर नीतू की हत्या कर गए थे। उन्हें गोलियां मारी गई थीं। हत्यारे घर के भेदी थे क्योंकि हत्या के बाद मेनगेट बंद करके पीछे का दरवाजा खोलकर भागे थे। तत्कालीन पुलिस कमिश्नर अर्पित शुक्ला ने साजिशकर्ता अमरिंदर सिंह उर्फ शंटू और उसकी कथित गर्लफ्रेंड रूबी को पकड़ा था।

शंटू ने माना था कि यह हत्या उसने नौकर विपन से करवाई थी। विपन ने इस काम में अपने दोस्त सुखविंदर सिंह का सहयोग लिया था। पुलिस ने ढिलवां स्थित गुरु अंगद देव कॉलोनी में रहते विपन और अमृतपाल के होशियारपुर के गांव सरहाल कलां में रेड की थी लेकिन दोनों दिल्ली भाग गए थे। पुलिस वहां गई तो दोनों मथुरा में पुलिस को गच्चा दे गए थे। पुलिस ने दावा किया था कि शंटू और रूबी के बीच अफेयर था। इसलिए

शंटू ने पत्नी के मर्डर की सुपारी नौकर को दी थी। शाम को शंटू की मां दलजीत कौर फीजियोथैरेपी करवाने जाती थी लेकिन वे नहीं गईं। परमजीत से मिलने उसकी सहेली खुशविंदर आ गई। इसलिए हत्यारे एक नहीं तीन खून करके निकल गए थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें