पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Jalandhar
  • Smoke Detection System Installed In The New Coaches Of The Train, Alarm Will Sound As Soon As There Is Smoke, There Will Be No Death Due To Smoke Due To Poly urethane Seat

भास्कर खास:ट्रेन के नए काेचों में लग रहे स्मॉक डिटेक्टिंग सिस्टम, धुंआ होते ही बजेगा अलार्म, पाॅली यूरीथिन सीट लगने से धुंए से नहीं होगी मौत

जालंधर14 दिन पहलेलेखक: संजू कुमार
  • कॉपी लिंक
रेल काेच फैक्ट्री में 150 काेच में यात्रियाें काे अाग से बचाव के लिए लगाया गया पाॅली यूरीथिन सिस्टम - Dainik Bhaskar
रेल काेच फैक्ट्री में 150 काेच में यात्रियाें काे अाग से बचाव के लिए लगाया गया पाॅली यूरीथिन सिस्टम

ट्रेनाें में आग की घटनाओ काे देखते हुए रेलवे प्रशासन ने काेच में यात्रियाें की सुरक्षा का इंतजाम किया है। पंजाब के कपूरथला रेल काेच फैक्ट्री में ऐसे नए रेल काेच तैयार किए जा रहे हैं, जाे यात्रियाें काे आग की लपटें और जहरीले धुंए से बचा सके। इंजीनियर्स द्वारा अब तक करीब 150 काेच में पाॅली यूरीथिन फाेम और स्माॅक डिटेक्टिंग सिस्टम का उपयाेग किया गया है।

जिससे मामूली आग लगने पर तुरंत पता चल सकेगा। साथ ही यात्रियाें काे आग से बचाया जा सकेगा। विंडाे के अंदर से आने वाली आग की लपटें कम हाेगी और यात्री की सीट तक नहीं पहुंच सकेगी। आग लगने पर कोच में आक्सीजन की कमी भी नहीं होगी। इस तकनीकी से सीट तैयार कर रेल काेच दिल्ली, यूपी, हरियाणा विभिन्न रेल मंडलाें काे भेजे जा चुके हैं।

आग लगने पर आक्सीजन की कमी नहीं होगी
आग लगने पर जहरीला धुंआ काेच में फैल जाता है। जहरीले धुंए की वजह से आक्सीजन नहीं मिल पाती। सांस लेना तक मुश्किल हाे जाता है। जिसके चलते व्यक्ति की जहरीले धंुए के कारण माैत हाे जाती है। आग जैसी आपातकालीन स्थिति में पाॅली यूरीथिन फाेम जहरीले धुंए काे खत्म करेगा। विंडाे पर लगे पॉली यूरीथिन फाेम धुंए काे काेच के अंदर नहीं आने देगा। साथ ही आग की लपटाें काे भी कम करेगा। यात्रियाें काे खुद का बचाव करने तक का समय मिल सकेगा।

ट्रेनाें में आग से बचाव के लिए नई तकनीकी का उपयाेग किया गया है। काेच की सीट और विंडाे में पाॅली यूरीथिन का उपयाेग किया गया है। जाे आग जैसे ज्वलनशील पदार्थ से बचाव कर सकेगी। नए काेचाें में इस तकनकी का उपयाेग किया जा चुका है।
-जितेंद्र कुमार, रेल काेच फैक्ट्री कपूरथला, (पीआरओ)

ऐसे करेगा सिस्टम काम...
नए रेल काेच में स्माॅक डिटेक्टिंग सिस्टम को लगाया जा रहा है। अगर ट्रेन के काेच में शाॅर्ट-सर्किट भी हाेती है, अन्य किसी कारण से आग लगती है या हल्का धुंआ काेच के भीतर आता है ताे तुरंत स्माॅक डिटेक्टिंग सिस्टम से पता चल सकेगा। धुंआ आने पर तुरंत आडियाे अलार्म बजेगा। रेलवे कर्मचारी सिग्नल लेकर पहले ट्रेन को राेकेंगे। इसके बाद तुरंत चेक करेंगे। एक्सपर्ट काेच की जांच करेगा। इसके बाद वह ओके की रिपाेर्ट देगा। तभी ट्रेन रवाना हाेगी।

खबरें और भी हैं...