पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

दिल मिले:डॉ. संकेत के साथ सात जन्मों के बंधन में बंधीं सुगंधा

जालंधर5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुगंधा मिश्रा, डॉ. संकेत भोंसले के साथ फगवाड़ा स्थित क्लब कबाना में हुए समारोह में शादी के बंधन में बंध गईं। - Dainik Bhaskar
सुगंधा मिश्रा, डॉ. संकेत भोंसले के साथ फगवाड़ा स्थित क्लब कबाना में हुए समारोह में शादी के बंधन में बंध गईं।
  • एक दिन पहले पहुंचे बाराती, 24 घंटे क्वारेंटाइन रहे, उसके बाद शादी में शामिल हुए

कॉमेडियन, प्लेबैक सिंगर सुगंधा मिश्रा, डॉ. संकेत भोंसले के साथ फगवाड़ा स्थित क्लब कबाना में हुए समारोह में शादी के बंधन में बंध गईं। शादी से शाम करीब 6 बजे हल्दी की रस्म और करीब 7 बजे रिंग सेरेमनी की गई। इससे पहले सुगंधा की मेंहदी की फोटो सोशल मीडिया पर वायरल होती रहीं। कोविड-19 नियमों के चलते शादी को काफी प्राइवेट रखा गया था। सिर्फ पारिवारिक लोग ही शामिल रहे। सुगंधा की मां रविंद्रा डे बोर्डिंग स्कूल की प्रिंसिपल सविता मिश्रा ने बताया कि वे नहीं चाहते कि कोविड के इस समय में कोई भी परेशानी हो। इसलिए शादी केवल पारिवारिक सदस्यों की मौजूदगी में ही हो रही है। रात करीब 9:30 बजे मेहंदी की रस्म अदा की गई।

मराठी, पंजाबी और कई प्रकार के व्यंजनों से बारात का स्वागत

सुंगधा मिश्रा की बारात लेकर मुंबई से डॉ. संकेत भोंसले शादी से एक दिन पहले रविवार को ही जालंधर पहुंच गए थे। उनका स्वागत सुकेत पाउच और बुके देकर किया गया था। इसके बाद कोविड के चलते वे होटल क्लब कबाना में ही रुके। बारात में सिर्फ 10 लोग ही आए थे। सभी को 24 घंटे के लिए क्लब कबाना में क्वारेंटाइन भी किया गया था। शादी में मराठी, पंजाबी और कई प्रकार के व्यंजन बनाए गए थे।

सुगंधा ने रिंग सेरेमनी में पीले और गुलाबी रंग के कांबिनेशन की ड्रेस चुनी थी, जिस पर पीले रंग की ऑफ शोल्डर चोली और सिपियों व मोतियों के साथ जरी वर्क और सुनहरी धीगे से कढ़ाई की गई थी। लहंगे पर भी ऐसी ही कढ़ाई की गई थी। दूल्हे डॉ. संकेत ने सुगंधा के साथ मैच करती येलो और व्हाइट शेरवानी पहनी। सुगंधा की ड्रेस मुंबई की डिजाइनर ने डिजाइन की है। जबकि मेकअप शिखा मोहन ने किया। जयमाला लावां फेरे के लिए तैयार ऑफ व्हाइट लहंगे के साथ मैच करती बनाई गई। लहंगे पर मंदिर, मोर और कई प्रकार के डिजाइन बनाए गए थे। सुगंधा के ताया अरुण मिश्रा ने बताया कि लावां फेरे के लिए रात 2 बजे का शुभ मुहूर्त है जबकि डोली सुबह 5 बजे विदा होगी।

खबरें और भी हैं...