कोरोना काल के बाद पहली बार:14 खेलों के स्पोर्ट्स विंग होंगे शुरू, ट्रायल 25 और 26 को

जालंधर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जालंधर में स्टेट स्पोर्ट्स स्कूल, हंस राज स्टेडियम और सुरजीत हाॅकी स्टेडियम में 14 खेलों के विंग में दाखिला होगा। - Dainik Bhaskar
जालंधर में स्टेट स्पोर्ट्स स्कूल, हंस राज स्टेडियम और सुरजीत हाॅकी स्टेडियम में 14 खेलों के विंग में दाखिला होगा।

कोरोना काल के बाद खेल विभाग 25 मई से 28 मई तक पंजाब के खेल सेंटरों में दाखिले के लिए ट्रायल लेने जा रहा है। जालंधर में स्टेट स्पोर्ट्स स्कूल, हंस राज स्टेडियम और सुरजीत हाॅकी स्टेडियम में 14 खेलों के विंग में दाखिला होगा। इसके लिए ट्रायलों का शेड्यूल जारी हो गया है। पूरे पंजाब में 23 जगह पर ट्रायल होने हैं। इनमें लड़के और लड़कियां हिस्सा लेंगे।

इनमें उम्र अंडर 14 साल, अंडर 17 और अंडर 19 कैटेगरी में ट्रायल होगा। जालंधर स्थित स्टेट स्कूल ऑफ स्पोर्ट्स के ट्रायल 25 व 26 मई को हों‌गे, जिनमें केवल अंडर 17 व अंडर 18 उम्र वर्ग में लड़के हिस्सा लेंगे। बाकी समूह जिलों के ट्रायल अंडर 14,17,19 उम्र वर्ग में लड़के-लड़कियों के ट्रायल होंगे। खिलाड़ियों के लिए होस्टल का भी प्रबंध है। खेल विभाग उन्हें डाइट और ट्रेनिंग देता है।

पूरे प्रदेश में 23 जगहों पर होंगे ट्रायल, अंडर 14, 17 और 19 के खिलाड़ी लेंगे हिस्सा
स्टेट स्पोर्ट्स स्कूल में एथलेटिक्स, बास्केटबाॅल, वालीबाॅल, तैराकी, फुटबाॅल, कबड्डी, हैंडबाॅल, वेट लिफ्टिंग, जिम्नास्टिक, बाक्सिंग के ट्रायल होंगे। हंसराज स्टेडियम में कुश्ती, बैडमिंटन, टेबल टैनिस के ट्रायल लिए जाएंगे। इसी प्रकार सुरजीत हॉकी स्टेडियम में खिलाड़ी हॉकी के लिए अपना प्रदर्शन करेंगे।

हिस्सा लेने के लिए खिलाड़़ी की योग्यता

  • खिलाड़ी शरीरिक तथा मानसिक रूप से तंदुरुस्त हो।
  • जिला स्तरीय या फिर राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में कोई एक स्थान अर्जित किया हो या राष्ट्रीय प्रतियोगिता में हिस्सा लिया हो।
  • सभी जिलों के खिलाड़ी हिस्सा ले सकते हैं जबकि बाकी लोग अपने-अपने जिले में विंग के लिए दाखिला के लिए ट्रायल देंगे।
  • चुने गए रेजिडेंशियल खिलाड़ी को रोज 200 रुपए तथा डे स्कॉलर को 100 रुपए खुराक के लिए दिए जाते हैं। खेल विभाग के कोच ट्रेनिंग देते हैं।
  • खिलाड़ी शरीरिक तथा मानसिक रूप से तंदुरुस्त हो।
  • जिला स्तरीय या फिर राज्य स्तरीय प्रतियोगिता में कोई एक स्थान अर्जित किया हो या राष्ट्रीय प्रतियोगिता में हिस्सा लिया हो।
  • सभी जिलों के खिलाड़ी हिस्सा ले सकते हैं जबकि बाकी लोग अपने-अपने जिले में विंग के लिए दाखिला के लिए ट्रायल देंगे।
  • चुने गए रेजिडेंशियल खिलाड़ी को रोज 200 रुपए तथा डे स्कॉलर को 100 रुपए खुराक के लिए दिए जाते हैं। खेल विभाग के कोच ट्रेनिंग देते हैं।
खबरें और भी हैं...